NDTV Khabar

Bakrid 2018: देशभर में ईद-उल-अजहा का जश्न, पीएम मोदी ने दी बकरीद की बधाई

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी देशवासियों को आज ईद उल अज़हा की शुभकामनाएं दी. साथ ही उम्मीद जताई कि बलिदान का यह त्योहार समाज में करुणा की भावना प्रगाढ़ करेगा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Bakrid 2018: देशभर में ईद-उल-अजहा का जश्न, पीएम मोदी ने दी बकरीद की बधाई

बकरीद का जश्न

नई दिल्ली: Bakrid 2018: आज भारत समेत दुनियाभर के कई हिस्सों में ईद-उल-अजहा का जश्न मनाया जा रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी देशवासियों को आज ईद उल अज़हा की शुभकामनाएं दी. साथ ही उम्मीद जताई कि बलिदान का यह त्योहार समाज में करुणा की भावना प्रगाढ़ करेगा. पीएम मोदी ने बकरीद की बधाई ट्वीटर के जरिए दी, उन्होंने अपनी पोस्ट में लिखा "ईद-उल-जुहा की शुभकामनाएं. यह त्योहार हमारे समाज में करुणा एवं भाईचारे की भावना को प्रगाढ़ करे."  

Eid ul-Adha Mubarak 2018: Facebook और WhatsApp के लिए Bakrid के सबसे शानदार स्टेटस 

सिर्फ पीएम मोदी ही नहीं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ईद-उल-अजहा पर प्रदेशवासियों को बधाई दी. उन्होंने लिखा ईद-उल-अजहा का त्योहार सभी को मिल-जुलकर रहने तथा सामाजिक सद्भाव बनाए रखने की प्रेरणा प्रदान करता है. उन्होंने बकरीद का त्योहार शांति आपसी सद्भाव के साथ मनाने की अपील की. 

Bakrid 2018: कौन थे हजरत इब्राहिम साहेब, बकरीद से क्या है इनका नाता

वहीं, सऊदी अरब में ईद-अल-अजहा 21 अगस्त को मनाई गई. वहां, भारत समेत दुनिया भर से सऊदी अरब आए हजयात्रियों ने हज की आखिरी रस्म अदा की. इस रस्म में मीना में एक परिसर में शैतान के प्रतीक तीन खंभों पर कंकड़ियां फेंकी जाती हैं. मुसलमान मानते हैं कि शैतान ने पैगंबर इब्राहीम को अल्लाह का हुक्म मानने से रोकने की कोशिश की थी. इस रस्म के बाद हज का समापन ईद-अल-अजहा के साथ हो जाता है.

Bakrid 2018: अपने करीबियों को बकरीद पर इन 10 मैसेज के जरिए कहें, 'ईद मुबारक'

टिप्पणियां
हजरत इब्राहीम की कुर्बानी की कहानी
मुसलमानों की मान्यता है कि अल्लाह ने हजरत इब्राहीम को अपनी सबसे कीमती चीज, अपने इकलौते बेटे हजरत इस्माईल को कुर्बान करने को कहा था. हजरत इब्राहीम ने अल्लाह के हुक्म पर अमल करना चाहा लेकिन अल्लाह ने उनके हाथों एक दुंबा कुर्बान करवा दिया और हजरत इस्माईल को बचा लिया. मुसलमान इसकी पैरवी करते हुए ईद-अल-अजहा में जानवरों की कुर्बानी देते हैं. कुर्बानी का गोश्त गरीबों और जरूरतमंदों में बांटा जाता है.

Bakrid 2018: बकरीद पर जानवरों की कुर्बानी क्यों दी जाती है? 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement