कोरोनावायरस: लॉकडाउन से हाल हुआ बेहाल, 100 से ज्यादा मरीज और उनके तीमारदार भूखे रहने को मजबूर

साउथ वेस्ट दिल्ली के सफदरजंग डेवलपमेंट एरिया स्थित SDA मार्केट के पास रतिलाल ग्राम धर्मशाला में 100 से ज्यादा टीवी, केंसर, किडनी और न्यूरो जैसे बीमारी से ग्रस्त मरीज और उनके तीमारदार भूख से परेशान हैं.

कोरोनावायरस: लॉकडाउन से हाल हुआ बेहाल, 100 से ज्यादा मरीज और उनके तीमारदार भूखे रहने को मजबूर

कर्फ्यू से दिल्ली के सड़कों पर निकलना मुश्किल- प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली:

साउथ वेस्ट दिल्ली के सफदरजंग डेवलपमेंट एरिया स्थित SDA मार्केट के पास रतिलाल ग्राम धर्मशाला में 100 से ज्यादा टीवी, केंसर, किडनी और न्यूरो जैसे बीमारी से ग्रस्त मरीज और उनके तीमारदार भूख से परेशान हैं. सरकार द्वारा कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन का सपोर्ट कर रहे हैं. सभी ने कहा कि वे दिल्ली में लगे कर्फ्यू का सम्मान करते हैं लेकिन उन्हें किसी भी प्रकार की कोई सुविधा उपलब्ध नहीं हो रही है, इससे काफी परेशान भी हैं. सभी लोग किसी तरह अपनी जिंदगी जी रहें हैं. कोई कुछ दे देता है तो उसी को खाकर गुजर बसर कर रहे हैं. लॉक डाउन के दौरान पिछले 2 दिनों से भूखे हैं. न ही सरकार की ओर से कोई हेल्प मिल रहा है और न कोई अब कुछ भी दे रहा है.

रतीलाल गामी सेवा सदन धर्मशाला, जोकि साउथ ईस्ट दिल्ली के सफदरजंग डेवलपमेंट एरिया के SDA मार्केट के पास है. ये धर्मशाला मरीज और उनके तीमारदारों को काफी सस्ते कीमत में कमरा उपलब्ध कराता है, जिससे यहां लाडो सराय स्थित टीवी हॉस्पिटल, एम्स हॉस्पिटल और सफदरजंग अस्पताल में इलाज करा रहे मरीज और तीमारदारों का तांता लगा रहता है. अभी इस धर्मशाला में यूपी, बिहार, उड़ीसा, असम और महाराष्ट्र समेत कई राज्यों से 100 से ज्यादा मरीज और उनके तीमारदार रह रहे हैं. यहां कोई 15 दिनों से कोई 1 महीने तो कोई 1 सप्ताह से रह रहा है और ये सभी अस्पतालों में अपना या अपने रिश्तेदारों इलाज कर रहे हैं.

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण से 1 दिन के जनता कर्फ्यू के बाद दिल्ली में लॉक डाउन और उसके बाद कर्फ्यू लगा दिया गया है. जिसके बाद न कोई गाड़ी चल रही है और न ही मेट्रो जिससे इन मरीजों को अस्पताल में रोजाना इलाज कराने और जांच कराने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. इनलोगों का कहना है कि दिल्ली समेत भारत के सभी राज्यों में सरकार के द्वारा लॉक डाउन और कर्फ्यू लगाना सही फैसला है पर इस फैसले के बाद निचले स्तर, बाहर से आये लोग और मजदूर तबके जैसे लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है.

पिछले 2 दिनों से यहां रह रहे मरीजों और उनके तीमारदारों को खाना नसीब नही हो पा रहा है. 2-3 दिन पहले तक तो कोई कुछ दे जाता था जिससे 1 वक्त खाना खाकर किसी तरह गुजारा कर लेते थे पर अब तो भूख से परेशान हैं. न आसपास कोई दुकान है और जब कही दूर जाकर कुछ जाने के लिए निकलते हैं तो दिल्ली पुलिस सवाल जबाब करने लगती है. कोरोना वायरस का संक्रमण दिल्ली समेत भारत के कई राज्यों लगातार बढ़ता ही जा रहा है. 

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com