NDTV Khabar

दिल्ली में इलेक्ट्रिक बसों का ट्रायल शुरू, विधानसभा चुनाव से पहले सड़क पर उतारने की तैयारी में केजरीवाल सरकार

दिल्ली में इलेक्ट्रिक बसों का ट्रायल शुरू हो गया है. शुक्रवार को पहली ट्रायल इलेक्ट्रिक बस को दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने हरी झंडी दिखाई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली में इलेक्ट्रिक बसों का ट्रायल शुरू, विधानसभा चुनाव से पहले सड़क पर उतारने की तैयारी में केजरीवाल सरकार

दिल्ली में इलेक्ट्रिक बसों का ट्रायल शुरू.

नई दिल्ली: दिल्ली में इलेक्ट्रिक बसों का ट्रायल शुरू हो गया है. शुक्रवार को पहली ट्रायल इलेक्ट्रिक बस को दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने हरी झंडी दिखाई. इलेक्ट्रिक बस का ट्रायल 3 महीने तक होगा और इस दौरान देखा जाएगा कि दिल्ली की सड़कों पर यह किस तरह चलाई जा सकती है और क्या व्यवस्था की जानी चाहिए. कहां-कहां चार्जिंग पॉइंट्स लगाए जाने की ज़रूरत है. दिल्ली सरकार की योजना है कि 1000 इलेक्ट्रिक बस खरीदी जाए. जिसके लिए ढाई साल पहले भी वो एक बार ट्रायल करवा चुकी है और एक साल पहले उसने इलेक्ट्रिक बसें खरीदने की बात कही थी. दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने बताया कि 'DIMTS इसको स्टडी कर रहा है और वह अपनी रिपोर्ट अगले महीने तक देगा. हमें पूरी उम्मीद है हमारी पूरी कोशिश है कि दिसंबर तक हम इलेक्ट्रिक बसों के टेंडर जारी कर दें.

कैलाश गहलोत से पूछा गया कि ढाई साल पहले साल 2016 में जो ट्रायल हुआ था वह और मौजूदा ट्रायल में क्या अंतर है? कैलाश गहलोत ने कहा ' यह नई टेक्नोलॉजी है हर महीने और कुछ कुछ समय के बाद टेक्नोलॉजी में नए-नए इंप्रूवमेंट आ रहे हैं जैसे की बैटरी की कीमत कि अगर हम बात करें तो पिछले एक साल में बैटरी की कीमत काफी नीचे आई है तो हम तो दोबारा ट्रायल कर रहे हैं. यह एक डिटेल रिपोर्ट का पाठ है इसकी जो भी फाइंडिंग्स निकलेंगे वह उस रिपोर्ट का हिस्सा बनेंगी.  हम आश्वस्त होना चाहते हैं की टेंडर जारी होने के बाद और बसें सड़कों पर आने के बाद दिक्कत ना आए. क्योंकि यह पहली बार हो रहा है'

इलेक्ट्रिक बस की खासियत
मौजूदा इलेक्ट्रिक ट्रायल बस दिल्ली में रूट नंबर 522 पर चलेगी जो अंबेडकर नगर से लेकर इंदरपुरी तक होगी. यह बस रोजाना तीन राउंड ट्रिप लगाएगी. पीएमआई फोटोन नाम की कंपनी फिलहाल दिल्ली में ट्रायल पर इलेक्ट्रिक बस चला रही है. कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर सतीश जैन के मुताबिक 'आधा घंटा चार्ज करने पर यह बस 120 से 130 किलोमीटर चल सकती है. इस बस में एसी वाईफाई सीसीटीवी कैमरा और पैनिक बटन सब लगाया गया है. और इस बस की कीमत करीब सवा करोड़ रुपए हैं'

कबसे चल रही है कोशिश?
दिल्ली सरकार मार्च 2016 में भी इलेक्ट्रिक बस का ट्रायल करवा चुकी है जिसमें यह बात निकलकर आई थी कि इलेक्ट्रिक बस को चलाना सीएनजी बसों को चलाने से कुछ सस्ता पड़ सकता है लेकिन इलेक्ट्रिक बसें सीएनजी बसों के मुकाबले बहुत महंगी है. एक सीएनजी लो फ्लोर बस की कीमत करीब ₹85 लाख के आसपास पड़ती है जबकि एक इलेक्ट्रिक बस की कीमत सवा से ढाई करोड रुपए तक हो सकती है. दिल्ली सरकार सूत्रों के मुताबिक वैसे तो जुलाई 2019 तक इलेक्ट्रिक बसों को सड़कों पर उतारने का टारगेट है लेकिन अगर उससे देरी भी होती है तो किसी भी सूरत में जनवरी-फरवरी 2020 जब दिल्ली में विधानसभा चुनाव होने हैं उससे पहले इलेक्ट्रिक बस सड़कों पर आ जाएं. 

टिप्पणियां
वीडियो- दिल्ली में प्रदूषण को देखते हुए मुंबई में शुरू हुई हाईटेक इलेक्‍ट्रिक बसें 


 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement