CM केजरीवाल ने लोगों से पूछा- 17 मई के बाद क्या होना चाहिए? क्या लॉकडाउन में दी जानी चाहिए ढील

कोरोनावायरस (Coronavirus) के चलते लॉकडाउन समेत तमाम मुद्दों को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की.

नई दिल्ली:

कोरोनावायरस (Coronavirus) के चलते लॉकडाउन समेत तमाम मुद्दों को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. उन्होंने कहा, ''लॉकडाउन 17 मई तक है. हालांकि प्रधानमंत्री जी ने इस पर चर्चा की थी. प्रधानमंत्री जी ने पूछा कि कौन सा राज्य क्या चाहता है. प्रधानमंत्री जी ने कहा कि 15 तारीख तक अपने अपने सुझाव भेज दीजिए और उन सुझावों पर फिर केंद्र सरकार निर्णय लेगी. मैं आज दिल्ली के लोगों से सुझाव मांगना चाहता हूं. 17 मई के बाद क्या होना चाहिए? क्या लॉकडाउन में ढिलाई दी जानी चाहिए? अगर दी जानी चाहिए तो कितनी और किस क्षेत्र में कितनी-कितनी दी जानी चाहिए?''

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने यह भी कहा, ''क्या ऑटो टैक्सी चालू होने चाहिए? क्या स्कूल, मार्केट और इडस्ट्रियल एरिया खोलने चाहिए? जाहिर सी बात है कि सोशल डिस्टेंसिंग कड़ाई से की जाएगी. सबके लिए मास्क पहनना अनिवार्य होगा. कल शाम 5:00 बजे तक अपने सुझाव मुझे भेज दीजिए. मैं जनता के सुझाव भी ले रहा हूं. एक्सपर्ट से बात भी करूंगा. डॉक्टर से भी बात करूंगा और जितने अच्छे सुझाव आएंगे उनको डॉक्टर और एक्सपर्ट से बात करके हम दिल्ली वालों की तरफ से प्रस्ताव बनाकर केंद्र प्रकार को भेज देंगे. परसों तक हम अपना प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेज देंगे.''

उन्होंने फीडबैक देने के लिए डिटेल्स भी दिए हैं-
फोन नंबर- 1031
व्हाट्सएप्प- 8800007722
Email- delhicm.suggestions@gmail.com

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

सीएम केजरीवाल ने आगे कहा, ''नगर निगम के स्कूल में एक टीचर थी, उनका सेवा करते-करते कोरोना के चलते देहांत हो गया. वह कॉन्ट्रैक्ट पर थीं और उनकी ड्यूटी लगी थी कि गरीबों के लिए जो दिल्ली सरकार खाना बांट रही है उसको गरीबों को बांटे. 4 मई को उनका देहांत हो गया. खाना बांटते वक्त उनको भी कोरोना हो गया. उनके परिवार को दिल्ली सरकार एक करोड़ रुपये देगी. हमें ऐसे कोरोना वारियर पर गर्व है.''

उन्होंने कहा, ''दिल्ली में बहुत सारे कंस्ट्रक्शन का काम करने वाले मजदूर हैं. पिछले महीने हमने 10 लक्षण मजदूरों के खाते में ₹5000 डाले थे इस महीने फिर से ₹5000 उनके खातों में डाल रहे हैं.''