NDTV Khabar

आखिर मनोज तिवारी ने ऐसा क्यों कहा कि अन्याय के खिलाफ जोर से ही बोलना पड़ता है

दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर किया है. इस हलफनामे में उन्होंने कहा कि वह दिल्ली में सीलिंग तोड़ने के लिए माफी नहीं मांगेंगे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
आखिर मनोज तिवारी ने ऐसा क्यों कहा कि अन्याय के खिलाफ जोर से ही बोलना पड़ता है

मनोज तिवारी ने कहा कि वह दिल्ली में सीलिंग तोड़ने के लिए माफी नहीं मांगेंगे.

खास बातें

  1. मनोज तिवारी ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर किया
  2. हलफनामे के संबंध में उन्होंने एनडीटीवी से बातचीत की
  3. दिल्ली सीलिंग मामले में दायर किया हलफनामा
नई दिल्ली:

दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर किया है. इस हलफनामे में उन्होंने कहा कि वह दिल्ली में सीलिंग तोड़ने के लिए माफी नहीं मांगेंगे. मनोज तिवारी ने अपने हलफनामे के संबंध में एनडीटीवी से बातचीत भी की. उन्होंने बातचीत में कहा, “मैंने हलफनामे में कहा है कि जो पिक एंड चूज़ हो रहा है उसको रोकने में मॉनिटरिंग कमिटी विफल रही है. मॉनिटरिंग कमिटी 2006 से काम कर रही है और 2018 आ गया है, लेकिन दिल्ली कानून के मुताबिक नहीं बन पाया है. विकिन्यूज ऐसा हो रहा है कि कुछ जगह सरकारी जमीन पर बिल्डिंग बन गई और उसको देखा तक नहीं गया. कुछ जगह तो कानून तक नहीं बनाया गया और कह दिया गया कि आप गैरकानूनी काम कर रहे हो.”

यह भी पढ़ें: बीजेपी सांसद मनोज तिवारी सीलिंग के मामले में खुली बहस के लिए मंच पर नहीं आए


मनोज तिवारी ने बताया कि उन्होंने न्यायमूर्ति जी से कहा है कि मॉनिटरिंग कमेटी को भंग कर दीजिए और हमें 4 साल का समय दीजिए. मैं सीलिंग ऑफिसर के रूप में कोर्ट की मदद करने को तैयार हूं. उन्होंने आग कहा कि इस संबंध में माफी मांगने का सवाल ही नहीं उठता. जहां सीलिंग लगाई थी वहां सीलिंग लगाना ही गैरकानूनी है. सीलिंग हो जाने पर एक लाख रुपये तो कम से कम सुनवाई के लिए देना पड़ता है.  यह अन्यायपूर्ण है और यह सारी बातें कोर्ट को बताई हैं.

यह भी पढ़ें:  बीजेपी के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी बोले- जनता के लिए जितनी बार कोर्ट आना पड़े, तैयार हूं

टिप्पणियां

उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट न्याय की भाषा समझता है और जहां अन्याय हो रहा हो उसके खिलाफ जोर से ही बोलना पड़ता है. समस्या यही हुई कि मॉनिटरिंग कमेटी ने खुद को ही सुप्रीम कोर्ट समझ लिया, मॉनिटरिंग कमेटी के लोग जज नहीं नौकरशाह हैं. कोर्ट ने उनको सम्मान दिया, लेकिन उन्होंने अपने कर्तव्य पालन ठीक से नहीं किया.

VIDEO: दिल्ली सीलिंग : मनोज तिवारी ने सुप्रीम कोर्ट में माफी मांगने से किया इनकार
बता दें दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी ने 16 सितंबर को उत्तर पूर्वी दिल्ली के गोकुलपुर गांव में एक मकान की सीलिंग तोड़ी थी. 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement