NDTV Khabar

चारधाम राजमार्ग से कॉर्बेट स्मारक को खतरा, हटाया जाएगा ऐतिहासिक आम का पेड़

उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग हिस्से में शिकारी से संरक्षणवादी बने जिम कॉर्बेट की विरासत की याद दिलाता एक पार्क व एक आम का पेड़ के अस्तित्व पर 12,000 करोड़ रुपये के चारधाम राजमार्ग परियोजना की वजह से खतरा मंडरा रहा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
चारधाम राजमार्ग से कॉर्बेट स्मारक को खतरा, हटाया जाएगा ऐतिहासिक आम का पेड़

चारधाम राजमार्ग से कॉर्बेट स्मारक को खतरा.

उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग हिस्से में शिकारी से संरक्षणवादी बने जिम कॉर्बेट की विरासत की याद दिलाता एक पार्क व एक आम का पेड़ के अस्तित्व पर 12,000 करोड़ रुपये के चारधाम राजमार्ग परियोजना की वजह से खतरा मंडरा रहा है. केदारनाथ व बद्रीनाथ की तरफ जाने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग पर लंबा आम का पेड़ ठीक उसी जगह है, जहां कॉर्बेट ने एक आदमखोर तेंदुए को 2 मई 1926 को मार डाला था.

कैलाश मानसरोवर यात्रियों का पहला जत्था उत्तराखंड के मिर्थी ITBP कैंप पहुंचा

आधिकारिक रिकॉर्ड के अनुसार, 'रुद्रप्रयाग के तेंदुए' ने आठ वर्षों में 125 लोगों की हत्या कर दी थी. गुलाबराय का जंगली परिवेश, जहां बड़ी बिल्ली ने ज्यादातर पीड़ितों को शिकार बनाया था, अभी भी डरावनी कहानियों से गुंजायमान है. 

कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिए श्रद्धालुओं का पहला जत्था रवाना


लेकिन एक छोटा सा पार्क जिसमें कॉर्बेट की एक आवक्ष प्रतिमा है, जिसे आदमखोर की हत्या की याद में बनाया गया है। यह खंडहरों के बीच में है. प्रतिमा का चबूतरा बिखरा है और खाली बोतलें और कूड़ा से पार्क में गंदगी फैली है. यह सरकार की उदासीनता का एक मूक प्रमाण है.

यमुनोत्री मंदिर के पुजारियों ने कपड़े से ढंके दान-पात्र, कहा - हमें हिस्सा नहीं मिलता...

टिप्पणियां

रुद्रप्रयाग के सब डिविजनल मजिस्ट्रेट (एसडीएम) बृजेश कुमार तिवारी ने पुष्टि की कि पार्क व पेड़ खतरे में हैं, क्योंकि वे 12,000 करोड़ रुपये की चारधाम राजमार्ग परियोजना के रास्ते में आते हैं. उन्होंने कहा, "अगर राजमार्ग परियोजना का निर्माण होता है तो यह पार्क व पेड़ हटाए जाएंगे."

(इनपुट-आईएएनएस)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement