Delhi Assembly Election: ठंडा रहा भाजपा का चुनाव से पहले बुलाया गया व्यापारी सम्मेलन

तालकटोरा स्टेडियम में इतने व्यापारी नही जुट सके कि सारी कर्सियां भी भर सकें. एक तरफ अपेक्षाकृत कम व्यापारी इस सम्मेलन में शिरकत करते नजर आए तो दूसरी तरफ इस सम्मेलन की मुख्य वक्ता वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण इस कार्यक्रम में नहीं पहुंच पाई.

Delhi Assembly Election: ठंडा रहा भाजपा का चुनाव से पहले बुलाया गया व्यापारी सम्मेलन

तालकटोरा स्टेडियम में भाजपा द्वारा आयोजित सम्मेलन में जुटे व्यापारी

खास बातें

  • तालकटोरा स्टेडियम में 'विशाल व्यापारी सम्मेलन' का आयोजन किया
  • उम्मीद थी इस सम्मेलन से भाजपा व्यापारियों में अपनी पैठ का प्रदर्शन करेगी
  • स्टेडियम में इतने व्यापारी भी नहीं जुट सके कि सारी कर्सियां भी भर सकें
नई दिल्ली:

दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में 'विशाल व्यापारी सम्मेलन' का आयोजन किया. उम्मीद थी कि इस सम्मेलन से भाजपा व्यापारियों में अपनी पैठ का प्रदर्शन करेगी, लेकिन भाजपा का यह सम्मेलन उम्मीद के मुताबिक नहीं रहा. स्टेडियम में इतने व्यापारी भी नहीं जुट सके कि सारी कर्सियां भर सकें. एक तरफ अपेक्षाकृत कम व्यापारी इस सम्मेलन में शिरकत करते नजर आए तो दूसरी तरफ इस सम्मेलन की सबसे अहम और मुख्य वक्ता वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण इस कार्यक्रम में नहीं पहुंच पाई. वहीं वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल भी काफी देरी से इस कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे. व्यापारी सम्मेलन के लिए बीजेपी ने दोपहर 2:30 बजे का समय रखा था, लेकिन पीयूष गोयल शाम 5:30 बजे इस कार्यक्रम में पहुंचे तो ज़्यादातर व्यापारी जा चुके थे. 

रविशंकर प्रसाद ने कहा, दिल्ली में आयुष्मान योजना से लोगों को लाभ क्यों नहीं मिलने दिया जा रहा?

पीयूष गोयल ने सम्मेलन में मौजूद बीजेपी नेताओं और वहां पर मौजूद व्यापारियों को आने में देरी की वजह बताते हुए कहा, 'मेरी मुंबई से सुबह 10:30 बजे की फ्लाइट थी जो ढीले होते होते आखिर में 3:30 बजे टेक ऑफ हो पाई इसके चलते मुझे यहां आने में देरी हुई मैं आप सब से माफी चाहता हूं.' भाजपा के लिए व्यापारी वह वर्ग है जो उसको नोट और वोट दोनों देता है. यह हमेशा माना जाता है कि व्यापारी वर्ग मुख्यतः किसी भी सूरत में भाजपा को ही समर्थन देता है. ऐसे में ठीक चुनाव से पहले व्यापारी वर्ग का भाजपा से जोड़ता ना देखना बीजेपी के लिए चिंता का विषय जरूर है.

Delhi Weather Today : शिमला से भी ठंडी दिल्ली, छाई है भीषण धुंध की चादर

वैसे व्यापारी सम्मेलन में व्यापारियों की तरफ से जो सबसे बड़ा मुद्दा उठाया गया वह था सीलिंग का मुद्दा. व्यापारी नेता प्रवीण खंडेलवाल ने कार्यक्रम में मौजूद अहम और मुख्य वक्ताओं में से एक केंद्रीय आवासन एवं शहरी कार्य मंत्री हरदीप पुरी से मांग की कि जिस तरह से आपने दिल्ली की 1731 अनाधिकृत कॉलोनियों को नियमित करने का कानून पास किया है ठीक उसी तरह आप व्यापारियों को सीलिंग के रावण के निजात दिलाइए. एक कट ऑफ डेट तय करें जिससे अभी तक जिन की दुकानें और प्रतिष्ठान सील हुए हैं उनको माफी मिल सके और मॉनिटरिंग कमेटी ने जो अब तक करीब 9000 दुकान या प्रतिष्ठान सील किए हैं उनको डीसील किया जा सके.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

दिल्ली विधानसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस का बड़ा ऐलान, कहा- अगर सरकार मे आए तो हम...

इसका जवाब देते हुए केंद्रीय आवासन एवं शहरी कार्य मंत्री हरदीप पुरी ने कहा, 'इस मामले का कानूनी हल ढूंढना जरूरी है. मेरी पार्टी के लोग भी कई बार मुझे कहते हैं कि एक अध्यादेश लाकर सेलिंग पर रोक लगाई जाए. लेकिन मेरा कहना है कि अगर हम इस तरह से अध्यादेश लाएंगे तो सुप्रीम कोर्ट में वह रद्द हो जाएगा.' जबकि भाजपा दावा कर रही है कि वो हमेशा व्यापारियों के साथ खड़ी रही. दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहां की बीजेपी व्यापारियों के साथ सड़क पर संघर्ष कर रही थी. तिवारी ने अपना मामला बताते हुए कहा कि खुद मैंने सीलिंग तोड़ी थी. उस समय लोगों ने मुझे कहा कि तुम अपना भविष्य दांव पर लगा रहे हो, सुप्रीम कोर्ट का मामला है हो सकता है तुम आगे चुनाव ना लड़ सको, लेकिन मैंने भी कहा कि ऐसा चुनाव लड़के क्या करना है जिसमें लोगों के काम ना आ सकूं? मनोज तिवारी ने दावा किया, 'हमने दिल्ली में सीलिंग के 90% रास्ते बंद कर दिए हैं और जल्द ही आने वाले समय में हम लोग डी-सीलिंग ड्राइव चलाएंगे.'