पहला प्लास्टिक मुक्त बाजार घोषित हुआ दिल्ली का टैगोर गार्डन फल और सब्जी बाजार

केंद्र सरकार ने लोगों से सिंगल यूज प्लास्टिक का इस्तेमाल न करने के लिए कहा है और जल्द ही देश भर में इस पर पूरी तरह से बैन लगने जा रहा है.

पहला प्लास्टिक मुक्त बाजार घोषित हुआ दिल्ली का टैगोर गार्डन फल और सब्जी बाजार

प्रतीकात्मक फोटो

खास बातें

  • सिंगल यूज प्लास्टिक बैन की है सरकार की योजना
  • 2 अक्टूबर से अभियान होगा तेज
  • पर्यावरण के लिए खतरा बन रहा है प्लास्टिक प्रदूषण
नई दिल्ली:

दक्षिण दिल्ली नगर निगम (SDMC) ने प्लास्टिक विरोधी अभियान को गति देते हुए सोमवार को टैगोर गार्डन फल एवं सब्जी बाजार को "पहला प्लास्टिक मुक्त बाजार" घोषित कर दिया. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. महापौर सुनीता ने कहा कि एसडीएमसी ने इस बाजार को प्लास्टिक मुक्त बाजार घोषित करके मिसाल कायम की है और "पर्यावरण के अनुकूल और टिकाऊ विकल्पों के उपयोग को बढ़ावा देकर" प्लास्टिक कचरे को कम करने का लक्ष्य रखा गया है. इस मौके पर एसडीएमसी की स्थायी समिति के अध्यक्ष भूपेन्द्र गुप्ता, पश्चिमी क्षेत्र समिति के अध्यक्ष कैलाश सांकला, स्थानीय पार्षद सुषमा चोपड़ा, उपायुक्त श्रीश शर्मा और अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे. 

NDTV से बोले केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान, सिंगल यूज प्लास्टिक पर चरणबद्ध तरीके से लगेगी रोक

मालूम हो केंद्र सरकार ने लोगों से सिंगल यूज प्लास्टिक का इस्तेमाल न करने के लिए कहा है. साथ ही अब इस पर पूरी तरह से बैन लगने जा रहा है. पर्यावरण बचाने की दिशा में चलाए जा रहे इस अभियान को महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती से गति प्रदान की जाएगी. 

दिल्ली : सिंगल यूज प्लास्टिक पर पाबंदी के कारण इससे जुड़े कारोबारी परेशानी में

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

बैन होने वाली चीजों की लिस्ट में कैरी बैग(50 माइक्रोन से कम), बिना बुना कैरी बैग, छोटी रैपिंग/पैकिंग फिल्म, तिनके और डंठल, कटलरी,  फोम वाले कप प्याले, कटोरे और प्लेट, लेमिनेट किये गये बाउल और प्लेट, छोटे प्लास्टिक कप और कंटेनर(150 एमएल और 5 ग्राम से कम), प्लास्टिक स्टिक और इयर बड्स, गुब्बारे, झंडे और कैंडी, सिगरेट के बट्स, फैलाया हुआ पौलिस्ट्रिन, पेय पदार्थों के लिए छोटे प्लास्टिक  पैकेट(200 एमएल से कम) और सड़क के किनारे बैनर (100 माइक्रोन से कम) शामिल है. (इनपुट-भाषा)

खबरों की खबर: प्लास्टिक बैन पर कितनी तैयार है सरकार?