NDTV Khabar

दिल्ली में पटाखे की बिक्री पर बैन के बाद दुकानदारों ने दीं कुछ ऐसी प्रतिक्रियाएं

इस साल पटाखा मुक्त दिवाली के सुप्रीम कोर्ट के आदेश की खबर यहां थोक बाजार में जंगल में आग की तरह फैल गई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली में पटाखे की बिक्री पर बैन के बाद दुकानदारों ने दीं कुछ ऐसी प्रतिक्रियाएं

प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली: इस साल पटाखा मुक्त दिवाली के सुप्रीम कोर्ट के आदेश की खबर यहां थोक बाजार में जंगल में आग की तरह फैल गई. बड़े और छोटे दुकानदारों ने इस फैसले पर नाराजगी एवं निराशा जाहिर की. दिल्ली में बड़े पटाखा बाजारों में से दो सदर बाजार और जामा मस्जिद के दुकानदारों ने कहा कि इस फैसले से करोड़ों का नुकसान होगा, जिससे उनकी दिवाली खराब हो गई. पुरानी दिल्ली के संकरी गलियों के बीच स्थित दोनों बाजारों में यह खबर तेजी से फैली. यहां पर करीब 20 रुपये की कीमत वाले पटाखों की लड़ियों से लेकर 1,000 रुपये और उससे अधिक की कीमत वाले पटाखे तक मिलते हैं.

यह भी पढ़ें : पटाखे बेचने पर प्रतिबंध मौलिक अधिकार का हनन, कारोबारियों ने सरकार से की रिव्यू पिटीशन की मांग

जामा मस्जिद में पटाखा बेचने वाले अमित जैन ने कहा, 'पूरे एनसीआर में सभी तरह के डीलर्स प्रभावित हुए हैं. यह प्रतिबंध पिछले साल 2016 में लगाया गया था और करीब 20 दिन पहले अस्थायी रूप से यह हटा लिया गया था. अब पुराने माल का क्या करें?' एसएनडब्ल्यूए के प्रमुख हरजीत सिंह छाबड़ा ने बताया कि करीब करोड़ों रुपये का नुकसान होगा. छाबड़ा के मुताबिक, दिल्ली-एनसीआर में पटाखा बेचने के लिए पहले ही 500 अस्थायी लाइसेंस जारी किए गए थे. इसमें से सदर बाजार में 24 हैं. इनमें वो लोग शामिल नहीं हैं, जिनके पास स्थायी लाइसेंस है. सदर बाजार के एक दुकानदार ने कहा, 'परमाणु हथियारों पर प्रतिबंध लगे, पटाखों पर नहीं.'

टिप्पणियां
VIDEO : दिल्ली में इस बार मनेगी 'साइलेंट' दिवाली
एक अन्य दुकानदार ने कि ऐसे में तो दिल्ली में दिवाली पर ही बैन लगा देना चाहिए.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement