NDTV Khabar

शादी अमान्य होने तक पति को देना होगा पत्नी को गुजारा भत्ता :अदालत

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश जगदीश कुमार ने कहा, ‘मेरा यह मानना है कि जब तक पति और पत्नी की शादी समाप्त नहीं हो जाती है तब तक महिला घरेलू हिंसा अधिनियम के तहत लाभ और सुरक्षा की अधिकारी है क्योंकि यह अधिनियम महिला के लिए उदार है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
शादी अमान्य होने तक पति को देना होगा पत्नी को गुजारा भत्ता :अदालत

प्रतीकात्मक तस्वीर

खास बातें

  1. पुरष ने मजिस्ट्रेट अदालत के आदेश को सत्र अदालत में चुनौती दी
  2. महिला इस पुरष से शादी करने से पहले शादीशुदा थी
  3. हिंदू विवाह अधिनियम के तहत इस मामले में तलाक याचिका दायर हो चुकी है
नई दिल्ली : दिल्ली की एक अदालत ने कहा है कि एक शादीशुदा महिला घरेलू हिंसा कानून के तहत तब तक सुरक्षा और लाभ की हकदार रहती है जब तक कि पति-पत्नी की शादी खत्म होने का आज्ञा पत्र नहीं मिल जाता है. सत्र अदालत ने एक पुरष के समक्ष इस कानून को साफ किया है. पुरष ने मजिस्ट्रेट अदालत के आदेश को सत्र अदालत में चुनौती दी थी. अदालत ने पुरष को उससे अलग रह रही पत्नी को इस आधार पर 5,000 रपये अंतरिम गुजारा भत्ता देने का आदेश दिया था कि महिला इस पुरष से शादी करने से पहले शादीशुदा थी.

टिप्पणियां
अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश जगदीश कुमार ने कहा, ‘मेरा यह मानना है कि जब तक पति और पत्नी की शादी समाप्त नहीं हो जाती है तब तक महिला घरेलू हिंसा अधिनियम के तहत लाभ और सुरक्षा की अधिकारी है क्योंकि यह अधिनियम महिला के लिए उदार है. हिंदू विवाह अधिनियम के तहत इस मामले में तलाक याचिका दायर हो चुकी है.’ अदालत ने पुरष की याचिका को यह कहते हुए खारिज कर दिया कि निचली अदालत के आदेश में कुछ भी न्यायविरूद्ध या अनुचित नहीं है. अदालत ने कहा कि गुजारा भत्ता वाला एक अंतरिम आदेश था जिसे मुख्य याचिका के निपटान के समय संशोधित किया जा सकता है.

पुरष ने निचली अदालत के आदेश को यह कहते हुए चुनौती दी थी कि निचली अदालत ने उनकी शादी को लेकर इस तथ्य पर विचार नहीं किया कि महिला के पहले से शादीशुदा होने की वजह से उन दोनों की शादी अमान्य है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement