यूपी के देवरिया में गंगा-जमुनी तहजीब और भाईचारे की मिसाल, 15 मुसलमानों ने शुरू की कांवड़ यात्रा

गोरखपुर मण्डल के देवरिया जिले में गंगा-जमुनी तहजीब और भाईचारे की मिसाल कायम करते हुए करीब 15 मुसलमानों ने कांवड़ थामकर बाबा धाम की यात्रा शुरू की.

यूपी के देवरिया में गंगा-जमुनी तहजीब और भाईचारे की मिसाल, 15 मुसलमानों ने शुरू की कांवड़ यात्रा

प्रतीकात्मक तस्वीर

लखनऊ:

गोरखपुर मण्डल के देवरिया जिले में गंगा-जमुनी तहजीब और भाईचारे की मिसाल कायम करते हुए करीब 15 मुसलमानों ने कांवड़ थामकर बाबा धाम की यात्रा शुरू की. देवरिया के रामपुर कारखाना स्थित कुशाहरी गांव में 70 कांवड़ियों ने बिहार स्थित बाबा धाम की यात्रा शुरू की. इनमें 15 मुस्लिम भी शामिल हैं. ये श्रद्धालु पहले बस से बिहार के सुल्तानगंज पहुंचते हैं और वहां गंगा से पानी लेकर करीब 140 किलोमीटर दूर झारखण्ड के जसीडीह स्थित बाबा धाम मंदिर में पैदल जाकर जल चढ़ाते हैं.

उत्तर प्रदेश: कांवड़ यात्रा के दौरान राज्यभर में मांस-मदिरा की बिक्री पर रोक, सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

ग्राम प्रधान निजाम अंसारी की पहल पर अन्य मुस्लिम लोगों ने भगवा वस्त्र धारण कर अपने खर्च पर कांवड़ यात्रा में शिरकत की. कांवड़ियों की बस को झंडी दिखाकर रवाना किया गया. अंसारी ने संवाददाताओं से कहा कि वह चाहते हैं कि गांव के सभी लोग सभी धर्मों से जुड़े आयोजनों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लें, ताकि वे एक-दूसरे के और करीब आयें तथा समाज की सेवा के ज्यादा से ज्यादा अवसर मिलें. 

सावन से पहले ही 'बोल बम' की गूंज.. खेसारी लाल, पवन और कल्लू के कांवरिया गाने सुपरहिट

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

इस कांवड़ यात्रा को हरी झंडी दिखाने वाले समाजसेवी डॉ. संजीव शुक्ला ने बताया कि कुशाहरी गांव में गंगा-जमुनी तहजीब की वास्तविक मिसाल पेश की गयी है. भाईचारा मजबूत करने के लिये यह बहुत अच्छा कदम है. खुशी है कि दोनों समुदायों के लोग प्रेम और एकता की नयी मिसाल कायम कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि समाज को इससे प्रेरणा लेनी चाहिये तथा किसी भी तरह की नफरत को भुलाकर शांति और प्रेम को अपनाना चाहिये.
 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)