लॉकडाउन की वजह से हुए नुकसान की भरपाई करने के लिए नामी स्कूल के मालिक बन गए ब्लैकमेलर

दिल्ली के रोहिणी सेक्टर 3 के एक नामी स्कूल के मालिक, उनके बेटे, स्कूल की प्रिंसिपल और स्कूल के एडमिन विभाग के एक कर्मचारी पर एक चावल कारोबारी को आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दिल्ली पुलिस ने दर्ज किया है.

लॉकडाउन की वजह से हुए नुकसान की भरपाई करने के लिए नामी स्कूल के मालिक बन गए ब्लैकमेलर

स्कूल मालिक और चावल कारोबारी पहले कभी बिज़नेस पार्टनर हुआ करते थे.

खास बातें

  • स्कूल के मालिक और उसके पर व्यापारी को आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप
  • मृतक के भतीजे के आरोपों पर पुलिस ने दर्ज की एफआईआर
  • अतीत में स्कूल और मालिक और व्यापारी बिजनेस पार्टनर रह चुके हैं
नई दिल्ली:

दिल्ली के रोहिणी सेक्टर 3 के एक नामी स्कूल के मालिक, उनके बेटे, स्कूल की प्रिंसिपल और स्कूल के एडमिन विभाग के एक कर्मचारी पर एक चावल कारोबारी को आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दिल्ली पुलिस ने दर्ज किया है. पुलिस द्वारा दर्ज की गई FIR में लगाए गए आरोप के मुताबिक लॉकडाउन की वजह से सरकार ने स्कूल को पेरेंट्स से पूरी फीस वसूलने पर रोक लगा दी थी, जिसकी वजह से स्कूल को भारी नुकसान उठाना पड़ा था. स्कूल को हुए नुकसान की भरपाई करने के लिए स्कूल के मालिक बाप-बेटे ने एक चावल कारोबारी से उसकी 20 करोड़ की प्रोपर्टी हड़पने के लिए अश्लील फोटो और वीडियो दिखाकर उसे झूठे केस में फंसाने की धमकी देने लगे.

आरोप है कि दोनों बाप-बेटे के अलावा कारोबारी को धमकाने और झूठे केस में फंसाने के मामले में स्कूल की प्रिंसिपल और स्कूल के ऑफिस का एक कर्मचारी भी शामिल था. मृतक के भतीजे ने पुलिस को दी अपनी शिकायत में दावा किया है कि उसके चाचा को रोहिणी सेक्टर-3 स्थित एक नामी स्कूल के मालिक, उसके बेटे और स्कूल की प्रिंसिपल ने 20 जून को प्रॉपर्टी हथियाने के मकसद से कारोबारी को स्कूल मीटिंग करने के लिए बुलाया. मृतक कारोबारी जब स्कूल पहुंचा तो देखा कि स्कूल की प्रिंसिपल भी कैबिन में बैठी हुई थी. 

मृतक कारोबारी से स्कूल मालिक ने प्रॉपर्टी के कागज़ों पर साइन कर प्रॉपर्टी उनको देने को कहा. मना करने पर उनको कुछ फोटो और वीडियो दिखाए और उन वीडियो के आधार पर कारोबारी को झूठे केस में फंसाने की धमकी देने लगे. स्कूल मालिक और चावल कारोबारी पहले कभी बिज़नेस पार्टनर हुआ करते थे. इसलिए दोनों एक दूसरे की कमियों को अच्छी तरह जानते थे. आरोप है कि लगातार मिल रही धमकियों से परेशान चावल कारोबारी ने 25 जून को पीतमपुरा स्थित अपने घर मे सल्फास की गोलियां खाकर आत्महत्या कर ली. 

मरने से पहले कारोबारी ने बाकायदा एक सुसाइड नोट भी छोड़ा था जिसको पुलिस ने बरामद कर लिया है. परिवार की शिकायत पर रानी बाग़ पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. मृतक कारोबारी के सुसाइड नोट में उसने आत्महत्या करने की वजह उसके पार्टनर द्वारा प्रताड़ित करना बताया है. सुसाईड नोट में लिखा है मृतक की एक प्रॉपर्टी के दस्तावेज को बैंक में मॉर्टगेज करके लोन लिया था और अब वो मृतक की दूसरी प्रॉपर्टी के कागज़ भी मांग रहे थे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com