NDTV Khabar

दिल्ली में ISIS के तीन संदिग्ध गिरफ्तार, बड़ी साजिश के फिराक में थे आतंकी

पुलिस ने आरोपियों की पहचान अब्दुल समद, ख्वाजा मोईनुद्दीन और सैयल अली नवाज के रूप में की गई है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली में ISIS के तीन संदिग्ध गिरफ्तार, बड़ी साजिश के फिराक में थे आतंकी

प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली:

दिल्ली पुलिस ने ISIS के तीन संदिग्ध आतंकियों को गिरफ्तार किया. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के अनुसार तीनों आतंकी राजधानी में किसी बड़ी साजिश को अंजाम देने की फिराक में थे. स्पेशल सेल को मुखबीर से सूचना मिली थी कि ये तीनों आंतकी वजीराबाद इलाके में आने वाले हैं. इस सूचना पर काम करते हुए पुलिस ने बताई गई जगह की घेराबंदी की. कुछ समय के इंतजार के बाद पुलिस को तीन संदिग्ध लोगों पर शक हुआ. पुलिस की टीम ने तीनों को रुकने को कहा लेकिन वह पुलिस को देखकर मौके से भागने लगे.

राष्ट्रपति भवन की तरफ मार्च कर रहे JNU के छात्रों पर लाठीचार्ज, कई छात्रों को पुलिस ने लिया हिरासत में

पुलिस ने उन्हें पकड़ना चाहा तो उन्होंने पुलिसटीम पर फायरिंग शुरू कर दी. पुलिस ने जवाबी कार्यवाई करते हुए तीनों को मौके से गिरफ्तार कर लिया. संदिग्धों के पास से पुलिस को 9 एमएम की पिस्टल भी बरामद हुई है. पुलिस की पूछताछ में आरोपियों ने माना कि वह आईएसआईएस से जुड़े हुए हैं. पुलिस ने आरोपियों की पहचान अब्दुल समद, ख्वाजा मोईनुद्दीन और सैयल अली नवाज के रूप में की गई है.


दिल्ली सिविल लाइंस मर्सिडीज कांड: आरोपी पर नाबालिग की तर्ज पर चलेगा केस, SC ने HC के फैसले से सही बताया

स्पेशल सेल के डीसीपी प्रमोद कुशवाहा ने बताया कि गिरफ्तार तीनों संदिग्ध दक्षिण भारत के ISIS मोड्यूल के सदस्य हैं. इन तीनो पर हिन्दू नेता केपी सुरेश कुमार की हत्या का भी आरोप है. इस मामले में तीनों जेल में बंद थे और इन्हें कुछ दिन पहले ही सशर्त जमानत मिली थी लेकिन ये तीनो अपने कुछ साथियों के साथ मिलकर 12 और 13 दिसम्बर को तमिलनाडु से भाग निकले, इनमे से पकड़ में आये तीन सीधे नेपाल पहुंच गए. वहां करीब 15 से 20 दिन रहने के बाद तीनों दिल्ली वापस आए. दिल्ली आने से पहले से ही ये ख़्वाजा अपने आईएस के आका के संपर्क में था. साथ ही 2017 में तमिलनाडु में इन्होंने एमआर गांधी की हत्या की कोशिश भी की थी. 

टिप्पणियां

JNU हिंसा पर बोले लद्दाख से BJP सांसद- लोकतंत्र का सदुपयोग करो, दुरुपयोग नहीं

पुलिस के मुताबिक, जांच में पता चला है कि तीनो एक विदेशी हैंडलर के संपर्क में थे और उसी के कहने पर दिल्ली आए थे. गुरुवार सुबह ये तीनों वज़ीराबाद इलाके में अपने एक साथी से मिलने जा रहे थे.पुलिस के मुताबिक, स्पेशल सेल की पकड़ में आया ख्वाजा मोईनुद्दीन आईएस के विदेशी हैंडलर के संपर्क में था. इसे जिम्मेदारी दे रखी थी उत्तर भारत मे ISIS को फिर से खड़ा करने की. इसीलिए ख्वाजा को नेपाल से भारत वापस बुलाया गया. ख्वाजा पूर्वी उत्तर प्रदेश के कई इलाकों से होते हुए दिल्ली पहुंचा. दिल्ली आने के बाद उसने एक कमरा किराए पर लिया, लेकिन इस दौरान पुलिस को इसकी मूवमेंट की जानकारी मिल गई थी. पुलिस को ये खबर मिल चुकी थी कि तीनों को हथियार भी आई एस के आका ने दिलवा दिया था. इनके निशाने पर दिल्ली और एनसीआर के अलावा पूरा उत्तर भारत था. पुलिस के मुताबिक, गिरफ्त में आये ख्वाजा के साथियों ने ही पिछले बुधवार के दिन ही केरल के सीमावर्ती इलाके में एक इंस्पेक्टर विल्सन की भी हत्या की है. दिल्ली पुलिस के इनपुट पर इनके चौथे साथी जाफर को गुजरात पुलिस ने गुजरात से पकड़ा है, उसे भी दिल्ली लाया जाएगा.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... काजल राघवानी के प्यार में खेसारी लाल यादव बने 'कबाड़ी', घर के सामने खड़े होकर किया यह तमाशा- देखें Video

Advertisement