NDTV Khabar

दिल्ली में बिजली चोरी के खिलाफ अभियान के दौरान भीड़ ने इंजीनियर को खदेड़ा, मौत

बिजली वितरण कंपनी बीएसईएस द्वारा बिजली चोरी रोकने के लिए चलाए गए एक अभियान के दौरान भीड़ द्वारा खदेड़े जाने के दौरान एक युवा इंजीनियर की मौत हो गई.

9 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली में बिजली चोरी के खिलाफ अभियान के दौरान भीड़ ने इंजीनियर को खदेड़ा, मौत

बीएसईएस ने कहा कि बिजली चोरी रोकने में पहली बार कंपनी के किसी शख्स की जान गई है (प्रतीकात्मक चित्र)

खास बातें

  1. बीएसईएस ने कहा - झुलझुली गांव में बिजली जांच टीम पर हमला किया गया
  2. 'बाइक सवार गुंडों ने लौटते समय टीम की कार का पीछा किया'
  3. 'भगदड़ में कार के पेड़ से टकरा जाने के कारण इंजीनियर की मौत हो गई'
नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली के जफरपुर कलां इलाका में बिजली वितरण कंपनी बीएसईएस द्वारा बिजली चोरी रोकने के लिए चलाए गए एक अभियान के दौरान भीड़ द्वारा खदेड़े जाने के दौरान एक युवा इंजीनियर की मौत हो गई.

बीएसईएस द्वारा जारी बयान में कहा गया, 'पहले झुलझुली गांव में जांच टीम पर क्रूरतापूर्वक हमला किया गया, जिससे उन्हें पीछे हटने पर मजबूर होना पड़ा. जब टीम के सदस्य वापस लौट रहे थे तो बाइक पर सवार गुंडों ने उनका पीछा किया. इस भगदड़ में दल की कार पेड़ से टकराकर दुर्घटनाग्रस्त हो गई और कार में सवार सभी पांच लोग घायल हो गए. उनमें से एक युवा इंजीनियर की बाद में गंभीर चोटों के कारण मौत हो गई.'

यह भी पढ़ें
बिजली चोरी के मामले में दिल्ली के शख्स पर 1.48 करोड़ रुपये का जुर्माना
दो कमरों का घर.. दो बल्ब और दो पंखों का बिल 75 करोड़ रुपये?
मध्य प्रदेश में बिजली चोरों से कंपनियों ने वसूले 26 करोड़ रुपये


बीएसईएस ने कहा कि बिजली चोरी रोकने में पहली बार कंपनी के किसी कर्मचारी की जान गई है. दिल्ली पुलिस के साथ होने के बावजूद यह दुखद घटना हुई. झुलझुली गांव में बड़े पैमाने पर बिजली चोरी हो रही है. उसकी जांच के लिए तीन दल वहां गए थे. बयान में कहा गया, 'हमला इतना भीषण था कि एक बार फिर दिल्ली पुलिस की मौजूदगी भीड़ को हमला करने से नहीं रोक सकी.' बहरहाल, पुलिस ने इन दावों का खंडन करते हुए कहा कि लापरवाही से वाहन चलाने के संदिग्ध मामले में इंजीनियर की मौत हुई

वीडियो


पिछले महीने भी पश्चिमी दिल्ली में बिजली चोरी रोकने गई बीएसईएस की टीम और दिल्ली पुलिस की टीम पर हमला हुआ था, जिसमें कई अधिकारी घायल हुए थे और कई वाहनों को नुकसान पहुंचा था. बीएसईएस ने कहा कि जाफरपुर क्षेत्र में पिछले पांच सालों में बिजली चोरी के 14,000 मामले पकड़े गए, जिनका कनेक्शन लोड 33,000 केवी था. इसके बाद दूसरे नंबर पर मुंडका क्षेत्र है.
(इनपुट एजेंसियों से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement