NDTV Khabar

Odd Even के लिए दिल्ली तैयार: बस, मेट्रो, ऑटो और ओला-उबर कैब की सवारी करने वाले लोगों के लिए खास खबर

दिल्ली सरकार सोमवार से राजधानी में 12 दिन तक वाहनों को ऑड ईवन के आधार पर चलाने की योजना के लिए तैयार है और इसके लिए 2000 अतिरिक्त बसें लगाई गयी हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Odd Even के लिए दिल्ली तैयार: बस, मेट्रो, ऑटो और ओला-उबर कैब की सवारी करने वाले लोगों के लिए खास खबर

Odd Even: ऑड ईवन के लिए तैयार है दिल्ली

खास बातें

  1. ऑड ईवन के लिए तैयार है दिल्ली
  2. 2000 अतिरिक्त बसें तैनात
  3. मेट्रो 61 अतिरिक्त फेरे लगाएगी
नई दिल्ली:

दिल्ली सरकार सोमवार से राजधानी में 12 दिन तक वाहनों को सम-विषम (Odd Even) के आधार पर चलाने की योजना के लिए तैयार है और इसके लिए 2000 अतिरिक्त बसें लगाई गयी हैं. यात्रियों की सुविधा के लिए मेट्रो भी 61 अतिरिक्त फेरे लगाएगी. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने वरिष्ठ अधिकारियों के साथ समीक्षा (Odd Even) बैठक की. उन्होंने अधिकारियों से यह सुनिश्चित करने को कहा कि सम-विषम (Odd Even) योजना के तहत किसी को असुविधा नहीं हो.

Odd-Even In Delhi: किसे मिलेगी छूट और किस पर लागू होगा नियम, देखें पूरी लिस्ट

सरकार के अनुसार ओला, उबर जैसी कैब कंपनियों को परामर्श जारी किये गये हैं कि योजना के दौरान दामों में इजाफा नहीं किया जाए. ऑटो और ई-रिक्शा चालकों से भी अतिरिक्त किराया नहीं वसूलने को कहा गया है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को स्वीकार किया कि इस योजना के दौरान स्कूली बच्चों को लेकर जाने वाले वाहनों को लेकर थोड़ी भ्रम की स्थिति है. हालांकि विश्वास के आधार पर ऐसे वाहनों को चलने की इजाजत होगी। ऐसा ही रोगियों को लेकर जा रहे वाहनों के मामले में होगा.


स्कूली बच्चों के वाहनों के मुद्दे के अलावा विशेषज्ञों और कुछ दिल्लीवासियों ने सार्वजनिक परिवहन प्रणाली की खराब हालत, सीएनजी वाहनों पर प्रतिबंध तथा दो पहिया वाहनों को दी गयी छूट को लेकर सरकार की आलोचना की.

Odd Even In Delhi: नियम तोड़ने पर होगा 4 हजार का जुर्माना, दिल्ली के CM और मंत्री भी आएंगे दायरे में

केजरीवाल ने योजना की अधिसूचना जारी करने के दौरान संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘स्कूली बच्चों के वाहनों को लेकर थोड़ी भ्रम की स्थिति है. स्कूल सुबह 8 बजे से पहले खुलते हैं और हमारा मानना है कि अभिभावक सुबह आठ बजे से पहले लौट सकते हैं. अगर वे बच्चों को लेने दोपहर में जाते हैं तो हम उन्हें विश्वास के आधार पर अनुमति देंगे. ऐसा ही रोगियों को लेकर जा रहे वाहनों के मामले में होगा.''

टिप्पणियां

हालांकि कुछ अभिभावकों ने विश्वास आधारित व्यवस्था को लेकर आशंका जताई. एक महिला ने इस संबंध में कहा कि इस मामले में अधिक स्पष्टता होनी चाहिए. यातायात पुलिसकर्मी को कैसे पता चलेगा कि आप अभिभावक हैं और बच्चे को स्कूल छोड़कर लौट रहे हैं.

Video: रविवार को नहीं लागू होगा ऑड-ईवन: सीएम केजरीवाल



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement