NDTV Khabar

बुराड़ी कांड: ललित अपने पिता समेत 5 आत्माओं को दिलाना चाहता था 'मुक्ति'

दिल्ली पुलिस ने बुराड़ी में रहस्यमय तरीके से एक परिवार के 11 सदस्यों की मौत मामले की तह तक जाने के लिए परिवार की मानसिकता का पता लगाने के लिए सभी शवों का साईकोलॉजिकल ऑटोप्सी करवाएगी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बुराड़ी कांड:  ललित अपने पिता समेत 5 आत्माओं को दिलाना चाहता था 'मुक्ति'

बुराड़ी में आत्‍महत्‍या करने वाले परिवार की फाइल फोटो

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने बुराड़ी में रहस्यमय तरीके से एक परिवार के 11 सदस्यों की मौत मामले की तह तक जाने के लिए परिवार की मानसिकता का पता लगाने के लिए सभी शवों का साईकोलॉजिकल ऑटोप्सी करवाएगी. इस मामले में क्राइम ब्रांच की एक टीम उदयपुर में है, जो ललित की पत्नी टीना के घरवालों से पूछताछ कर ये पता करने की कोशिश कर रही है कि क्या ललित की पत्नी ने अपने घरवालों को बताया था की ललित को उसके  नजर आते हैं. 

बुराड़ी कांड के बाद अब महाराष्ट्र के रायगढ़ में एक ही परिवार के 5 लोगों ने की खुदकुशी की कोशिश

वहीं बुराड़ी में 11 मौतों के मामले में क्राइम ब्रांच को रजिस्टर में लिखी बातों में एक अहम खुलासा हुआ है कि ललित अपने पिता के अलावा 4 और अन्य लोगों की आत्मा को मुक्ति दिलाना चाहता था और ऐसा अंदेशा है कि घटना वाली रात इसीलिए भी इस क्रिया की तैयारी की गई थी. 

बुराड़ी कांड : फांसी पर लटकने से पहले किया था टोटका, लगता था - पानी का रंग बदलेगा, हम बच जाएंगे

9 जुलाई 2015 को लिखे एक पन्ने में लिखा है कि अपने सुधार में गति बढ़ा दो यह भी तुम्हारा धन्यवाद करता हूं कि तुम भटक जाते हो पर फिर एक दूसरे की बात मानकर एक छत के नीचे मेल मिलाप कर लेते हो. 5 आत्माएं अभी मेरे साथ भटक रही है, अगर तुम अपने मे सुधार करोगे तो उन्हें भी गति मिलेगी. तुम तो सोचते होंगे कि हरिद्वार जाके सब कुछ कर आएं तो गति मिल जाएगी. जैसे मैं इस चीज़ के लिए भटक रहा हूं ऐसे ही सज्जन सिंह, हीरा, दयानंद, गंगा देवी मेरे सहयोगी बने हुए हैं. ये भी यही चाहते हैं कि ़़तुम सब सही कर्म करके अपना जीवन सफल बनाओ. 

बुराड़ी कांड: 1 आत्मा को खुश करने के चक्कर में चली गई 11 लोगों की जान, 11 बातें

अगर हमारे नियमित काम पूरे हो जाएंगे तो हम अपने वास को लौट जाएंगे. ललित के रजिस्‍टर में इन चार नाम का ज़िक्र किया गया है. पुलिस ये पता लगाने की कोशिश कर रही है कि ये चारों कौन है. दिल्ली पुलिस ने बुराड़ी में रहस्यमय तरीके से एक परिवार के 11 सदस्यों की मौत मामले की तह तक जाने के लिए परिवार की मानसिकता का पता लगाने के लिए शवों का साईकोलॉजिकल ऑटोप्सी कराने का निर्णय लिया है. 

बुराड़ी मौतें : ललित को परिवारवाले बुलाते थे ‘काका’ और उसके पिता को ‘डैडी’, पूरे घर को देता था ऐसी ‘धमकी’

आपको बता दें कि क्राइम ब्रांच की एक टीम उदयपुर में है जो ललित की पत्नी टीना के घरवालों से पूछताछ कर ये पता करने की कोशिश कर रही है की क्या ललित की पत्नी ने अपने घरवालों को बताया था कि ललित को उसके  नजर आते हैं. वहीं उन 13 लोगों के बयान भी लिये जा रहे जो प्रियंका की सगाई 17 जून से दो दिन पहले यानी 15 जून को बुराड़ी वाले घर मे आकर रुके थे. ये सभी 13 लोग सगाई होने के करीब 10 दिन बाद घर से वापस अपने-अपने घर वापस चले गए थे. करीब 23 तारिख़ को उसके बाद घर मे ललित ने विशेष पूजा शुरू की.  इन सभी लोगो ने पूछताछ कर ये पता लगाया जाएगा कि क्या जितने दिन ये तमाम रिशेतदार घर में रुके उन्होंने क्या-क्या फील क्या? बाकी लोगों की क्या दिनचर्या देखी? क्या कोई ऐसी चीज नोटिस करी जो अजीब लगी तो खासकर ललित को लेकर

11 साल पहले ही शुरू हो गई थी बुराड़ी में 11 मौतों की कहानी...

टिप्पणियां
क्राइम ब्रांच विमहन्स अस्पताल के मनोचिकित्सक की मदद ले रही है, सभी मृतक 11 लोगों की साईकोलॉजीकल ऑटोप्सी करवा सकती है. मेडिकल साइंस में इसका मतलब होता है, मरने वाले के दिमाग को स्टडी करना यानी मरने से पहले उसके बर्ताब में क्या क्या तब्दीली आई.

VIDEO: बुराड़ी कांड का CCTV फुटेज आया सामने

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement