NDTV Khabar

खूनी खेल 'ब्लू व्हेल चैलेंज' के बचने के लिए ले सकते हैं हेल्पलाइन की मदद

फोर्टिस अस्पताल ने ब्लू व्हेल चैलेंज में भाग लेने वाले बच्चों द्वारा उठाए जा रहे खतरनाक कदमों के मामलों को ध्यान में रखते हुए हेल्पलाइन की शुरूआत की है. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
खूनी खेल 'ब्लू व्हेल चैलेंज' के बचने के लिए ले सकते हैं हेल्पलाइन की मदद

ब्लू व्हेल गेम के चक्कर में फंस कर बच्चे आत्महत्या को मजबूर हो रहे हैं

खास बातें

  1. ब्लू व्हेल गेम के चक्कर में मौत को गले लगा रहे हैं बच्चे
  2. गेम से छुटकारा पाने के लिए फोर्टिस अस्पताल ने शुरू की हेल्पलाइन
  3. मनोविज्ञानी और मनोचिकित्सक दे रहे हैं गेम से बचने की सलाह
नई दिल्ली:

ब्लू व्हेल चैलेंज गेम खेलते हुए बच्चों द्वारा आत्महत्या तक के कदम उठाये जाने के गंभीर मामले सामने आ रहे हैं और ऐसे में राजधानी के एक निजी अस्पताल ने मौजूदा माहौल को देखते हुए हेल्पलाइन की शुरूआत की है. फोर्टिस अस्पताल के मानसिक स्वास्थ्य और व्यवहार विज्ञान विभाग ने भारत में ब्लू व्हेल चैलेंज में भाग लेने वाले बच्चों द्वारा उठाए जा रहे वीभत्स कदमों के मामलों को ध्यान में रखते हुए 24 घंटे संचालित होने वाली हेल्पलाइन की शुरूआत की है. 

पढ़ें: ब्लू व्हेल से बचे अलेक्जेंडर ने साझा की पीड़ा, कहा- 'एक मौत का ऐसा जाल जिसे चाहकर भी नहीं छोड़ सकते'

अस्पताल के अनुसार यह हेल्पलाइन ऐसे सभी बच्चों के लिए उपलब्ध है जो इस गेम में भाग लेते हुए भारी मानसिक तनाव का सामना कर रहे हैं. अपने परिवारों में किशोरों के बीच व्यवहार में नकारात्मक बदलाव देख रहे लोग भी इसका लाभ उठा सकते हैं. हेल्पलाइन 83768-04102 के माध्यम से लोग विशेषज्ञों से खुलकर बातचीत कर सकते हैं और तुरंत मदद प्राप्त कर सकते हैं.


टिप्पणियां

VIDEO: ब्लू व्हेल के चक्कर में चली गई एक और मासमू की जान
हेल्पलाइन मानसिक स्वास्थ्य और व्यवहार विज्ञान विभाग के निदेशक डॉ. समीर पारिख के दिशानिर्देशन में संस्थान के मनोविज्ञानियों और मनोचिकित्सकों द्वारा चलाई जा रही है.

(इनपुट आईएएनएस से)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... Ind Vs Aus: स्टीव स्मिथ ने एमएस धोनी की तरह हेलीकॉप्टर शॉट खेलकर मारा छक्का, देखते रह गए कोहली, देखें Video

Advertisement