NDTV Khabar

दिल्ली पुलिस की मुस्तैदी, 36 घंटे में पकड़े गए 5 करोड़ की फिरौती मांगने वाले किडनैपर

अपहरण करते वक़्त सौरभ की पिटाई भी की गई और मुंह पर कपड़ा बांधकर उसे निलोठी में एक फ्लैट में रखा गया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली पुलिस की मुस्तैदी, 36 घंटे में पकड़े गए 5 करोड़ की फिरौती मांगने वाले किडनैपर

प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

नई दिल्‍ली:

दिल्ली पुलिस की मुस्तैदी से महज़ 36 घंटे के अंदर 5 करोड़ की फिरौती मांगने वाले किडनैपर पकड़े गए और व्यवसायी को सकुशल रिहा करा लिया गया. बाहरी दिल्ली के डीसीपी एमएन तिवारी के मुताबिक कारोबारी सौरभ के दिल्ली में कई इलेक्ट्रॉनिक्स के शोरूम हैं और शनिवार रात तकरीबन 9.30 बजे के आस-पास सौरभ अपने पश्चिम विहार के शोरूम से घर जाने के लिए अपनी होंडा सिटी कार से निकला था. जैसे ही वो पुष्प विहार इलाके में पहुंचा तभी बाइक सवार दो लोगों ने सौरभ की कार को ओवरटेक कर रोक लिया और हथियारों की नोक पर सौरभ का अपहरण कर उसे आउटर दिल्ली के निलोठी इलाके में एक घर मे ले गए. अपहरणकर्ताओं ने सौरभ के घरवालों से उसे छोड़ने के एवज में 5 करोड़ की फिरौती की मांग की. घरवालों की मानें तो शनिवार रात तकरीबन 10.30 बजे उन्हें अपहरणकर्ताओं ने फोन कर 5 करोड़ को फिरौती की मांग की साथ ही पुलिस को खबर ना करने की धमकी भी दी.

फुटपाथ पर सो रहे चार साल के बच्चे को कर लिया अगवा, दो महिलाएं धरी गईं


अपहरण करते वक़्त सौरभ की पिटाई भी की गई और मुंह पर कपड़ा बांधकर उसे निलोठी में एक फ्लैट में रखा गया. आरोपी उसके सामने बिना अपना मुंह ढके आते थे, उन्हें यकीन था कि पुलिस उन्हें पकड़ नहीं पाएगी. पुलिस के मुताबिक दोनों आरोपी सतनाम और मनीष गाड़ियों की खरीद फरोख्त करते थे और दोनों को व्यवसाय में बहुत घाटा हो रहा था. उसी की भरपाई के लिए इन्होंने सौरभ के अपहरण की साजिश रची थी.

दरअसल इनमें से एक ने सौरभ के एक शोरूम में काम भी किया था और एक ने इसके शोरूम से समान ख़रीद रखा था. इन्हें मालूम था कि सौरभ के ऑफिस में काफी पैसा रोजाना होता है, इसलिए सौरभ को किडनैप करने के लिए चुना गया. इसके लिए इन दोनों ने सौरभ की हर हरकत पर नज़र रखी और शनिवार को मौका पाकर उसका अपहरण कर लिया. साथ ही पुलिस इन तक न पहुंच पाए इसके लिए इन दोनों ने फुलप्रूफ प्लान भी बनाया था. बाइक से ओवरटेक कर गन प्‍वाइंट पर किडनैप किया और 5 करोड़ की फिरौती मांगी.

टिप्पणियां

VIDEO: 2016 में अपराध के आंकड़े, अपराधों में यूपी सबसे आगे

लेकिन इससे पहले की ये लोग अपने मंसूबों में कामयाब होते, दिल्ली पुलिस ने इन दोनों को गिरफ्तार कर लिया. फिरौती के लिए बदमाश मनीष के फोन से ही उसके घरवालों को वाट्सऐप कॉल करते थे, लेकिन फिर भी इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस से पकड़े गए. सतनाम और मनीष की गिरफ्तारी के बाद दिल्ली पुलिस ने चैन की सांस ली है. फिलहाल दिल्ली पुलिस अब ये जानने में जुटी है कि अपहरण के इस मामले में क्या इन दोनों के अलावा कोई और भी शामिल है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement