NDTV Khabar

नहीं बढ़ेगा दिल्ली मेट्रो का किराया अगर केजरीवाल पूरी कर दें यह मांग : केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी

केंद्रीय आवास एवं शहरी विकास मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने मेट्रो रेल के किराये में प्रस्तावित इजाफे को कानून सम्मत बताया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नहीं बढ़ेगा दिल्ली मेट्रो का किराया अगर केजरीवाल पूरी कर दें यह मांग : केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी

दिल्ली मेट्रो के किराये में 10 अक्टूबर से बढ़ोतरी की जानी है

खास बातें

  1. मेट्रो का किराया बढ़ाने के प्रस्ताव का लगातार विरोध कर रहे हैं केजरीवाल
  2. केंद्रीय आवास एवं शहरी विकास मंत्री हरदीप पुरी ने केजरीवाल को लिखा पत्र
  3. '3000 करोड़ रुपये की भरपाई करें केजरीवाल तो नहीं बढ़ेगा किराया'
नई दिल्ली: केंद्रीय आवास एवं शहरी विकास मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने मेट्रो रेल के किराये में प्रस्तावित इजाफे को कानून सम्मत बताया है. उन्होंने कहा है कि अगर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल किराया बढ़ोतरी को रोकना चाहते हैं तो दिल्ली सरकार को मेट्रो परिचालन में हर साल होने वाले 3000 करोड़ रुपये की भरपाई करनी होगी. मौजूदा किराया निर्धारण समिति द्वारा किराए में प्रस्तावित बढ़ोतरी को 10 अक्टूबर से लागू करने के डीएमआरसी के फैसले का दिल्ली सरकार लगातार विरोध कर रही है. इस बाबत केजरीवाल ने पुरी को हाल ही में पत्र लिख कर छह महीने में दो बार किराया बढ़ोतरी को जनता के साथ अन्यायपूर्ण और गैरकानूनी बताते हुए इसे रोकने की मांग की थी.

यह भी पढ़ें : दिल्ली सरकार ने DMRC को चेताया, 'अगर किराया बढ़ाया तो सरकार करेगी कार्रवाई'

अब हरदीप पुरी ने केजरीवाल को लिखे पत्र में कहा है कि दिल्ली मेट्रो अधिनियम प्रस्तावित किराया बढ़ोतरी को रोकने की इजाजत नहीं देता है. उन्होंने कहा कि फिर भी यदि केजरीवाल किराया वृद्धि को रोकना चाहते हैं तो नई किराया निर्धारण समिति का गठन किया जा सकता है, बशर्ते दिल्ली सरकार दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) को मेट्रो परिचालन में हर साल होने वाले 3000 करोड़ रुपये के नुकसान की भरपाई कर दे. मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि पुरी ने केजरीवाल के सुझावों पर विस्तार से विचार-विमर्श कर उन्हें मौजूदा परिस्थतियों में किराये बढ़ोतरी को रोकना नामुमकिन बताते हुये उनकी मांग को स्वीकार करने के एवज में किये जा सकने वाले उपाय भी सुझाये हैं. पुरी ने कहा कि मेट्रो रेल (परिचालन एवं रखरखाव) अधिनियम 2002 के तहत गठित समिति की सिफारिशें मेट्रो प्रबंधन पर बाध्यकारी होती हैं. इतना ही नहीं इस कानून के तहत केंद्र या राज्य सरकार और डीएमआरसी के निदेशक मंडल के पास भी समिति की सिफारिशों में बदलाव करने का कानूनी अधिकार नहीं है.

यह भी पढ़ें : दिल्ली मेट्रो फर्जी घाटा दिखाकर तो नहीं बढ़ा रहा किराया? केजरीवाल ने की ऑडिट कराने की मांग

टिप्पणियां
पुरी ने दो बार किराया बढ़ोतरी में कम से कम एक साल का अंतर होने और सालाना 7 प्रतिशत किराया बढ़ोतरी की अधिकतम सीमा की केजरीवाल की दलील को भी गलत बताया है. उन्होंने स्पष्ट किया कि इस साल मार्च में की गई किराये में बढ़ोतरी साढ़े सात साल के बाद की गई थी. यह बढ़ोतरी दो हिस्सों में लागू की गई. पहला हिस्सा मार्च में लागू किया गया और दूसरा हिस्सा 10 अक्टूबर से लागू किया जाना प्रस्तावित है, इसलिए इसे एक ही साल में दो बार की गयी बढ़ोतरी नहीं कहा जा सकता है.

VIDEO : दिल्ली मेट्रो में सफर महंगा
उन्होंने कहा कि सालाना किराया बढ़ोतरी की सात प्रतिशत की सीमा तय करने का नियम भी साल 2019 से लागू किया जाएगा. इस आधार पर किराया बढ़ोतरी की सीमा के उल्लंघन का केजरीवाल का आरोप भी गलत है. पत्र में पुरी ने साल 2002 से अब तक की गयी किराये में बढ़ोतरी और मेट्रो परिचालन के खर्च का भी ब्योरा दिया है. (इनपुट भाषा से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement