NDTV Khabar

दिल्ली: घायल टैंपो चालक के परिवार से पुलिसवाले करते रहे पैसे की डिमांड, सड़क पर तड़पते हुए युवक ने तोड़ा दम

पुलिस अधिकारी (Delhi Police) ने बताया कि 19 जनवरी की रात धर्मेंद्र की गाड़ी ने कोतवाली इलाके में दिल्ली पुलिस के बेरीकेट्स को टक्कर मार दी थी.पुलिस (Delhi Police) से बचने के लिए धर्मेंद्र डर कर मौके से अपनी गाड़ी लेकर मौके पर रोके बगैर निकल गया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली: घायल टैंपो चालक के परिवार से पुलिसवाले करते रहे पैसे की डिमांड, सड़क पर तड़पते हुए युवक ने तोड़ा दम

पुलिस घायल के परिजनों से वसूलते रही पैसे और घायल युवक ने तोड़ा दम

खास बातें

  1. आरोपी पुलिसकर्मियों पर हुई कार्रवाई
  2. जांच के बाद दो सस्पेंड किए गए
  3. पुलिसवालों ने पीड़ित परिजनों से मांगे थे 10 हजार रुपये
नई दिल्ली:

दिल्ली के गीता कॉलोनी इलाके से इंसानियत को शर्मशार करने वाली एक घटना समाने आई है. जहां पुलिसवाल (Delhi Police) घायल युवक को अस्पताल पहुंचाने की जगह उसके परिजनों से पैसे वसूलने में लगे रहे. घटना 19 जनवरी की है.  मामले की जांच कर रहे पुलिस अधिकारी (Delhi Police) ने बताया कि 19 जनवरी की रात धर्मेंद्र की गाड़ी ने कोतवाली इलाके में दिल्ली पुलिस के बेरीकेट्स को टक्कर मार दी थी. इसके बाद पुलिस (Delhi Police) से बचने के लिए धर्मेंद्र डर कर मौके से अपनी गाड़ी लेकर मौके पर रोके बगैर निकल गया. जिसके बाद कोतवाली इलाके के चार पुलिस (Delhi Police) कर्मी धर्मेंद्र की गाड़ी का पीछा कर रहे थे. पीछा करने के क्रम में उन्होंने देखा कि धर्मेंद्र का टैंपों गीता कॉलोनी फ्लॉयओवर पर पलट गया है. इसके बाद उन्होंने घायल को टैंपों से बाहर निकालकर सड़क पर भी लहूलुहान हालत में छोड़ दिया.

यह भी पढ़ें: विदेशी नागरिक पर्यटन की आड़ में कर रहे हैं तस्करी, पुलिस ने किया यह बड़ा खुलासा


इसके बाद आरोपी पुलिसकर्मियों ने घायल चालक के परिजनों को कॉलकर बुलाया. मृतक के परिजनों का आरोप है कि चारों पुलिसकर्मियों ने उससे 10 हजार रुपये की मांग की. इस दौरान परिजनों ने घायल को अस्पताल लेकर जाने की बात कही तो पुलिसवालों ने पहले पैसे लेकर आने को कहा. पैसे लेने के बाद आरोपी पुलिसकर्मियों ने सुबह के चार बजे घायल को परिजनों के हवाले किया. लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी. इससे पहले की परिजन घायल को अस्पताल लेकर पहुंचते उसकी मौत हो चुकी थी. इस मामले के सामने आने के बाद दिल्ली पुलिस ने चारों आरोपी पुलिस कर्मी के खिलाफ विजलेंस जांच शुरू कर दी है. अभी तक की जांच के तहत दो आरोपी पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया है.

यह भी पढ़ें: बदमाशों ने घर के सामने पिस्टल लहराकर की ताबड़तोड़ फायरिंग, सीसीटीवी फुटेज आया सामने

गौरतलब है कि इस तरह का यह कोई पहला मामला नहीं है. इससे पहले कुछ वर्ष पहले मुंबई से भी एक ऐसा ही मामला सामने आया था. जहां रात के अंधेरे में कुछ पुलिसकर्मी एक होटल में दाखिल हुए थे. आरोप है कि इन्होंने अपने साथी के साथ झड़प का बदला लेने होटलकर्मियों को बुरी तरह मारा पीटा था. इस मामले में तीनों पुलिसवालों को निलंबित कर दिया गया था. हुआ यूं था कि 50 साल पुराने संदेश होटल में शाहू नगर पुलिस स्टेशन में तैनात एक पुलिसकर्मी से होटल स्टाफ की झड़प हुई था. होटलकर्मियों का कहना था कि आरोपी पुलिसवाला होटल के बाहर सादी वर्दी में शराब पीने के बाद फालूदा खा रहा था.

यह भी पढ़ें: दिल्ली : आरएसएस के नेताओं की हत्या की साजिश रचने वाले तीन गिरफ्तार

होटल के काम करने वाले उसे देखकर हंस पड़े, बस इतनी सी बात पर दोनों पक्षों में झगड़ा शुरू हो गया था. होटल वालों को पता नहीं था कि आरोपी पुलिसकर्मी है, लिहाज़ा बात बढ़ने पर उन्होंने भी उसे पीट दिया. इसके बाद पुलिसवाला अपने साथियों के साथ होटल के पिछले दरवाज़ा से अंदर दाखिल हुआ और उन्होंने बेरहमी से होटलकर्मियों को पीटना शुरू कर दी थी. मारपीट में 4-5 होटल स्टाफ को गंभीर चोट आई थी. यह पूरा वाकया होटल में लगे सीसीटीवी कैमरे में क़ैद हो गया था, जिसमें दिख रहा था कि कैसे पुलिसकर्मी होटल के पिछले दरवाज़े से ताला तोड़कर अंदर घुस रहे हैं. 

VIDEO: दिल्ली पुलिस ने मानव तस्कर को किया गिरफ्तार.

 

 

टिप्पणियां

 

 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement