NDTV Khabar

सीलिंग के विरोध में मंगलवार को दिल्‍ली में बंद रहेंगी 7 लाख से ज्‍यादा दुकानें

मंगलवार को दिल्ली के 2000 से अधिक व्यापारिक संगठनों के 7 लाख से ज्यादा व्यापारिक संस्‍थान अपना कारोबार बंद रखेंगे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सीलिंग के विरोध में मंगलवार को दिल्‍ली में बंद रहेंगी 7 लाख से ज्‍यादा दुकानें

फाइल फोटो

नई दिल्‍ली:

दिल्ली भर में व्यावसायिक प्रतिष्ठानों में लगातार हो रही सीलिंग की कार्रवाई के विरोध में व्यापारियों के संगठन कैट ने 23 जनवरी को दिल्ली व्यापार बंद करने की घोषणा की है. मंगलवार को दिल्ली के 2000 से अधिक व्यापारिक संगठनों के 7 लाख से ज्यादा व्यापारिक संस्‍थान अपना कारोबार बंद रखेंगे. थोक बाज़ार अथवा रिटेल बाज़ार दिल्ली में सभी पूरे तौर पर बंद रहेंगे और कोई भी कारोबारी गतिविधि नहीं होगी.

शहरी क्षेत्र में चांदनी चौक, खारी बावली, कश्मीरी गेट, सदर बाजार, चावड़ी बाजार, नई सड़क, नया बाजार, श्रद्धानन्द बाजार, लाहौरी गेट, दरिया गंज, मध्य दिल्ली में कनाट प्लेस, करोल बाग, पहाड़गंज, खान मार्किट, उत्तरी दिल्ली में कमला नगर, अशोक विहार, मॉडल टाउन, शालीमार बाग़, पीतमपुरा, पंजाबी बाग़, पश्चिमी दिल्ली में राजौरी गार्डन, तिलक नगर, उत्तमनगर, जेल रोड, नारायणा, कीर्ति नगर, द्वारका, जनकपुरी, दक्षिणी दिल्ली में ग्रेटर कैलाश, साउथ एक्सटेंशन, डिफेन्स कॉलोनी, हौज़ खास, ग्रीन पार्क, युसूस सराय, सरोजिनी नगर, तुग़लकाबाद, कालकाजी और पूर्वी दिल्ली में, लक्ष्मी नगर, प्रीत विहार, मयूर विहार, शाहदरा, कृष्णा नगर, गांधी नगर, दिलशाद गार्डन, लोनी रोड, सहित प्रमुख बाजार पूरे तौर पर बंद रहेंगे.

टिप्पणियां

दिन भर के दिल्ली में व्यापार बंद के दौरान दिल्ली के व्यापारी दिल्ली के विभिन्न इलाकों में 6 जगह विराट धरने करेंगे जिनमें मुख्य धरना शहरी क्षेत्र में चौक हौज़ काज़ी, चावड़ी बाजार मेट्रो स्टेशन पर, कमला नगर, मॉडल टाउन, राजौरी गार्डन, साउथ एक्सटेंशन एवं कृष्णा नगर पर होंगे. विभिन्न मार्केटों में व्यापारी सुबह विरोध मार्च भी निकलेंगे.


व्यापारियों की मांग है कि सरकार दिल्ली के व्यापार को सीलिंग से बचाने के लिए तुरंत आवश्यक कदम उठाए. वहीं दूसरी ओर 31 दिसम्बर, 2017 तक दिल्ली में जहां है जैसा है के आधार पर एक एमनेस्टी स्कीम दी जाए, 351 सड़कों को दिल्ली सरकार तुरंत अधिसूचित करे एवं अतिरिक्त निर्माण पर एफ़एआर को अविलम्ब बढ़ाया जाए. उनका यह भी कहना है कि लोकल शॉपिंग सेंटर्स कमर्शियल दरों पर दिए गए थे इसलिए उनसे कन्वर्जन चार्ज लेना कहां तक उचित है ओर उनको सील किया जाना गलत है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement