NDTV Khabar

Mahalaya Amavasya, ‪Pitru Paksha 2017: खत्‍म हुए श्राद्ध, जानिए कब है अमावस्‍या

Amavasya, ‪Pitru Paksha 2017: महालया अमावस्या के दिन भी उसी प्रकार श्राद्ध किया जाता है जिस प्रकार पितृपक्ष के 16 दिनों में किया जाता है. इस दिन भी घरों में खीर,पूरी बनाई जाती है, पंडित जिमाए जाते हैं और उन्‍हें दक्षिणा और वस्‍त्र दिए जाते हैं. ऐसा भी कहा जाता है कि जिन पूर्वजों की श्राद्ध की तिथि याद न हो उनका श्राद्ध अमावस्‍या के दिन किया जाता है, जिसमें सभी भूले-बिसरे शामिल हो जाते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Mahalaya Amavasya, ‪Pitru Paksha 2017: खत्‍म हुए श्राद्ध, जानिए कब है अमावस्‍या

Amavasya, ‪Pitru Paksha 2017: मुक्तिलोक को विदा हो रहे हैं हमारे पूर्वज

खास बातें

  1. पितृपक्ष पर हमारे पूर्वज धरती पर आते हैं
  2. हिंदू धर्म में श्राद्ध को पवित्र कार्य माना गया है
  3. अमावस्या को यह पूर्वज विदा होकर मुक्तिलोक की ओर प्रस्‍थान कर जाते हैं

श्राद्ध अब हो चुके हैं. अमावस्‍या श्राद्ध का आखिरी दिन होता है. कहा जाता है कि पितृपक्ष पर हमारे पूर्वज धरती पर आते हैं और पितृविसर्जन यानि श्राद्ध पक्ष की अमावस्या को यह पूर्वज विदा होकर मुक्तिलोक की ओर प्रस्‍थान कर जाते हैं. महालया अमावस्या के दिन भी उसी प्रकार श्राद्ध किया जाता है जिस प्रकार पितृपक्ष के 16 दिनों में किया जाता है. इस दिन भी घरों में खीर,पूरी बनाई जाती है, पंडित जिमाए जाते हैं और उन्‍हें दक्षिणा और वस्‍त्र दिए जाते हैं. ऐसा भी कहा जाता है कि जिन पूर्वजों की श्राद्ध की तिथि याद न हो उनका श्राद्ध अमावस्‍या के दिन किया जाता है, जिसमें सभी भूले-बिसरे शामिल हो जाते हैं.

हिंदू धर्म में श्राद्ध को पवित्र कार्य माना गया है, जिसमें परिवार अपने पितरों को याद करते हैं और उनकी शांति के लिए श्राद्ध, तर्पण, पिण्डदान आदि कराते हैं. पितृविसर्जन यानि महालया अमावस्या का पर्व इस बार 20 सितम्बर को पूरे दिन मनाया जाएगा.


क्या है मान्यता

  • माना जाता है कि पितृपक्ष में यमराज हर साल सभी जीवों को मुक्त करते हैं. यमराज ऐसा इसलिए करते हैं ताकी वे जीव अपने लोगों के द्वारा किए जा रहे तर्पण को ग्रहण कर सकें.
  • मान्यता के अनुसार पिृत अपने कुल की रक्षा करते हैं और उन्‍हें हर संकट से बचाते हैं.
  • ऐसा भी कहा गया है कि श्राद्ध को तीन पीढ़ियों तक निभाया जाना चाहिए.
  • मान्यता है कि अगर पिृत नाराज हो जाते हैं, तो जीवन में परेशानियों का सामना करना पड़ता है.
श्राद्ध खत्‍म होने के बाद लोग नवरात्रि पर्व की तैयारियों में जुट जाते हैं. 9 दिन तक चलने वाले नवरात्रि पर्व पर घर-घर में पूजा-अर्चना की जाती है और आंठवे और नौथे कंजके बिठाई जाती हैं.

कौन हैं महिषासुर मर्दिनी

श्राद्ध खत्‍म होते ही नवरात्रि की तैयारियां शुरू हो जाती हैं. नवरात्रों में माता के जिस अवतार की पूजा-अर्चना की जाती है, उसे ही लक्ष्मीस्वरूपा महिषासुर मर्दिनी कहा जाता है. महिषासुर मर्दिनी देवी दुर्गा को कहा गया है. देवी दुर्गा ने ही महिषासुर नामक एक राक्षस का वध करके देवताओं को इससे मुक्ति दिलाई थी.
   


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... Jhund Teaser: अमिताभ बच्चन की 'झुंड' का टीजर रिलीज, 'सैराट' के डायरेक्टर का दिखा पॉवरफुल अंदाज

Advertisement