NDTV Khabar

दिल्‍ली पुलिस ने किया फर्जी वीजा-पासपोर्ट के जरिए लोगों को विदेश भेजने वाले गिरोह का भंडाफोड़

एयरपोर्ट के डीसीपी संजय भाटिया के मुताबिक 1-2 मार्च की रात शिकायत मिली कि अमृतसर की एक महिला सुनीता और राजेंद्र नाम के शख्स के पासपोर्ट पर इमिग्रेशन की फ़र्ज़ी स्टाम्प लगी है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्‍ली पुलिस ने किया फर्जी वीजा-पासपोर्ट के जरिए लोगों को विदेश भेजने वाले गिरोह का भंडाफोड़

आरोपियों के पास से 62 पासपोर्ट मिले हैं

नई दिल्‍ली:

दिल्ली पुलिस ने फर्जी वीज़ा और पासपोर्ट के जरिये लोगों को विदेश भेजने वाले एक बड़े गिरोह का भंडाभोड़ कर 3 एजेंट समेत कुल 6 लोगों को गिरफ्तार किया है. इनके पास से 62 पासपोर्ट और 28 फ़र्ज़ी स्टाम्प बरामद किए गए हैं. एयरपोर्ट के डीसीपी संजय भाटिया के मुताबिक 1-2 मार्च की रात शिकायत मिली कि अमृतसर की एक महिला सुनीता और राजेंद्र नाम के शख्स के पासपोर्ट पर इमिग्रेशन की फ़र्ज़ी स्टाम्प लगी है और ये दोनों ऐसे पासपोर्ट पर कनाडा जाने की कोशिश कर रहे थे. दोनों ने पूछताछ में बताया कि उन्हें श्याम नाम के एक शख्स ने विक्की उर्फ जितेंद्र सिंह नाम के शख्स से मिलवाया, उसने कनाडियन वीज़ा दिलवाने के नाम पर 6 लाख रुपये लिए, उसके बाद उन्हें चंडीगढ़ में ट्रैवल एजेंट सचिन से मिलवाया गया.

टिप्पणियां

जब पुलिस ने सचिन को गिरफ्तार किया तो उसने बताया कि उसके साथ इस काम मे जितेंद्र सिंह उर्फ विक्की, मुकेश गोयल और सौरभ भी शामिल हैं. उसके बाद पुलिस ने इन तीनों को भी गिरफ्तार कर लिया. इन सभी ने पूछताछ में बताया कि उनके पास अलग-अलग देशों की इमिग्रेशन की फ़र्ज़ी मुहर है जिसके जरिये वो फ़र्ज़ी मुहर लगा देते थे, जिससे पता चला कि वो शख्स अक्सर उन देशों की यात्राएं करता रहता है. इस तरह फ़र्ज़ी वीज़ा तैयार हो जाता था. सभी तीन एजेंट सचिन, विक्की और मुकेश गोयल कुरुक्षेत्र के रहने वाले हैं.


VIDEO: दिल्‍ली में फ़र्ज़ी बोर्ड का पर्दाफ़ाश, 15 हज़ार फ़र्ज़ी मार्कशीट बरामद


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement