NDTV Khabar

दिल्‍ली: बाजार के बाद रिहायशी इलाकों में आ सकती है सीलिंग की मार

दिल्ली के बाज़ारों में लगभग डेढ़ महीने से चल रही सीलिंग की मार अब आवासीय इलाक़ों में भी पड़ सकती है. सुप्रीम कोर्ट की निगरानी समिति ने तीनों निगमों को पत्र लिखकर आवासीय भवनों में बनी स्टिल्ट पार्किंग को सील करने के निर्देश दिए हैं.

2 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्‍ली: बाजार के बाद रिहायशी इलाकों में आ सकती है सीलिंग की मार

फाइल फोटो

खास बातें

  1. सुप्रीम कोर्ट की निगरानी समिति ने तीनों निगमों को पत्र लिखा
  2. आवासीय भवनों में बनी स्टिल्ट पार्किंग को सील करने के निर्देश दिए
  3. पत्र में कहा गया,आवासीय इलाकों में स्टिल्ट पार्किंग का दुरुपयोग हो रहा है
नई दिल्ली: दिल्ली के बाज़ारों में लगभग डेढ़ महीने से चल रही सीलिंग की मार अब आवासीय इलाक़ों में भी पड़ सकती है. सुप्रीम कोर्ट की निगरानी समिति ने तीनों निगमों को पत्र लिखकर आवासीय भवनों में बनी स्टिल्ट पार्किंग को सील करने के निर्देश दिए हैं. 

दिल्ली सीलिंग मामला- सुप्रीम कोर्ट ने MLA ओपी शर्मा और निगम पार्षद गुंजन गुप्ता को नोटिस जारी किया

पत्र में कहा गया है कि आवासीय इलाकों में स्टिल्ट पार्किंग का दुरुपयोग हो रहा है जबकि मास्टर प्लान में साफ है कि स्टिल्ट पार्किंग का इस्तेमाल सिर्फ वाहन पार्किंग में हो सकता है, लेकिन लोगों ने स्टिल्ट पार्किंग में गार्ड रूम या अन्य गोदाम बना रखा हैं. समिति नें तीनों निगमों को 28 फरवरी तक स्टिल्ट पार्किंग वाले भवनों का निरीक्षण कर सील करने बाद रिपोर्ट देने के लिए कहा है.

स्टिल्ट पार्किंग क्या है? 
रिहायशी इलाकों में ग्राउंड फ्लोर पर 8 फ़ुट ऊंची पार्किंग बनाई जा सकती है, जिसका इस्तेमाल सिर्फ वाहन पार्किंग के लिए ही हो सकता है. सामान्य तौर पर भवनों की ऊंचाई 15 मीटर की होनी चाहिए.

VIDEO:सीलिंग से राहत के लिए कारोबारियों को करना होगा और इंतजार
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement