NDTV Khabar

भारत के एटीएम तकनीक के हिसाब से कमजोर, इसलिए ठगी करने आता था विदेशी गैंग

पुलिस ने बताया कि आरोपियों का कहना है कि भारत में एटीएम सिस्टम इतना असुरक्षित है की यहाँ ठगी करने बेहद आसान है. इसलिए वे यहां आते थे. आरोपियों के पास से 24000 यूरो मिले हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भारत के एटीएम तकनीक के हिसाब से कमजोर, इसलिए ठगी करने आता था विदेशी गैंग

पकड़े गए दोनों बुल्गेरियाई नागरिकों के साथ दिल्ली पुलिस के अधिकारी.

नई दिल्ली:

दिल्ली पुलिस ने एटीएम कार्ड क्लोनिंग और स्किमिंग के जरिये बड़े पैमाने पर ठगी करने वाले एक अंतर्राष्ट्रीय गिरोह का भंडाभोड़ किया है. पुलिस ने गिरोह में शामिल बुल्गेरिया के रहने वाले दो नागरिकों को गिरफ्तार किया हैं, जो तीन साल से टूरिस्ट वीज़ा पर आते थे और ठगी करने के बाद चले जाते थे. पुलिस ने बताया कि आरोपियों का कहना है कि भारत में एटीएम सिस्टम इतना असुरक्षित है की यहाँ ठगी करने बेहद आसान है, इसलिए वे यहां आते थे. आरोपियों के पास से 24000 यूरो मिले हैं.

दिल्ली के बवाना में पुलिस हिरासत में शख्स की संदिग्ध मौत, कांस्टेबल सस्पेंड

नई दिल्ली के डीसीपी मधुर वर्मा के मुताबिक पुलिस को 26 मई को जानकारी मिली कि खान मार्किट के एचडीएफसी बैंक के एटीएम में एक विदेशी को संदिग्ध हालत में गार्ड ने पकड़ लिया है. उसके बाद पुलिस मौके पर पहुचीं और विदेशी को एटीएम क्लोनिंग उपकरण और बड़े पैमाने पर क्लोनिंग किये हुए एटीएम कार्ड बरामद हुए. पूछताछ में विदेशी ने बताया कि वो बुल्गेरिया का रहने वाला है और उसका नाम तसवेटेलिन एंगेलोव है. इसके बाद तुगलक रोड थाने में केस दर्ज कर जांच शुरू हुई तो पता चला कि इस ठगी के गैंग का मास्टरमाइंड पटपड़गंज इलाके के एक आलीशान होटल में रुका है, जिसका नाम रुस्लान पेट्रोव मेटोडीएव है.


कारोबारी हत्या मामला: पीड़ित के परिवार ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की 

एसएचओ तुगलक रोड गोविंद चौहान की टीम ने जब उसके कमरे में छापा मारा तो रुस्लान को 24000 यूरो, कार्ड क्लोनिंग के उपकरणों के साथ पकड़ा गया. आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि यूरोप में तकनीक के हिसाब से एटीएम मशीनें इतनी सुरक्षित हैं कि एटीएम की क्लोनिंग शुरू करते ही पकड़ में आ जाती है, जबकि भारत में एटीएम मशीनें तकनीक के हिसाब से इतनी कमजोर हैं कि यहां ठगी कर पैसा निकालना बेहद आसान है. इसलिए वो पिछले तीन सालों से टूरिस्ट वीज़ा पर भारत आते हैं और पैसा निकाल कर चले जाते हैं. यहां तक कि वो यूरोप के एटीएम कार्ड का डाटा अवैध तरीके से खरीदकर भारत में एटीएम से उनके अकॉउंट से पैसे निकाल लेते थे. फिर निकले हुई रुपये को यूरो या डॉलर में बदलवा लेते थे. पुलिस के मुताबिक अपराधी ज्यादातर उन देशों के एटीएम को निशाना बनाते थे तो तकनीक के हिसाब से असुरक्षित हैं.

टिप्पणियां

Video: विदेश भेजने के नाम पर ठगी करने वाले गिरफ्तार



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement