NDTV Khabar

मुख्‍य सचिव से मारपीट मामला : 'आप' के गिरफ्तार विधायक 14 दिन की न्‍यायिक हिरासत में जेल भेजे गए

अदालत ने इस मामले में गिरफ्तार आप विधायकों अमानतुल्लाह खान और प्रकाश जारवाल को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल भेज दिया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मुख्‍य सचिव से मारपीट मामला : 'आप' के गिरफ्तार विधायक 14 दिन की न्‍यायिक हिरासत में जेल भेजे गए

आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्‍लाह खान (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. मुख्यमंत्री के सलाहकार वी के जैन सरकारी गवाह बन गए हैं
  2. आदमी पार्टी ने कहा कि वी के जैन ने पुलिस के सामने कुछ और बयान दिया था
  3. पुलिस ने कहा, 'हमें अब तक अंदर की सीसीटीवी फुटेज नहीं दी गयी'
नई दिल्‍ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री आवास पर मुख्य सचिव के साथ कथित मारपीट के मामले में एक नया मोड़ आ गया है. मुख्यमंत्री के सलाहकार ने सरकारी गवाह बनते हुए कोर्ट में बयान दिया कि मारपीट उन्हीं के सामने हुई थी. अदालत ने इस मामले में गिरफ्तार आप विधायकों अमानतुल्लाह खान और प्रकाश जारवाल को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल भेज दिया. मामले की सुनवाई अब शुक्रवार को होगी. गुरुवार को कड़ी सुरक्षा के बीच आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्लाह खान और प्रकाश ज़रवाल को तीस हज़ारी कोर्ट में पेश किया गया. दोनों विधायकों को ज़मानत मिलने की उम्मीद थी लेकिन कोर्ट पहुंचते ही दोनों की मुश्किलें और बढ़ गयीं.

कोर्ट में अभियोजन पक्ष के वकील ने बहस के दौरान खुलासा करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री के सलाहकार वी के जैन सरकारी गवाह बन गए हैं और उनका कोर्ट और पुलिस के सामने बयान दर्ज हो गया है, जिसमें उन्होंने खुद कहा है, 'मैं मीटिंग के बीच में वॉशरूम गया और जब वापस लौट तो देखा कि एमएलए अमानतुल्लाह खान और प्रकाश ज़रवाल ने मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के घेरा हुआ है और वो उनके साथ मारपीट कर रहे हैं.

उनका चश्मा भी नीचे गिर गया.' हालांकि आम आदमी पार्टी ने कहा कि वी के जैन ने पुलिस के सामने कुछ और बयान दिया था, अब दूसरा बयान दबाव देकर दिलवाया गया है. वीके जैन के मुताबिक मीटिंग किसलिए बुलाई गई ये उन्हें भी नहीं पता था, लेकिन उन्होंने ही मुख्य सचिव को फोन कर मीटिंग में आने के लिए कहा था.

टिप्पणियां
VIDEO: AAP ने आरोपों पर कहा, ये पूरी तरह से सुनियोजित षड्यंत्र

पुलिस ने विधायकों की ज़मानत का विरोध करते हुए पुलिस रिमांड के लिए दुबारा अर्ज़ी लगा दी और कहा कि 'आधी रात को मीटिंग क्यों बुलाई गई और उसका एजेंडा क्या था ये पता करना है. मीटिंग में कौन-कौन से लोग हैं ये बात भी मुख्य सचिव को नहीं बताई गई. उन्हें साज़िश के तहत 2 विधायकों के बीच एक 3 सीट वाले सोफे पर बिठाया गया. हमें अब तक अंदर की सीसीटीवी फुटेज नहीं दी गयी. अब ज़मानत और पुलिस रिमांड पर सुनवाई शुक्रवार को होगी. पुलिस ने कोर्ट में ये भी कहा कि अमानतुल्लाह पर पहले से ही 12 और प्रकाश जरवाल पर 5 मामले दर्ज हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement