NDTV Khabar

दिल्ली के 'दरवाजे' अब भी बंद नहीं, शीला दीक्षित और अरविंद केजरीवाल की मुलाकात, क्या बनेगी गठजोड़ की बात?

सीएम केजरीवाल (Arvind Kejriwal) और दिल्ली कांग्रेस प्रभारी शीला दीक्षित (Sheila Dikshit) के बीच यह मुलाकात उपराज्यपाल अनिल बैजल के घर पर आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान हुई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली के 'दरवाजे' अब भी बंद नहीं, शीला दीक्षित और अरविंद केजरीवाल की मुलाकात, क्या बनेगी गठजोड़ की बात?

खास बातें

  1. उपराज्यपाल के घर पर हुई मुलाकात
  2. अरविंद केजरीवाल और शीला दीक्षित ने की बात
  3. गठबंधन को लेकर अटकलें तेज
नई दिल्ली:

लोकसभा चुनाव 2019 (Loksabha Election 2019) से पहले पार्टियों के बीच गठबंधन का दौर जारी है. राजधानी में गुरुवार को इस बाबत दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) और पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित (Sheila Dikshit) के बीच मुलाकात हुई. इस दौरान दोनों एक दूसरे से गर्म जोशी के साथ मिले. शीला दीक्षित ने इस दौरान अरविंद केजरीवाल का हाथ पकड़ा और उनसे बात भी की. सीएम केजरीवाल (Arvind Kejriwal) और दिल्ली कांग्रेस प्रभारी शीला दीक्षित (Sheila Dikshit) के बीच यह मुलाकात उपराज्यपाल अनिल बैजल के घर पर आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान हुई. इस मुलाकात के बाद से ही दोनों पार्टियों के बीच लोकसभा चुनाव के मद्देनजर गठबंधन की अकटलें लगाई जाने लगी हैं. गौरतलब है कि अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) और उनकी पार्टी एक समय शीला दीक्षित के धुर विरोधी थे और उन्होंने शीला दीक्षित को सत्ता से हटाने के नाम पर ही अपनी राजनीतिक पारी की शुरुआत की थी. कुछ महीने पहले अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने किसान रैली के दौरान स्टेज साझा किया था. उसके बाद से ही कांग्रेस और आप के बीच लोकसभा चुनाव से पहले गठबंधन के कयास लगाए जाने लगे थे.

सीएम केजरीवाल के धरने के बीच दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने दी उन्हें यह सलाह.. 


ध्यान हो कि कुछ दिन पहले ही अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि पीएम मोदी को सत्ता से हटाने के लिए लोकसभा चुनाव बाद भले ही उन्हें किसी को भी समर्थन देना हो लेकिन वह नरेंद्र मोदी को पीएम नहीं बनने देंगे. अरविंद केजरीवाल ने बीते दिनों पश्चिम बंगाल में आयोजित एक महारैली में हिस्सा लिया था. इस दौरान अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि मोदी और शाह ने पांच साल में इस देश में जहर फैला दिया. जो पाकिस्तान 70 साल में नहीं कर पाया. उन्होंने कहा था कि यह जोड़ी देश को बर्बाद कर देगी. मैं जितना सोचता हूं उतना ही कांपने लगता हूं. अगर यह जोड़ी 2019 में दोबारा आ गई तो देश को बर्बाद कर देंगे. यह देश के टुकड़े -टुकड़े कर देंगे. केजरीवाल ने अपील की कि हमें मोदी और अमित शाह की जोड़ी को दिल्ली की सत्ता से उखाड़ कर फेंकना है. 

ममता के मंच से गरजे अखिलेश: मोदी सरकार CBI और ED से गठबंधन कर रही है |

अमित शाह के एक बयान का हवाला देते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा था कि अभी कुछ दिन पहले अमित शाह ने एक रैली में बोला था कि अगर 2019 में भाजपा की सरकार दोबारा बन गई तो हम 50 साल तक रहेंगे. ये दोनों देश का संविधान बदल देंगे. जो हिटलर ने किया था, वही मोदी और शाह की मंशा है. वह इस देश से लोकशाही और जनतंत्र खत्म करना चाहते हैं. कुछ भी करो, मगर इस जोड़ी को दोबारा सत्ता में मत आने दो. उन्होंने आगे कहा था कि मोदी नहीं तो कौन होगा. मैं उनसे कहता हूं कि 2019 का चुनाव प्रधानमंत्री बनाने का चुनाव नहीं, मोदी और शाह को भगाने का चुनाव है. इस देश में जो सच्चा भक्त है, जो भारत के लिए सोचता है, वह एक देश बात ठान लो, कुछ भी करो, जो भी करना पड़े, मोदी-शाह को भगाओ. दोस्तों याद रखो. मोदी और शाह जाने वाले हैं, अच्छे दिन आने वाले हैं. 

VIDEO: दिल्ली कांग्रेस की प्रभारी बनी शीला दीक्षित.

 

 

टिप्पणियां

 

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement