NDTV Khabar

दिल्ली हाई कोर्ट ने 26 जुलाई तक पेड़ों की कटाई पर लगाई रोक

दक्षिणी दिल्ली में 16,500 पेड़ काटने के मामले में बुधवार को दिल्ली हाई कोर्ट में जस्टिस गीता मित्तल और जस्टिस हरि शंकर की बेंच के सामने सुनवाई हुई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली हाई कोर्ट ने 26 जुलाई तक पेड़ों की कटाई पर लगाई रोक

दिल्ली हाई कोर्ट ने पूरी दिल्ली में पेड़ काटने पर 26 जुलाई तक रोक लगा दी है.

नई दिल्ली:

दक्षिणी दिल्ली में 16,500 पेड़ काटने के मामले में बुधवार को दिल्ली हाई कोर्ट में जस्टिस गीता मित्तल और जस्टिस हरि शंकर की बेंच के सामने सुनवाई हुई. यह सुनवाई तकरीबन आधे घंटे तक चली. हाई कोर्ट ने एनबीसीसी, DDA और अन्य विभागों को फटकार लगाई और सवाल किया कि एक तरफ देश के दो बड़े अस्पतालों AIIMS और सफदरजंग के बाहर मरीजों को पानी नहीं मुहैया करा पा रहे हैं और ठीक दोनों अस्पतालों के सामने री- डेवलपमेंट के नाम पर पेड़ों की कटाई की जा रही है. लिहाजा, अगर जरूरत पड़े तो इस पूरे प्रोजेक्ट पर रोक लगा देंगे.  फिलहाल, हाई कोर्ट ने पूरी दिल्ली में पेड़ काटने पर 26 जुलाई तक रोक लगा दी है. कोर्ट ने एनबीसी, DDA, केंद्र सरकार, दिल्ली सरकार को प्रोजेक्ट और पेड़ काटने पर डिटेल में जवाब दायर करने का भी आदेश दिया है. हाई कोर्ट ने सभी एजेंसियों को फटकार लगाते हुए कहा कि 2 मंजिला बिल्डिंग को 8 मंजिला बिल्डिंग में तब्दील करना री- डेवलपमेंट नही होता. री- डेवलपमेंट को हम पूरा इंफ्रास्ट्रक्चर से जोड़कर देखते हैं.  इसके अलावा हाई कोर्ट ने दिल्ली में किसी भी डिपार्टमेंट को पेड़ कटाई की इजाजत देने पर भी रोक लगा दी है. 

यह भी पढ़ें : दिल्ली में 19 जुलाई तक पेड़ कटाई पर रोक


टिप्पणियां

आपको बता दें कि इससे पहले नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने भी दिल्ली में पेड़ पेड़ कटाई पर अगले आदेश तक के लिए रोक लगा दी है। NGT ने कहा इस मामले में यथास्थिति बनाये रखें। मामला हाई कोर्ट में है इसलिए हम कोई अंतरिम आदेश नहीं दे रहे। NGT में हुई सुनवाई में दिल्ली में पेड़ काटकर कॉलोनी के पुनर्विकास कर रही एजेंसी NBCC ने बताया कि उसने दिल्ली हाई कोर्ट में पहले ही अंडरटेकिंग दी है कि वो पेड़ नहीं काट रही है। जिसके जवाब में कोर्ट ने कहा कि यथास्थिति बनाये रखें यानी अगले आदेश तक पेड़ ना काटे जाएं। इस मामले में अगली सुनवाई 19 जुलाई को होगी.

यह भी पढ़ें : सरकारी कर्मचारियों के आवास के लिये दिल्ली में नहीं काटे जायेंगे पेड़, फिर से बनेगी रूपरेखा



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement