NDTV Khabar

छेड़छाड़ के मामले में गिरफ्तार हुए JNU के प्रोफेसर अतुल जौहरी, मिली जमानत

दिल्ली की एक अदालत ने कई छात्राओं से यौन उत्पीड़न के मामले में गिरफ्तार जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के प्रोफेसर अतुल जौहरी को आज जमानत दे दी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
छेड़छाड़ के मामले में गिरफ्तार हुए JNU के प्रोफेसर अतुल जौहरी, मिली जमानत

खास बातें

  1. अदालत ने अतुल जौहरी को जमानत दी
  2. पूछताछ के बाद किया गया था गिरफ्तार
  3. 9 छात्राओं ने लगाया था छेड़खानी का आरोप
नई दिल्ली:

दिल्ली की एक अदालत ने कई छात्राओं से यौन उत्पीड़न के मामले में गिरफ्तार जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के प्रोफेसर अतुल जौहरी को आज जमानत दे दी. ड्यूटी मजिस्ट्रेट ऋतु सिंह ने जौहरी की जमानत की अर्जी मंजूर करते हुए प्रोफेसर को उनके खिलाफ दर्ज आठ प्राथमिकियों में प्रत्येक के लिए30-30 हजार रुपये का मुचलका भरने का आदेश दिया. प्रोफेसर ने जमानत याचिका दायर करते हुए कहा कि जेल भेजे जाने से उनका करियर खत्म हो जाएगा. कुछ छात्राओं द्वारा प्रोफेसर पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाये जाने के बाद छात्र, प्रोफेसर और महिला अधिकार संगठन उनकी गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे. इससे पहले प्रोफेसर की गिरफ्तारी की मांग को लेकर कल जेएनयू के छात्रों ने वसंत कुंज थाने के बाहर प्रदर्शन किया. वहीं ऑल इंडिया डेमोक्रेटिक वीमेन्स एसोसिएशन और ऑल इंडिया महिला सांस्कृतिक संगठन सहित महिला अधिकार संगठनों ने इस मुद्दे को लेकर थाने के बाहर प्रदर्शन किया था.

यह भी पढ़ें: JNU यौन उत्पीड़ मामला: प्रोफेसर अतुल जोहरी पुलिस के सामने पूछताछ में होंगे शामिल


इससे पहले दिल्ली के जेएनयू में 9 छात्राओं से छेड़ख़ानी के आरोपी प्रोफ़ेसर अतुल जौहरी को गिरफ़्तार कर लिया गया है. पुलिस ने उन्हें गिरफ़्तार करके दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया. 4 पीड़ित लड़कियों ने कोर्ट में उनके खिलाफ़ बयान दर्ज कराया है. जेएनयू के स्कूल ऑफ़ लाइफ़ साइंसेंस की छात्राएं प्रोफ़ेसर अतुल जौहरी के निलंबन और उनकी गिरफ़्तारी की मांग को लेकर लगातार विरोध प्रदर्शन कर रही थीं. वहीं, आरोपी प्रोफ़ेसर का कहना है कि उन्होंने 75% हाज़िरी को लेकर सख़्ती दिखाई, इसलिए साज़िश के तहत उनपर आरोप लगाए जा रहे हैं. 

​यह भी पढ़ें: JNU के 17 छात्रों के ख़िलाफ़ FIR दर्ज, डीन के दफ़्तर में हंगामे का आरोप

टिप्पणियां

प्रोफेसर अतुल के वकील ने कोर्ट में कहा कि प्रोफेसर 2004 से जेएनयू में काम कर रहे हैं, उन्हें राजनीतिक साजिश के तहत फंसाया जा रहा है. वहीं, पुलिस ने कोर्ट में कहा उन्हें अतुल जौहरी की कस्टोडियल रिमांड नहीं चाहिए. इसके बाद प्रोफेसर के वकील ने कोर्ट में बेल की अर्जी लगाते हुए कहा कि जेल भेजने से उनके क्लाइंट का कैरियर खत्म हो जाएगा. इससे पहले दिल्ली पुलिस ने अतुल जौहरी के खिलाफ कथित यौनाचार के मामले में आठ प्राथमिकी दर्ज किया था. पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा था, "प्रोफेसर को पुलिस जांच में सहयोग करने के लिए एक नोटिस जारी किया गया है. वह सोमवार को पेश नहीं हुए थे. हमने उन्हें आज बुलाया था."

VIDEO: JNU की 9 छात्राओं का प्रोफ़ेसर पर छेड़खानी का आरोप
संयुक्त पुलिस आयुक्त अजय चौधरी ने कहा था, "हमने शिकायतकर्ताओं के बयान दर्ज किए हैं. कुछ अन्य छात्राओं ने पुलिस से संपर्क किया है और जौहरी के खिलाफ उसी तरह के आरोप लगाए हैं. इसकी जांच की जा रही है. कानूनी कार्रवाई शुरू की जाएगी. जांच की निगरानी अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त मोनिका भारद्वाज कर रही हैं." इससे पहले छात्रों ने पुलिस पर जौहरी को गिरफ्तारी से बचाने का आरोप लगाया. विरोध प्रदर्शन कर रही छात्रा प्रियंका गुप्ता ने कहा, "हम वसंत कुंज पुलिस थाने में प्रोफेसर जौहरी के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं, लेकिन उन्हें अबतक गिरफ्तार नहीं किया गया है, क्योंकि दिल्ली पुलिस उन्हें बचा रही है."


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
 Share
(यह भी पढ़ें)... ईवीएम को हैक करने के दावों में कितना दम?

Advertisement