NDTV Khabar

चुनाव डायरी : 'आप' का क्या होगा जनाबे आली

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
चुनाव डायरी : 'आप' का क्या होगा जनाबे आली
वाराणसी:

'मैं बिहार से आया हूं। आप का प्रचार करने। सर किराये पर कमरा लेने गया तो पूछा किस लिए चाहिए। मैंने सही बता दिया कि अरविंद केजरीवाल का प्रचार करने आया हूं। सर उसने हाथ जोड़ा और कहा कि हमारी आपकी विचारधारा एक नहीं है। हम मोदी के साथ हैं। आप कमरा कहीं और ढूंढ़ लीजिए।'

वाराणसी के महमूरगंज में आप का दफ्तर खुला है। जो लड़का यह बात कह रहा था उसके भाव में न तो गुस्सा था न हताशा। सोमवार को भाजपा दफ्तर से निकलकर आप के दफ्तर चला आया। आम आदमी पार्टी के नौजवान कार्यकर्ता एक हारी हुई लड़ाई लड़ रहे हैं। लड़ाई यही होती है। जब आपको पता है कि जीतना मुश्किल है तभी परीक्षा होती है कि आप लड़ते हैं या मैदान छोड़कर भाग जाते हैं। इस लिहाज़ से अगर आप मेरी तरह चुनावी पर्यटन पर निकले हैं तो आपको बनारस में झाड़ू और बैनर लिए दो चार लड़के मिल जाएंगे। तेज़ गर्मी में खुले आसमान के नीचे खड़े लोकतंत्र को समृद्ध करते हुए।

जगह-जगह पर आप के कार्यकर्ता झुंड में दिख जाते हैं। कहीं बहस में जीतते हुए तो कहीं हारते हुए। कोई गिटार बजाते जा रहा है तो कोई टोपी बांटते। भरी धूप में अकेले एक लड़की झाड़ू हाथ में उठाए खड़ी नज़र आई। ये मामूली साहस की बात नहीं है। शायद इन सबके प्रयास का नतीजा है कि लोग भले वोट न दें मगर वे आम आदमी पार्टी की टोपी पहनकर घूमते दिख जाएंगे। इनमें बनारसी भी हैं और बाहरी भी। बाहर से बीजेपी के लिए भी कार्यकर्ता नेता और व्यापारी आए हैं, मगर बीजेपी ने बहुत मेहनत से लोगों के कान में यह बात डाल दी है कि आप के लिए जो वोट मांग रहे हैं वे बाहरी हैं। चुनाव में हमदर्दी की उम्मीद किसी को नहीं होनी चाहिए। इसे तोड़ने के लिए अरविंद केजरीवाल लगातार जनसंपर्क कर रहे हैं। लोगों वोट दे या न दें मगर बनारस की जनता को पता है कि केजरीवाल कौन है। इनकी कमज़ोरी क्या है और ख़ूबी क्या है।

तो हां मैं दफ्तर की बात कर रहा था। यहां आते ही आपको सुविधाओं और साधनों की तलाश में पोस्टर लगे मिलते हैं। चंदा से लेकर गद्दा तक मांगे जा रहे हैं। कोई हरियाणा से आया है तो कोई गोरखपुर से। सब इस नई राजनीति में इंटर्नशिप कर रहे हैं। सुबह से लेकर शाम तक मेहनत कर रहे हैं। कोई अपने पैसे से बिस्किट ला रहा है तो कोई लस्सी। पूरे शहर में आप के ये कार्यकर्ता पैदल चलते दिख जाएंगे।

आम आदमी पार्टी का दफ़्तर जुनून वालों से भरा है। जुनून वाले बीजेपी के भी हैं मगर वहां इस यकीन से भी हैं कि सरकार बन रही है। जीत रहे हैं। आप को कार्यकर्ताओं के पास ऐसा विश्वास नहीं है फिर भी लड़ रहे हैं। लोकतंत्र में लड़ना पहली शर्त है।

आप ने ऐसे कई लड़के लड़कियों को लड़ना सीखा दिया है। मैं इन्हें राजनीति का नया मानव संसाधन कहता हूं। आप इसे राजनीतिक संसाधन भी कह सकते हैं। मोदी ने भी अपनी पार्टी के भीतर और बाहर नया मानव संसाधन तैयार कर दिया है। बीजेपी को भी इसी का लाभ मिल रहा है। बनारस में यह मत पूछिए कि अरविंद जीतेंगे या नहीं, बल्कि यह देखिए कि उनकी टीम कैसे लड़ रही है।

टिप्पणियां


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement