NDTV Khabar

मिलिए दिल्‍ली पुलिस के 41 कर्मियों की उस टीम से जिसने निर्भया केस की जांच की

पुलिस ने महज़ एक दिन के अंदर सिंगापुर ले जाने के लिए निर्भया के मां-बाप का पासपोर्ट बनवाया, सरोजिनी नगर मार्किट से उनके लिए शॉपिंग तक की.

2269 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
मिलिए दिल्‍ली पुलिस के 41 कर्मियों की उस टीम से जिसने निर्भया केस की जांच की

खास बातें

  1. मामले की जांच में हर छोटे से छोटे बिंदु को शामिल किया गया
  2. 2 डीसीपी के अलावा कई तेजतर्रार इंस्पेक्टर और सब इंस्पेक्टर शामिल रहे
  3. टीम ने महज़ 19 दिन के अंदर कोर्ट में चार्जशीट भी पेश कर दी
नई दिल्‍ली: असिस्टेंट सब इंस्‍पेक्टर से लेकर डीसीपी रैंक के ऐसे 41 पुलिसकर्मी हैं जिन लोगों ने दिन रात एक कर निर्भया केस की जांच की और आरोपियों को गिरफ्तार करने के बाद फांसी के फंदे तक पहुंचाया. इनकी जांच की तारीफ निचली अदालत, हाइकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट तीनों ने अपने अपने फैसलों में की. सोमवार को पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक ने इन्हें दिल्ली पुलिस मुख्यालय बुलाकर इनकी हौसला अफजाई की. वो 16 दिसम्बर 2012 की रात थी जब निर्भया के साथ एक चलती बस में गैंगरेप हुआ था. उसके साथ 6 लोगों ने ऐसी हैवानियत की कि 29 दिसम्बर को उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई. इस मामले में पुलिस ने एक हफ्ते के अंदर न सिर्फ सभी आरोपियों को पकड़ लिया बल्कि महज़ 19 दिन के अंदर कोर्ट में 1000 पन्नों की चार्जशीट भी पेश कर दी.

इस केस में ऐसा कोई सबूत, ऐसा कोई गवाह नहीं था जिसे पुलिस ने अपनी जांच में शामिल न किया हो. पुलिस ने आरोपियों के पकड़ने के साथ-साथ जिस रास्ते से बस गई थी उसका cctv फुटेज बरामद किया. आरोपियों के पास से पीड़ित का मोबाइल फ़ोन, उनके एटीएम कार्ड, सोने की चेन और दूसरा सामान बरामद किया. आरोपियों और पीड़ित की डीएनए जांच कराई जिसका मिलान भी सही हुआ, दांतों के काटने के निशान की फॉरेंसिक जांच कराई गई, 50 से ज्यादा गवाहों के बयान दर्ज कराए गए. यही नहीं, जांच में उस हर छोटे से छोटे बिंदु को शामिल किया गया जो आरोपियों को कोर्ट में खड़ा कर सकता था.

पुलिस ने महज़ एक दिन के अंदर सिंगापुर ले जाने के लिए निर्भया के मां-बाप का पासपोर्ट बनवाया, सरोजिनी नगर मार्किट से उनके लिए शॉपिंग तक की. टीम में 2 डीसीपी के अलावा कई तेजतर्रार इंस्पेक्टर और सब इंस्पेक्टर शामिल रहे. इसके अलावा दर्जनों सिपाही भी रात दिन मामले की जांच से जुड़े रहे. पुलिस अधिकारी लगातार निर्भया के मां बाप को धीरज बंधाते रहे, शायद यही वजह है कि केस की शुरुआत से लेकर कोर्ट के फैसले आने तक निर्भया के मां बाप पुलिस की तारीफ करते रहे.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement