NDTV Khabar

AAP नेता संजय सिंह का अजय माकन पर पलटवार: अगर यही हरकतें रहीं तो कांग्रेस की जमानतें जब्त होंगी

बीते दिनों दिल्ली विधानसभा (Delhi Assembly)  में राजीव गांधी (Rajiv Gandhi) से भारत रत्न वापस लेने के प्रस्ताव पर जारी विवाद अभी थमा नहीं है.

738 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. संजय सिंह ने कांग्रेस नेता अजय माकन पर पलटवार किया.
  2. राजीव गांधी से भारत रत्न वापस लेने के प्रस्ताव पर है विवाद.
  3. अजय माकन ने गठबंधन पर बात कही थी.
नई दिल्ली:

बीते दिनों दिल्ली विधानसभा (Delhi Assembly)  में राजीव गांधी (Rajiv Gandhi) से भारत रत्न वापस लेने के प्रस्ताव पर जारी विवाद अभी थमा नहीं है. राजीव गांधी प्रकरण पर आम आदमी पार्टी (AAP) और कांग्रेस (Congress) आमने-सामने है. आम आदमी पार्टी के सीनियर नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने दिल्ली कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन पर हमला बोला और स्पष्ट शब्दों में कहा कि अगर ऐसी ही हरकतें रहीं तो इस बार फिर से कांग्रेस की जमानत जब्त हो जाएंगी.

राजीव गांधी पर AAP में रार पर बोले मनीष सिसोदिया : हमने न किसी से इस्तीफ़ा मांगा, न किसी पर दबाव बनाया

अजय माकन ने एक खबर को शेयर किया और ट्वीट किया. इस ट्वीट के जवाब में संजय सिंह ने लिखा कि 'अजय जी, अपनी पार्टी संभालिए. अगर आपकी यही हरकतें रहीं तो इस बार फिर से कांग्रेस की जमानतें जब्त होंगी. वैसे 0 सीट पाने के बाद भी इतना गुमान करना माकन से सीखना चाहिए.' 


दरअसल बीते दिनों दिल्ली विधानसभा में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को मिले भारत रत्न को वापस लिए जाने की मांग वाले प्रस्ताव पर विवाद खड़ा हो गया था. इस मसले पर आम आदमी पार्टी का कहना है कि राजीव गांधी से जुड़ा कोई प्रस्ताव विधानसभा में पास नहीं किया गया है. वहीं अजय माकन ने एक ट्वीट कर कहा कि राजीव गांधी भारत रत्न वापसी पर AAP ने कांग्रेस के साथ 2019 के गठबंधन को खतरे में डाला है.

टिप्पणियां

दिल्ली विधानसभा में राजीव गांधी से भारत रत्न की वापसी के प्रस्ताव पर दंगल, जानें कौन ले रहा है यूटर्न

बीते दिनों विधानसभा सचिवालय द्वारा जारी ‘सदन की कार्यवाही के संक्षिप्त सारांश' के अनुसार दिल्ली विधानसभा की 21 दिसम्बर की कार्यवाही के दौरान 1984 सिख विरोधी दंगों पर पारित प्रस्ताव में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के नाम का उल्लेख नहीं है. सदन की कार्यवाही का तीन पृष्ठ का यह सारांश सोमवार को जारी किया गया. इसके अनुसार प्रस्ताव में 1984 सिख-विरोधी दंगों को ‘नरसंहार' बताया गया है और इसमें राजीव गांधी के नाम का उल्लेख नहीं है. 
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement