NDTV Khabar

जामिया मिल्लिया इस्लामिया में स्वास्थ्य सेवा एवं वास्तुकला संगम ‘कॉन्फ्लूयन्स 18 ‘ का सफल आयोजन

जामिया मिल्लिया इस्लामिया (जेएमआई) में “कॉन्फ्लूयन्स 18’ स्वास्थ्य सेवाएं एवं वास्तुकला संगम”  के बैनर तले एक राष्ट्रीय संगोष्ठी का सफल आयोजन हुआ.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जामिया मिल्लिया इस्लामिया में स्वास्थ्य सेवा एवं वास्तुकला संगम ‘कॉन्फ्लूयन्स 18 ‘ का सफल आयोजन

जामिया मिल्लिया इस्लामिया में 'कॉन्फ्लूयन्स 18’ का सफल आयोजन.

नई दिल्ली:

जामिया मिल्लिया इस्लामिया (जेएमआई) में “कॉन्फ्लूयन्स 18’ स्वास्थ्य सेवाएं एवं वास्तुकला संगम”  के बैनर तले एक राष्ट्रीय संगोष्ठी का सफल आयोजन हुआ, जिसमें आर्किटेक्टचर, इंजीनियरिंग और स्वास्थ्य क्षेत्र से जुड़ी जानी मानी हस्तियों ने हिस्सा लिया. इस संगोष्ठी को विश्वविद्यालय के आर्किटेक्चर एवं एक्सिटिक्स विभाग और धर्मशिला नारायणा सुपर स्पेशीऐलिटी अस्पताल ने मिल कर किया. कॉन्फ्लूयन्स 18 में आर्किटेक्चर और स्वास्थ्य सेवाएं मुहय्या कराने वालों को एक दूसरे की ज़रुरतों को समझने पर खास चर्चा हुई. साथ ही इस बात पर भी ज़ोर दिया गया कि स्वास्थ्य सेवाओं का ऐस भरोसेमंद ढांचा कैसे विकसित किया जाए जो आम आदमी को भी सस्ती और स्तरीय सेवाएं मुहैय्या करा सके.
 
यह भी पढ़ें: जामिया मिल्लिया इस्लामिया के छात्रों की सुविधा के लिए दो नए पोर्टल शुरू
  
संगोष्ठी के पहले सत्र की अध्यक्षता जेएमआई के रजिस्ट्रार ए.पी. सिद्दीक़ी और धर्मशिला नारायण सुपरस्पेशलिटी अस्पताल के निदेशक डॉ. अंशुमन कुमार ने की. हेलिक्स हेल्थ केयर आर्किटेक्चर के प्रमुख आर्किटेक्ट रंग इमेई इसके मुख्य अतिथि थे. इस राष्ट्रीय संगोष्ठी का मुख्य लक्ष्य वास्तुकला तथा स्वास्थ्य सेवा से जुड़े लोगों को क़रीब लाना है, जिससे कि आर्किटेक्चर और अस्पताल चलाने वाले एक दूसरे की जरुरतों को और अच्छी तरह समझ सकें. संगोष्ठी में देश भर के नामी गिरामी आर्किटेक्ट और अस्पताल चलाने वालों ने एकजुट होकर अपने अनुभवों को पेश किया.
    
यह भी पढ़ें: भारत के सर्वश्रेष्ठ नेचुरल साइंसेज़ संस्थानों में जामिया मिल्लिया इस्‍लामिया 9वें स्थान पर

टिप्पणियां

“नई स्वास्थ्य सेवाओं का वास्तुकला में प्रभाव”  नामक विषय पर हुए पैनल डिस्कशन में वास्तुकला और अस्पतालों से जुड़े 20 विशेषज्ञों ने हिस्सा लिया. इसमें हिस्सा लेने वालों में निति आयोग की पीएचपी उर्वशी प्रसाद, एसपीए, दिल्ली के प्रो. अनिल देवना, अपोलो अस्पताल (असम) के सीईओ डॉ. सुधाकर मानव, एम्स के डॉ. प्रणय सिन्हा, एचओएसएमएसी के आर. नंदिनी बज़ाज़, रक्षा मंत्रालय में एडीजी मईएस माला मोहन, एनओयूएस के डॉ. के. बी. सूद, बीओसी के सीईओ डॉ. अशीष गुप्ता, एचओएसएमएसी विशाल इंदुरख्या, आईआईटी रूढ़की के डा सोनल अत्रेया, डॉ. एल के हीरानंदानी अस्पताल के डॉ. नीरज दीपक, एचटीएफई के दिनेशक ए सी वर्मा, जेएमआई डेंटिस्ट्री के प्रमुख डॉ. सरनजीत भसीन, वीएस कुकरेजा एंड एसोसिएट के निदेशक वी एस कुकरेजा, जेएमआई के सिविल इंजीनियरिंग के खालिद मोईन और जीबीडी की प्रिंसपल आर्किटेक्ट शिखा शर्मा.


VIDEO: शिक्षा व्‍यवस्‍था को लेकर हम कितने गंभीर?
जेएमआई आर्किटेक्चर एवं एक्सिटिक्स विभाग के प्रमुख प्रोफेसर एस एम अख्तर और डीन हिना ज़िया ने कहा है कि संगोष्ठी से छात्रों को काफी कुछ सीखने को मिलेगा. संगोष्ठी में क्यूएआई के सीईओ बी के राना, हेल्थ फाइनेंस एंड पालिसे मेकिंग, जयपुर के प्रदीप अग्रवाल, रॉयल यूनिवसर्टी ऑफ भूटान के प्रो लांबा, आर. हेल्थ के डायरेक्टर एच एस रत्ती और सीएएडी चेन्नई के वी वी कुमार सहित बड़ी तादाद में विशेषज्ञों ने हिस्सा लिया. 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement