NDTV Khabar

सीटें बेचकर पैसा कमाने वाले प्राइवेट स्कूल, मुनाफा कमाना है तो जलेबी बेचो : मनीष सिसोदिया

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सीटें बेचकर पैसा कमाने वाले प्राइवेट स्कूल, मुनाफा कमाना है तो जलेबी बेचो : मनीष सिसोदिया

मनीष ने कहा है कि प्राइवेट स्कूल भी 10-15 लाख में नर्सरी क्लास की सीट्स बेचते हैं

नई दिल्ली:

दिल्ली सरकार ने शिक्षा नीति में सुधार के अपने मिशन पर निजी स्कूलों की मनमानी के खिलाफ कड़ा रुख अपनाते हुए उन्हें मुनाफे के लिए जलेबी बेचने की नसीहत दी है.

दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री एवं शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने ट्वीट करके कहा, 'नर्सरी एडमिशन मामले में कुछ प्राइवेट स्कूल जैसे तर्क दे रहे हैं उससे साफ है कि सरकार की गाइड लाइंस से सीट बेचने का इनका धंधा चौपट हो रहा है.'

उन्होंने आगे कहा कि कौन नहीं जानता है कि दिल्ली में सरकारी जमीन पर बने हुए बहुत से प्राइवेट स्कूल भी 10-15 लाख में नर्सरी क्लास की सीट्स बेचते हैं. मनीष ने कहा कि वह इन शिक्षा की दुकानों के शिकार अभिभावकों के लिए लड़ रहे हैं. दिल्ली सरकार स्कूल में सीट बेचने के धंधे के ख़िलाफ़ है.

अंत में शिक्षा मंत्री ने ऐसे स्कूलों के जलेबी बेचने की सलाह तक दे डाली, 'सीट बेचने वाले प्राइवेट स्कूलों को मेरा सुझाव है कि अगर मुनाफ़े का धंधा ही चलाना है तो शिक्षा बेचने की जगह जलेबी बेच लें.'
 

बता दें कि दिल्ली सरकार ने गैर-सहायता प्राप्त निजी अल्पसंख्यक स्कूलों के प्रवेश नियमों के संबंध में जारी परिपत्र पर दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा रोक लगा दी है. अदालत ने कहा कि 'आप' सरकार को निजी संस्थानों पर प्रवेश नियम थोपने का प्रयास करने से पहले अपने स्कूलों का निर्माण करना चाहिए.

अदालत की टिप्पणी के बाद मनीष सिसोदिया ने अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए निजी स्कूलों को जलेबी बेचने की सलाह दी है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement