गुरु नानक की 551वीं जयंती पर भारत से सिखों का जत्था ननकाना साहिब जाएगा

विदेश मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को कहा, कि गुरु नानक देव की 551वीं जयंती (Guru Nanak's 551st birth anniversary) पर भारत से सिखों का एक जत्था पाकिस्तान स्थित ‘जन्म स्थान गुरुद्वारा ननकाना’ साहिब जाएगा और यह यात्रा 27 नवंबर से एक दिसंबर तक होगी.  

गुरु नानक की 551वीं जयंती पर भारत से सिखों का जत्था ननकाना साहिब जाएगा

गुरु नानक की 551वीं जयंती पर भारत से सिखों का जत्था ननकाना साहिब जाएगा

विदेश मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को कहा, कि गुरु नानक देव की 551वीं जयंती (Guru Nanak's 551st birth anniversary) पर भारत से सिखों का एक जत्था पाकिस्तान स्थित ‘जन्म स्थान गुरुद्वारा ननकाना' साहिब जाएगा और यह यात्रा 27 नवंबर से एक दिसंबर तक होगी.  मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा, कि यात्रा भारत और पाकिस्तान के बीच धार्मिक स्थलों की यात्रा से संबंधित 1974 के द्विपक्षीय प्रोटोकॉल के तहत होगी. डिजिटल संवाददाता सम्मेलन में यह पूछे जाने पर कि क्या गुरु नानक देव की 551वीं जयंती पर सिखों के पाकिस्तान जाने के लिए करतारपुर कॉरिडोर खोला जाएगा, श्रीवास्तव ने कहा, कि इसपर और संबंधित मुद्दों पर मंत्रालय में संबंधित अधिकारियों के साथ चर्चा हुई है. उन्होंने कहा, ‘‘यह निर्णय हुआ है कि गुरु नानक देव जी की 551वीं जयंती पर भारत से सिखों का एक जत्था 27 नवंबर से एक दिसंबर तक के लिए ‘जन्म स्थान गुरुद्वारा ननकाना साहिब' जाएगा.''

Newsbeep

Guru Nanak Jayanti: गुरु नानक ने रखी थी करतारपुर साहिब की नींव, जानिए 10 बातें

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


पिछले कुछ वर्षों में श्रीलंकाई जलक्षेत्र में घुसने के आरोप में पकड़ी गईं मछली पकड़ने वाली अनेक भारतीय नौकाओं को नष्ट करने के श्रीलंका की एक अदालत के फैसले के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘‘हमने खबरें देखी हैं...हम श्रीलंका सरकार के संपर्क में हैं.'' ब्रिटेन से विजय माल्या के प्रत्यर्पण के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘‘हमें बताया गया है कि वहां कोई गोपनीय कानूनी मुद्दा है जिसका समाधान किए जाने की आवश्यकता है और कानूनी मुद्दा पूरा होने के बाद विजय माल्या को भारत को प्रत्यर्पित किया जा सकता है.''



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)