NDTV Khabar

सड़क पर नहीं अब छतों पर अदा की जाएगी नमाज, अलीगढ़ के मुफ्ती ने दिए आदेश

ईद और बकरीद जैसे खास मौकों पर लोग जामा मस्जिद और ईदगाह पर सड़कों पर नमाज अदा करेंगे क्योंकि मस्जिद में भारी भीड़ के मद्देनजर जगह कम पड़ जाती है. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सड़क पर नहीं अब छतों पर अदा की जाएगी नमाज, अलीगढ़ के मुफ्ती ने दिए आदेश

अलीगढ़ के मुफ्ती ने सड़कों के बजाय छतों पर नमाज के आदेश दिए

अलीगढ़:

अलीगढ़ शहर के मुफ्ती मोहम्मद खालिद हमीद ने शहर के सभी मस्जिदों के प्रशासकों को सड़कों की बजाय मस्जिदों की छत पर जुमे की नमाज अदा कराने संबंधी व्यवस्था करने का निर्देश दिया है. इस फैसले से दो समुदायों के बीच टकराव खत्म हो सकता है. समुदाय के सदस्यों के जिला प्रशासनिक अधिकारियों से मुलाकात के बाद शहर मुफ्ती की यह घोषणा सामने आई है, जिन्होंने सड़कों पर सभी धार्मिक गतिविधियों पर प्रतिबंध लगा दिया था. 

मुफ्ती ने पत्रकारों से कहा कि हालांकि सड़कों पर नमाज अदा करने का कोई प्रावधान नहीं है, लेकिन कभी-कभी लोग मस्जिद के अंदर जगह की कमी के कारण ऐसा करते हैं.

उन्होंने कहा, "मैंने सभी मस्जिदों के प्रशासकों को इस बारे में अवगत करा दिया है और आवश्यकता पड़ने पर उन्हें छत पर व्यवस्था करनी होगी."

Shravan Amavasya 2019: 1 अगस्‍त को है श्रावण अमावस्‍या, जानिए हरियाली अमावस की पूजन विधि और महत्‍व


उन्होंने कहा कि ईद और बकरीद जैसे खास मौकों पर लोग जामा मस्जिद और ईदगाह पर सड़कों पर नमाज अदा करेंगे क्योंकि मस्जिद में भारी भीड़ के मद्देनजर जगह कम पड़ जाती है. 

जिला अधिकारी सी. बी. सिंह ने कहा कि विशेष अवसरों के लिए, मस्जिदों या किसी अन्य धार्मिक संस्थान को पूर्व अनुमति लेनी होगी, जो उन्हें प्रदान की जाएगी.

उन्होंने कहा, "अगर किसी को प्रतिबंध का उल्लंघन करते हुए पकड़ा जाता है, तो धर्मस्थल के प्रशासक के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी, चाहे वह किसी भी धर्म का हो. अधिकारी इस तरह के उल्लंघन के वीडियो बनाएंगे."

हरियाली तीज और नाग पंचमी, अगस्त के पहले हफ्ते में मनाए जाएंगे ये दो खास पर्व

सिंह ने कहा कि मुस्लिम नेताओं और महापौर मोहम्मद फुरकान ने भी इस रुख का समर्थन किया है और आश्वासन दिया है कि उनके समुदाय के सदस्य इसका पालन करेंगे.

टिप्पणियां

धार्मिक गतिविधियों पर प्रतिबंध को लेकर अलीगढ़ प्रशासन द्वारा आयोजित बैठक में भाग लेने वाले दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं और हिंदू नेताओं ने कहा कि वे तब तक कुछ नहीं करेंगे जब तक कि दूसरे समुदाय के सदस्य प्रतिबंध का उल्लंघन नहीं करते.

इनपुट-आईएएनएस



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement