NDTV Khabar

दिल्ली के इंदिरा गांधी हवाई अड्डे से IM आतंकवादी सिद्दीबापा गिरफ्तार

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली के इंदिरा गांधी हवाई अड्डे से IM आतंकवादी सिद्दीबापा गिरफ्तार

सांकेतिक तस्वीर

नई दिल्ली:

इंडियन मुजाहिद्दीन (आईएम) के एक शीर्ष आतंकवादी अब्दुल वाहिद सिद्दीबापा को शुक्रवार को विमान से दिल्ली पहुंचते ही गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तारी को बहुत सुविचारित ऑपरेशन का अंजाम बताया गया है।

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे से अब्दुल वाहिद सिद्दीबापा (32) को सुबह हिरासत में ले लिया। उसे आतंकी संगठन के वित्तीय मामलों का सरगना बताया जा रहा है। बाद में एक अदालत ने उसे एक हफ्ते के लिए एनआईए की हिरासत में भेज दिया।

एनआईए अधिकारियों ने सिद्दीबापा को दुबई से निर्वासित किए जाने की खबरों को खारिज किया है। वह आईएम के सह-संस्थापक यासीन भटकल का रिश्तेदार है।

'प्रत्यर्पित करके नहीं लाया गया'
एनआईए के महानिरीक्षक एस.के. सिंह ने बताया, 'यह बहुत सावधानीपूर्वक अंजाम दिया गया अभियान था। यह स्पष्ट किया जाता है कि वाहिद को न तो निर्वासित किया गया और न ही प्रत्यर्पित किया गया है।' लेकिन, उन्होंने यह नहीं बताया कि सिद्दीबापा विमान से कहां से दिल्ली आया है।


एनआईए अधिकारियों ने बताया कि परफ्यूम का यह पूर्व कारोबारी संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में रहता था, जहां से पहले कई ऐसे अपराधियों को निर्वासित किया जा चुका है जिनकी भारतीय अधिकारियों को तलाश थी।

एनआईए को मिली सात दिन की हिरासत
अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश राकेश पंडित ने सिद्दीबापा को सात दिनों के लिए एनआईए की हिरासत में भेज दिया। कर्नाटक के भटकल में मकदूम कॉलोनी का निवासी सिद्दीबापा, भारत में कई स्थानों पर आतंकवादी हमलों की साजिश में वांछित है।

दुबई से सिद्दीबापा कथित रूप में भारतीय युवाओं की इंडियन मुजाहिद्दीन में भर्ती करता था और उनकी गतिविधियों को धन मुहैया कराता था। एनआईए ने अदालत को बताया कि सिद्दीबापा इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से इंडियन मुजाहीदीन के लोगों के संपर्क में रहता था।

एनआईए का सबसे पुराना सदस्य
एनआईए के सूत्र ने बताया, 'वह आईएम के सदस्यों को योजना बनाने, तैयारी करने और आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देने में रणनीतिक, सामग्री संबंधी और वित्तीय मदद करता था।' इसके अलावा वह इंडियन मुजाहिद्दीन के लिए वित्त जुटाने का काम भी करता था। सूत्र ने बताया, 'वह समूह का सबसे पुराना और सबसे वरिष्ठ सदस्य है।'

लेकिन, सिद्दीबापा के वकील ने एनआईए की दलील का विरोध करते हुए कहा कि उसका नाम किसी सूची में नहीं है, जिसमें वांछित अपराधियों की सूची भी शामिल है। दिसंबर 2013 में सिद्दीबापा के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया गया था।

सिद्दीबापा पर कई सीरियल बम धमाकों का आरोप
सिद्दीबापा के खिलाफ गिरफ्तारी का वारंट और 'रेड कॉर्नर नोटिस' जारी किया गया था। सिद्दीबापा कथित रूप से जुलाई 2006 के मुंबई सीरियल बम धमाके, 2008 के दिल्ली बम धमाके और बेंगलुरु के 2010 के चिन्नास्वामी स्टेडियम धमाके में शामिल था।

टिप्पणियां

उस पर आरोप है कि वह वेस्टर्न यूनियन मनी ट्रांसफर के माध्यम से पैसों का लेन-देन करता था। 2008 में इंडियन मुजाहिद्दीन पर कार्रवाई शुरू होने से पहले ही वह दुबई भाग गया था। उसे संयुक्त अरब अमीरात में जनवरी 2014 में गिरफ्तार किया गया था।

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement