Hindi news home page
होम | आस्था

आस्था

  • देवी दुर्गा के 10 मंत्र, मनोकामना पूरी करने के लिए साधक करते हैं इनका जप
    हिंदू धर्म में देवियों के वर्ग में देवी दुर्गा को शक्ति का अवतार मानकर उनकी आराधना की परंपरा प्राचीन काल से चलती आ रही है. शक्ति के उपासक और साधक को शाक्त कहा जाता है. शक्ति-साधक यानी शाक्त अनेकानेक मंत्रों से देवी दुर्गा और उसके विभिन्न अवतारों और रूपों की उपासना करते हैं.
  • अर्धकुंभ में श्रद्धालुओं को सुविधाएं देने के लिए योगी सरकार कृतसंकल्प: बीजेपी
    भारतीय जनता पार्टी ने कहा कि उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार प्रयाग अर्धकुंभ में श्रद्धालुओं को आवश्यक सुविधाएं मुहैया कराने के लिए कृतसंकल्पित है. भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता मनीष शुक्ला ने कहा, ‘‘उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के अभी कामकाज को शुरू किये एक माह का समय ही बीता है, इस एक माह के समय में मुख्यमंत्री एवं उनकी टीम लोक कल्याण के कार्यो को समर्पित है. प्रयाग में 2019 में लगने वाले अर्धकुम्भ के लिए मुख्यमंत्री ने अभी से व्यापक तैयारियां शुरु कर दी हैं.’’
  • जानिए भगवान विष्णु के 10वें अवतार कल्कि के बारे में ये अनसुनी बातें
    भगवान विष्णु के 10 अवतारों की चर्चा हर हिन्दू धर्मग्रन्थ में हुई है. इनमें से अभी तक केवल 9 अवतार हुए हैं. उनका 10वां अवतार कल्कि के रूप में होगा. समय कब आएगा, यह बताना मुश्किल है, क्योंकि धर्मग्रन्थों में जो समय निर्धारित किया गया है, उसे चिन्हित कर पाना असंभव है.
  • गीता की ये पांच बातें दिलाएंगी हर क्षेत्र में जीत...
    हिंदुओं का मानना है कि गीता में जीवन की हर परेशानी का हल है. और यह सही भी है. मन में कोई भी दुविधा हो, कोई भी सवाल हो या निर्णय लेने में किसी तरह का अंतर्द्वंद ही क्यों न हो, गीता के पास हर मुश्किल का हल है...
  • महाभारत की ये बातें समझ गए, तो कोई आपको हरा नहीं पाएगा...
    हिंदुओं के दो महाग्रंथ हैं- रामायण और महाभारत. दोनों की कथाएं कई तरह की सीख देती हैं. दोनों ही में दी गई सीख और बातें आज के जीवन में भी बहुत ही सहायक हैं. महाभारत से आप कई ऐसी बातें पा सकते हैं, जिन्‍हें अपनाने से आपको कभी हार का सामना नहीं करना पड़ेगा...
  • सबरीमाला मंदिर में महिलाओं की तस्वीरें सामने आने के बाद जांच के आदेश
    केरल सरकार ने सोशल मीडिया पर प्रसारित हो रही उन तस्वीरों को लेकर जांच का आदेश दिया है जिसमें कथित तौर पर कुछ महिलाओं को सबरीमाला भगवान अयप्पा मंदिर में दिखाया गया है जबकि वहां उनके प्रवेश पर प्रतिबंध है.
  • सीता की जन्मभूमि 'सीतामढ़ी' पर हो रहा विवाद, जानें इसके इतिहास को लेकर क्या कहते हैं जानकार
    केंद्रीय संस्कृति मंत्री महेश शर्मा द्वारा राज्यसभा में सीता की जन्मभूमि 'सीतामढ़ी' को लेकर दिए गए बयान के बाद 'वैदेही' की जन्मभूमि को लेकर एक बार फिर नई बहस प्रारंभ हो गई है. कई इतिहासकार इसे आस्था और भावना से जोड़कर देख रहे हैं तो कई जानकारों का स्पष्ट कहना है कि सीतामढ़ी ही मां सीता की जन्मभूमि है.
  • लिंगराज महादेव: इस मंदिर में एक साथ बसते हैं हरि और हर, आनेवाले भक्त की हर इच्छा होती है पूरी
    ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर को मंदिरों का शहर कहा जाता है और यहां के मंदिरों में सबसे बड़ा है लिंगराज महादेव मंदिर. मंदिर में भगवान शिव के साथ श्रीहरि यानि भगवान विष्णु भी विराजमान हैं और यहां हरि-हर की पूजा साथ की जाती है.
  • Easter 2017: आखिर क्यों मनाते हैं यह त्योहार, जानें इसका महत्व और इतिहास
    गुड फ्राइडे के दो दिन बाद मनाया जाने वाले पर्व ईस्टर के दिन नजारा ऐसा ही तो होता है. इस पवित्र रविवार को खजूर इतवार भी कहा जाता है.
  • Good Friday 2017: जानिए क्या है ‘गुड फ्राइडे' और क्या थे ईसा मसीह के अंतिम शब्द
    ईसाई धर्म के प्रवर्तक ईसा मसीह को जिस दिन सलीब (सूली) पर चढ़ाया गया और उन्होंने प्राण त्यागे थे, बाइबिल के अनुसार, उस दिन शुक्रवार यानी फ्राइडे था. इसलिए इस दिन को गुड फ्राइडे मनाया जाता है. यह अंग्रेज़ी कैलेंडर के हिसाब से प्रायः अप्रैल के महीने में पड़ता है. इस दिन ईसा मसीह ने अमानवीय यातनाएं सहते हुए मानवता के लिए अपने प्राण त्याग दिए.
  • बैसाखी उत्सव मनाने के लिए पाकिस्तान पहुंचे 1400 से अधिक भारतीय सिख
    पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में रावलपिंडी जिले के गुरुद्वारा हसल अब्दल में बैसाखी उत्सव मनाने के लिए भारत से 1400 से अधिक सिख बुधवार को लाहौर पहुंचे.
  • बैसाखी 2017 स्पेशल : जानिए इस त्यौहार से जुड़ी वो बातें जिन्हें कम लोग ही जानते हैं
    अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार बैसाखी का त्यौहार हर साल 13 अप्रैल (अधिकांशतः) और कभी-कभी 14 अप्रैल को मनाया जाता है. सवाल उठता है, यह तारीख इतना निश्चित क्यों है? इसका जवाब इतना मुश्किल नहीं है, बस इसे अधिक लोग जानते नहीं है.
  • Happy Bohag Bihu 2017: असम में क्यों लोकप्रिय है ये त्योहार, जानें खास बातें...
    ड्रम और बाजों की गूंज के साथ बोहाग बिहू का हफ्तेभर तक चलने वाला जश्न शुरू हो चुका है. आसाम में मुख्यतौर पर मनाए जाने वाले इस त्योहार को रोंगाली बिहू भी कहते हैं. इस त्योहार के दौरान कई खेलों का आयोजन भी किया जाता है जैसे-बैलों की लड़ाई, मुर्गों की लड़ाई और अण्डों का खेल आदि. 
  • आर्थिक परेशानी से राहत देने लिए भारतीय वास्तुशास्त्र में बताए गए हैं ये उपाय
    आज हर कोई अच्छे से कमाना चाहता है और साथ ही बचत करना चाहता है. लेकिन वर्तमान जिंदगी में महंगाई के साथ खर्चे इतने अधिक हैं कि लोगों के हाथ में आमदनी, सैलरी आदि कब आती है और कब ख़त्म हो जाती है. पता ही नहीं चल पाता. भारतीय वास्तुशास्त्र में इन समस्याओं से बचाव और निजात के लिए अनेक उपाय बताये गए है.
  • कहते हैं, इन प्रश्नावली चक्रों और यंत्रों से मिलता है समस्या का समाधान और सवालों के जवाब
    हिन्दू धर्म के अनेक ग्रंथों में कई तरह के चक्रों और यंत्रों के बारे में विस्तार से उल्लेख किया गया है. जिनमें राम शलाका प्रश्नावली, हनुमान प्रश्नावली चक्र, नवदुर्गा प्रश्नावली चक्र, श्रीगणेश प्रश्नावली चक्र आदि प्रमुख हैं. कहते हैं इन चक्रों और यंत्रों की सहायता से लोग अपने मन में उठ रहे सवालों, जीवन में आने वाली कठिनाइयों आदि का समाधान पा सकते हैं.
  • हनुमान जयंती विशेष: जानिए बजरंग बली हनुमानजी से जुड़ी कुछ सुनी-अनसुनी और रोचक बातें
    हिन्दू धर्म में रामभक्त हनुमान की पूजा-आराधना के लिए मंगलवार का दिन उन्हें समर्पित किया गया है. उत्तर भारत में जहां वे बजरंबली और हनुमान के नाम से अधिक पूजे जाते जाते हैं, वहीं दक्षिण भारत में वे आंजनेय के नाम से अधिक प्रसिद्ध हैं.
  • हनुमान जयंती 2017: सोशल मीडिया पर छाए रहेंगे आज से SMS
    आज पूरे देश में हनुमान जयंती धूमधाम से मनाई जा रही है. यह चैत्र माह की पूर्णिमा को मनाया जाता है. कहते हैं इस दिन हनुमानजी का जन्म हुआ था. पवनपुत्र हनुमान को सर्वशक्तिमान देवता के रूप में पूजा जाता है. श्री राम और रावण के बीच हुए युद्व के दौरान हनुमान जी ने अहम रोल अदा किया था. कहते हैं आंध्रप्रदेश में पूरे एक महीने तक हनुमान जयंती मनाई जाती है. हालांकि, तमिलनाडु में हनुमान जयंती जनवरी-दिसंबर के महीने में मनाई जाती है.
  • हनुमान जयंती: जानिए बजरंगबली को प्रसन्न करने की पूजन विधि और शुभ मुहूर्त
    आज हनुमान जयंती है और बजरंग बली के दर्शन के लिए मंदिरों में भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ा है. ज्योतिषियों का कहना है कि 120 साल बाद यह जयंती ऐसे दिन पड़ी है, जो दुर्लभ संयोग है. इस दिन हनुमान जयंती पूर्ण‍िमा तिथि में पड़ी है, जब चित्रा नक्षत्र है. इस दिन गजकेसरी योग और अमृत योग भी बन रहा है. इस दिन आप हनुमानजी की पूजा कर अपने कष्टों और दुखों को दूर कर सकते हैं. यहां जानिए वो पूजन विधि जिसे अपनाकर आप अष्ट सिद्धि, नौ निधि के दाता हनुमान जी को प्रसन्न कर सकते हैं. 
  • हनुमान जयंती आज, सैकड़ों साल बाद बन रहे हैं ये विशेष योग, जानिए क्या हैं मान्यताएं
    बजरंग बली धीर-वीर परम रामभक्त हनुमान जी के भक्तों के लिए भगवान हनुमान का जन्मदिन यानी उनकी जयंती विशेष महत्त्व रखती है. पंडितों और ज्योतिषियों की मानें तो इस साल की हनुमान जयंती विशेष महत्त्वपूर्ण है. बताया जा रहा है कि 120 सालों के बाद बाद इस साल की हनुमान जयंती पर बड़े ही खास संयोग बन रहे हैं. इसलिए इस दिन हनुमानजी की पूजा-अर्चना से भक्तों पर ख़ास अनुकम्पा होगी.
  • एनआरआई भक्त ने तिरुपति वेंकटेश्वर मंदिर को दान में दी किलो सोने की पादुका
    एक प्रवासी भारतीय ने तिरुमाला में पर्वत पर स्थित भगवान वैंकेटश्वर मंदिर में दो किलोग्राम सोने की पादुका दान में दी, जिसकी कीमत तकरीबन 61 लाख रुपये है.
12345»

Advertisement

Advertisement