NDTV Khabar

पीएम नरेंद्र मोदी के मैडिसन स्क्वॉयर वाले भाषण के टेलीकास्ट पर विवाद

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पीएम नरेंद्र मोदी के मैडिसन स्क्वॉयर वाले भाषण के टेलीकास्ट पर विवाद
मुंबई:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पिछले महीने न्यूयॉर्क के मैडिसन स्क्वॉयर में दिए भाषण को महाराष्ट्र में लोकल चैनलों पर दिखाए जाने पर विवाद पैदा हो गया है। महाराष्ट्र में बुधवार को वोटिंग होनी है।

कांग्रेस ने चुनाव आयोग से शिकायत की है कि बहुत से चैनल इस भाषण को दोबारा चला रहे हैं, लेकिन यह नहीं बता रहे हैं कि यह विज्ञापन है। पार्टी ने यह भी आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के तौर पर दिए गए भाषण का बीजेपी दुरुपयोग कर रही है।

बीजेपी के नेता विनय सहस्रबुद्धे ने एनडीटीवी को बताया कि मैडिसन स्क्वॉयर गार्डन में हुआ कार्यक्रम निजी था और साथ ही हमें अपने स्टार प्रचारक के पुराने भाषणों का प्रयोग करने का अधिकार है। मैडिसन में हुआ कार्यक्रम बीजेपी के समर्थकों द्वारा आयोजित किया गया था। यह सरकारी कार्यक्रम नहीं था।

चुनाव के नियमों के मुताबिक, अगर चैनल स्पष्ट तौर पर दिखाते हैं कि यह विज्ञापन है तो इसे चलाया जा सकता है। रविवार को भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आधे घंटे का भाषण मराठी चैनलों पर चला था।

भाषण चलाने वाले एक टीवी चैनल के सूत्रों के मुताबिक, भाषण के दौरान हमने डिस्क्लेमर चलाया और साफ बताया कि यह विज्ञापन है।

बीजेपी नेता सहस्रबुद्धे ने कहा कि यह एक विज्ञापन था। इसके साथ किसी को कोई समस्या नहीं होनी चाहिए। इस पर किया गया खर्चा हमारे खातों में दर्शाया गया है।

कुछ चैनल इसे आज चुनाव प्रचार के आखिरी दिन टेलीकास्ट करेंगे। बीजेपी ने इस कार्यक्रम के लिए अखबारों में विज्ञापन दिया है, जिसका नाम उन्होंने 'द स्पीच दैट्स क्रिएटिंग वेव्स अक्रोस द वर्ल्ड' दिया है।

एनसीपी और कांग्रेस का दावा है कि कुछ चैनलों ने भाषण के दौरान विज्ञापन से जुड़ा कोई चिह्न नहीं दिखाया, जबकि वह पेड न्यूज और प्रचार के तौर पर आता है।

कांग्रेस के नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि जब प्रधानमंत्री विदेश गए थे तो वह 125 करोड़ लोगों के प्रधानमंत्री थे न कि बीजेपी के प्रचारक।

टिप्पणियां


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement