NDTV Khabar

351 सड़कों पर सीलिंग मामला: MCD अधिकारियों ने AAP के दावे को सही ठहराया

दिल्ली नगर निगम के आला अधिकारियों ने 351 सड़कों पर सीलिंग मामले में AAP के दावे पर मोहर लगाई और बीजपी का दावा गलत ठहराया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
351 सड़कों पर सीलिंग मामला: MCD अधिकारियों ने AAP के दावे को सही ठहराया

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. MCD अधिकारियों ने AAP के दावे को सही ठहराया
  2. अधिकारियों ने बीजेपी के दावे को गलत ठहराया
  3. दिल्ली विधानसभा में एमसीडी पर बनी समिति ने बैठक की थी
नई दिल्ली: दिल्ली नगर निगम के आला अधिकारियों ने 351 सड़कों पर सीलिंग मामले में AAP के दावे पर मोहर लगाई और बीजपी का दावा गलत ठहराया है. दिल्ली विधानसभा में एमसीडी पर बनी समिति ने बुधवार को सीलिंग पर एक बैठक की, जिसमें तीनों नगर निगम के आयुक्त और दिल्ली के शहरी विकास मंत्रालय की सचिव को बुलाया गया था. इन बैठक की खासियत ये रही कि शायद पहली बार विधानसभा की समिति की बैठक मीडिया के लिए खोली गई. बैठक की अध्यक्षता कर रही आप विधायक भावना गौड़ ने सबसे पहले दिल्ली सरकार के शहरी विकास मंत्रालय की सचिव रेणु शर्मा से पूछा कि 351 सड़कों के नोटिफिकेशन मामले में क्या अपडेट हैं. मामला कहां तक पहुंचा? 

यह भी पढ़ें:  दिल्ली : सीलिंग से व्यापारियों को जल्द मिल सकती है राहत, मास्टर प्लान में होगा बदलाव

दिल्ली के शहरी विकास मंत्रालय की प्रमुख सचिव रेणु शर्मा ने बताया कि '351 सड़कों का प्रॉपर सर्वे MCD ने हमको करवाकर नही दिया.' इसके बाद बारी-बारी तीनों निगम कमिश्नर से पूछा गया कि आखिर उन्होंने अब सर्वे करवाकर क्यों नही दिया? नार्थ MCD कमिश्नर मधुप व्यास ने कहा कि 'हमने 2007 का सर्वे दिया था लेकिन शहरी विकास मंत्रालय उसको सत्यापित करने कह रहा है तो हम इसको देखकर दोबारा भेजेंगे.'  जबकि ईस्ट MCD कमिश्नर रणवीर सिंह ने कहा कि हमने पहले सर्वे कराकर भेजा था, लेकिन अब उसको सत्यापित करना है तो रिकार्ड्स देखने मे समय लगेगा. वहीं, साउथ एमसीडी आयुक्त पुनीत गोयल ने कहा कि हमने 2006 में सर्वे रिपोर्ट भेजी थी जिससे दिल्ली सरकार संतुष्ट नहीं थी'

यह भी पढ़ें: सीलिंग के मुद्दे पर BJP-AAP में तकरार, मनोज तिवारी ने अरविंद केजरीवाल पर लगाए ये गंभीर आरोप

नगर निगम कमिश्नर जब 2007 में सर्वे के रिकार्ड्स को सत्यापित करने की ज़िम्मेदारी से बचते दिख रहे थे और दिल्ली सरकार पर ही सवाल उठाते दिख रहे थे कि आखिर वो सर्वे को सत्यापित करने की बात क्यों कर रही है तो शहरी विकास मंत्रालय सचिव ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का आदेश है, जब तक प्रॉपर सर्वे नही होगा तब तक सड़कों को नोटिफाई नही करना. रेणु शर्मा ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में हम कुछ लेकर जाएंगे तो उसको पुख्ता तो होना चाहिए. तीनों नगर निगम कमिश्नर कब तक अपना ठोस प्रस्ताव दिल्ली सरकार को जमा कराएंगे इसका कोई ठोस आश्वासन उन्होंने नही दिया.
इसके बाद आप विधायक सौरभ भारद्वाज ने पूछा कि 'आजकल सुनने में आ रहा है और आरोप भी लग रहे हैं कि 351 सड़कों पर सीलिंग होनी शुरू हो गई है. तो आपके पास कुछ आंकड़े हैं कि इन 351 सड़कों पर कितनी दुकान सील हुई?' जवाब में तीनों MCD कमिश्नर ने कहा इन 351 सड़कों पर कोई एक भी सीलिंग नही हुई. 

यह भी पढ़ें: सीलिंग के मुद्दे पर बीजेपी नेताओं का सीएम केजरीवाल के घर के बाहर धरना, विजेंद्र गुप्ता ने दर्ज कराई मारपीट की शिकायत

टिप्पणियां
दिल्ली में चल रही सीलिंग में वैसे तो बीजपी सबसे ज़्यादा घिरी हुई है. लेकिन 351 सड़कों को नोटिफाई करने का मुद्दा ऐसा है जिसमे वो आम आदमी पार्टी को घेरने में लगी हुई है. बीजपी का आरोप है कि आम आदमी पार्टी की दिल्ली सरकार ने 351 सड़कों को नोटिफाई नही किया, जिससे वहां सीलिंग हो गई, जबकि आप दावा कर रही है कि MCD ने अभी तक प्रस्ताव ही ठीक से नही दिया साथ ही इन सड़कों पर कोई सीलिंग नही हुई. MCD और दिल्ली सरकार के अधिकारियों ने इस बैठक में AAP का दावा सही और बीजपी का दावा गलत ठहरा दिया.

VIDEO: दिल्ली: सीलिंग पर व्यापारियों को राहत के संकेत
विधानसभा की समिति की बैठक अब सोमवार को शाम 4 बजे होगी. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement