NDTV Khabar

दिल्‍ली: दूसरी पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट में हुआ खुलासा, 'भूख' से ही हुई थी तीन बच्चियों की मौत

दिल्ली के मंडावली में एक ही परिवार की तीन बच्चियों की मौत भूख से ही हुई. सूत्रों के मुताबिक, दूसरे पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में भी मौत की वजह भुखमरी ही बताई गई है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्‍ली: दूसरी पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट में हुआ खुलासा, 'भूख' से ही हुई थी तीन बच्चियों की मौत

दिल्ली के मंडावली में एक ही परिवार की तीन बच्चियों की भूख से हुई मौत

नई दिल्ली: दिल्ली के मंडावली में एक ही परिवार की तीन बच्चियों की मौत भूख से ही हुई. सूत्रों के मुताबिक, दूसरे पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में भी मौत की वजह भुखमरी ही बताई गई है. दूसरा पोस्टमॉर्टम जीटीबी अस्पताल में कराया गया.  लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल में कराए गए पहले पोस्टमॉर्टम में भी मौत की वजह भूख बताई गई थी. उनके शरीर में अन्न का एक दाना भी नहीं मिला था. इधर, मामला सामने आने के बाद दिल्ली सरकार ने न्यायिक जांच के आदेश दे दिए हैं. एसडीएम इस मामले की पड़ताल कर रहे हैं. वहीं पुलिस अपनी अलग जांच कर रही है. इस बीच डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया आज पीड़ित परिवार के घर जाएंगे. 

भूख से तीन बच्चियों की मौत पर सियासत भी शुरू हो गई है. दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी ने ट्वीट कर कहा है कि ये घटना डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के इलाके में हुई है. आम आदमी पार्टी की सरकार में आज भी आम आदमी की भूख के कारण मौत हो रही है. शर्म करो. मनोज तिवारी भी आज पीड़ित परिवार से मिलने मंडावली भी गए. उन्‍होंने पीड़ित परिवार को 50 हज़ार रुपये की मदद देने का ऐलान किया है, जिसमे से 10 हज़ार रुपये कैश दिए. 

लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल के एमएस डॉक्टर अमित सक्सेना ने एनडीटीवी से कहा कि तीनों बच्चियों का शारीरिक ढांचा ही बता रहा था कि को कुपोषण का शिकार हुई हैं. ढांचा एक मंकी की तरह हो गया था. मौत की वजह कुपोषण और भूख थी. पीएम दोबारा हुआ है तो ठीक है और डिटेल्स में हो जाएगा वो टॉक्सिक वगैरा भी देख लेंगे. ऐसे मामलों में विसरा सैंपल लेने की कोई जरूरत नहीं होती, क्योंकि कोई फाउल प्ले पीएम में नहीं दिखा. 

भूख से आठ साल की मानसी, चार साल की शिखा और दो साल की पारुल का शव मंडावली में एक कमरे से बरामद हुआ था. पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चला कि तीनों की मौत मंगलवार को तड़के हुई और मौत की वजह है कुपोषण. बच्चियों के शव के पोस्टमार्टम में खाने का एक भी अंश नहीं मिला. डॉक्टरों के मुताबिक, उन्हें सात-आठ दिन से खाना नहीं मिला था.

यह भी पढ़ें : मध्य प्रदेश में हर दिन मर रहे हैं 61 बच्चे, वजह जान दहल जाएगा दिल

इन बच्चियों की मां वीणा की हालत मानसिक रूप से ठीक नहीं है. उसके मुताबिक बच्चियों को कई दिन से उल्टियां आ रही थीं इसलिए खाना नहीं दिया. वीणा ने बताया कि उन्होंने (बच्चियों) कई दिन से खाना नहीं खाया था. उनको उल्टी और खांसी हो रही थी.

90d8r3fc
बच्चियों की मां वीणा.

बच्चियों के पिता मंगल सिंह बचपन में दिल्ली के होटलों में बर्तन धोते थे, फिर मजदूरी करने लगे. वे कुछ सालों से रिक्शा चला रहे थे. उनके दोस्त नारायण यादव के मुताबिक कुछ दिन पहले उनका रिक्शा चोरी हो गया तो उनके मकान मालिक ने उन्हें घर से निकाल दिया, क्योंकि रिक्शा उसी का था. बीते शनिवार को नारायण ने अपने एक कमरे के घर में मंगल सिंह के परिवार को भी रख लिया.

यह भी पढ़ें : दुनियाभर में भूख से मरने की कगार पर पहुंचने की वालों की संख्या 12 करोड़ 40 लाख

नारायण यादव ने बताया कि जब मंगल को घर से निकाल दिया तो बारिश हो रही थी. बारिश में बच्चे कीचड़ में पड़े होंगे तो हर किसी को दया आ जाती है, फिर ये तो मेरा दोस्त था, इसलिए मैं बच्चों को अपने घर ले आया.

86cbl4dg
दिल्ली के मंडावली में स्थित वह कमरा जिसमें बच्चियां भूख के कारण मर गईं.

अपने परिवार को नारायण के यहां छोड़कर मंगल नए काम की तलाश में निकल गए और अब तक उनका पता नहीं है. इसी बीच तीनों बेटियों की मौत हो गई. पड़ोसियों के मुताबिक उन्हें अगर पता होता कि बच्चियों को खाना नहीं मिल रहा है तो वे जरूर खिलाते, लेकिन यह परिवार दो दिन पहले ही यहां आया था, इसलिए उन्हें परिवार के बारे में ज्यादा पता नहीं है.

यह भी पढ़ें : राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने बच्चों की मौत पर झारखंड सरकार से रिपोर्ट मांगी

टिप्पणियां
पूर्वी दिल्ली के डीसीपी पंकज कुमार ने बताया कि ''इसमें हमने मेडिकल बोर्ड के लिए रिक्वेस्ट किया है. जिससे दुबारा हम सही कारण पता लगा पाएं.''

इस मामले में दिल्ली सरकार ने मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दे दिए हैं. यह जानकारी दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने ट्वीट करके दी है.
 

मंडावली में तीन बच्चियों की मौत की घटना की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए हैं। यह परिवार दो दिन पहले ही मंडावली में एक मकान में रह रहे किराएदार के यहां मेहमान आया था।
घटना के पहले से ही बच्चियों के मजदूर पिता काम पर गए थे जो लौटे नहीं हैं। मां भी पहले से मानसिक बीमार हैं।

— Manish Sisodia (@msisodia) July 25, 2018

VIDEO : भूख ने ले ली मासूमों की जान
इस घटना को लेकर कई सामाजिक संगठन सरकार से बेहद नाराज हैं. 'बचपन बचाओ आंदोलन' के निदेशक प्रोग्राम राकेश सेंगर ने कहा कि ''यह घटना शर्मसार करने वाली है. संसद से कुछ किलोमीटर की दूरी पर ऐसा हुआ. सरकार को शर्म आनी चाहिए. हर जिले में चाइल्ड प्रोटेक्शन कमेटी होती है जो बच्चों की पढ़ाई, पोषण और उनकी सुरक्षा का ध्यान रखती है. वो क्या कर रही है? यह घटना बेहद शर्मनाक है.''


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement