NDTV Khabar

दिल्ली : साम्राज्यवादी लॉर्ड डलहौजी की जगह हिन्दू विचारधारा के समर्थक दारा शिकोह के नाम पर हुई रोड

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली : साम्राज्यवादी लॉर्ड डलहौजी की जगह हिन्दू विचारधारा के समर्थक दारा शिकोह के नाम पर हुई रोड

दिल्ली की डलहौजी रोड का नाम बदलकर मुगल बादशाह औरंगजेब के भाई के नाम पर दारा शिकोह रोड कर दिया गया है (प्रतीकात्मक फोटो).

नई दिल्ली:

दिल्ली में कुछ अरसे पहले औरंगजेब रोड का नाम बदलकर एपीजे अब्दुल कलाम रोड कर दिया गया...अब औरंगजेब के भाई दारा शिकोह के नाम पर एक सड़क का नामकरण कर दिया गया है जिसका अब तक प्रचलित नाम डलहौजी रोड था. नई दिल्ली नगर निगम परिषद ने आज इस सड़क का नाम बदलने का फैसला लिया.  

दिल्ली नगर निगम ने पहले मुगल सल्तनत के बादशाह औरंगजेब के नाम से प्रचलित औरंगजेब रोड का नाम बदला और उसे पूर्व राष्ट्रपति और वैज्ञानिक एपीजे कलाम के नाम पर किया... अब ब्रिटिश साम्राज्य के दौरान छोटी रियासतों के विलीनीकरण के लिए याद किए जाने वाले गवर्नर जनरल डलहौजी के नाम पर प्रचलित सड़क डलहौजी रोड का नामकरण दारा शिकोह के नाम पर कर दिया गया है जो कि हिन्दू विचारधारा का प्रबल समर्थक था.     

राजधानी की डलहौजी रोड का नाम बदलकर मुगल बादशाह औरंगजेब के भाई के नाम पर दारा शिकोह रोड कर दिया गया है. नई दिल्ली नगर निगम परिषद (एनडीएमसी) के अध्यक्ष नरेश कुमार द्वारा बुलाई गई एक बैठक में परिषद की सदस्य और भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी ने इस आशय का एक प्रस्ताव रखा जिसे पारित कर दिया गया. लेखी ने कहा, ‘‘परिषद ने हिंदुओं और मुसलमानों को साथ लाने के लिए दारा शिकोह के सम्मान में इस सड़क के फिर से नामकरण का फैसला किया है’’


राष्ट्रपति भवन से करीब दो किलोमीटर की दूरी पर स्थित डलहौजी रोड का नाम लॉर्ड डलहौजी के नाम पर रखा गया था जो 1848 से 1856 तक भारत के गवर्नर जनरल थे. परिषद के एक सदस्य ने कहा, ‘‘औरंगजेब रोड का नाम दारा शिकोह के नाम पर रखने का प्रस्ताव सबसे पहले 2014 में आया था. हालांकि जब राष्ट्रपति अब्दुल कलाम का निधन हो गया तो इस रोड का नाम उनके सम्मान में बदलकर उनके नाम पर रख दिया गया.’’

टिप्पणियां

लेखी के प्रस्ताव का परिषद के उपाध्यक्ष करन सिंह तंवर ने भी समर्थन किया लेकिन आप विधायक सुरिंदर सिंह ने राज्यों में विधानसभा चुनावों के मद्देनजर इस फैसले को लागू किए जाने के वक्त पर सवाल उठाए. बैठक के बाद सिंह ने कहा, ‘‘उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनावों से पहले मुस्लिम मतदाताओं को लुभाने के लिए इस प्रस्ताव के सावधानीपूर्वक आगे बढ़ाया गया था.’’

साम्राज्यवादी विलय नीति अपनाने वाले लॉर्ड डलहौजी के नाम को हटाना तो अपनी जगह है लेकिन उसकी जगह दारा शिकोह के नाम पर रोड के नामकरण के पीछे भाजपा शासित नगर निगम की सियासी लाभ लेने की मंशा से इनकार नहीं किया जा सकता.
(इनपुट एजेंसी से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement