NDTV Khabar

सिख गुरु अर्जुन देव से जुड़ी इन बातों को जानते हैं आप...

1.1K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
सिख गुरु अर्जुन देव से जुड़ी इन बातों को जानते हैं आप...
गुरु अर्जुन देव सिखों के दस गुरुओं मे से एक हैं. उन्हें शहीदों का सरताज कहा जाता है. ब्रह्मज्ञानी कहे जाने वाले गुरु अर्जुन देव ने के बारे में ये बातें जानते हैं आप-

गुरु अर्जुन देव बचपन से ही बहुत शांत और पूजा-पाठ करने वाले थे. उनके बचपन में ही गुरु अमरदास जी ने भविष्यवाणी की थी कि वह बहुत बाणी की रचना करेंगे. उन्होंने कहा था- ‘दोहता बाणी का बोहेथा’

1604 में ग्रंथ साहिब का संपादन गुरु अर्जुन देव जी ने ही किया था. इसमें भाई गुरदास ने उनकी सहायता की थी. गुरु अर्जुन देव ने रागों के आधार पर श्री ग्रंथ साहिब जी में वाणियों का  वर्गीकरण किया. श्री ग्रंथ साहिब जी में 36 महान वाणीकारों की वाणियां हैं. श्री गुरु ग्रंथ साहिब के 5894 शब्दों में 2216 श्री गुरु अर्जुन देव जी महाराज के हैं.
---------------------------------

खरीद रहे हैं सोना तो इन बातों का रखें ख्याल...
सफलता और शांति के लिए अपनाएं गौतम बुद्ध के ये 10 विचार
गंगा सप्तमी से जुड़ी मान्यताएं, कथा और रहस्य...
---------------------------------

अकबर की मौत के बाद जब उसका बेटा जहांगीर बादशाह बना, तो उसे गुरु अर्जुन देव जी द्वारा उसके भाई खुसरो की मदद करना कतई पसंद नहीं आया. जहांगीर ने अपनी जीवनी ‘तुजके जहांगीर’ में लिखा भी है कि वह अर्जुन देव जी की लोकप्रियता को पसंद नहीं करता था. उसने इसी के चलते उन्हें शहीद करने का फैसला लिया.

टिप्पणियां
गुरु अर्जुन देव को ‘यासा व सियासत’ के तहत शहीद किया गया. ‘यासा व सियासत’ का मतलब है कि व्यक्ति का खून जमीन पर गिराए बिना उसे तड़पा-तड़पा कर मार देना. लाहौर में 30 मई, 1606 ई. को भीषण गर्मी के दौरान उन्हें लोहे की गर्म तवी पर बैठा कर यातना दी गई. 

गुरु अर्जुनदेव ने अपने जीवनकाल में एक नगर भी बसाया था. इस नगर का नाम तरनतारन रखा गया था.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement