कोर्ट का आदेश, सावन में नहीं खोले जाएंगे बाबा बैद्यनाथ मंदिर के कपाट, श्रद्धालु ऑनलाइन कर सकेंगे दर्शन

अदालत ने सरकार को कहा कि इसमें तो कोई कठिनाई नहीं होनी चाहिए. उन्होंने श्रद्धालुओं की भावना को देखते हुए उनके धर्म के प्रति आस्था को देखते हुए ऑनलाइन दर्शन सावन के पूरे महीने कराने का आदेश दिया है.

कोर्ट का आदेश, सावन में नहीं खोले जाएंगे बाबा बैद्यनाथ मंदिर के कपाट, श्रद्धालु ऑनलाइन कर सकेंगे दर्शन

कोविड-19 के चलते नहीं खोलेंगे जाएंगे बैद्यनाथ मंदिर के कपाट.

रांची:

कोरोनावायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के चलते, सावन (Sawan) के पवित्र महीने में बाबा बैद्यनाथ धाम मंदिर (Baba Baidyanath Dham Mandir) के श्रद्धालुओं ऑनलाइन दर्शन को कराए जाएंगे. सावन के पवित्र महीने में पूजा को लेकर हाई कोर्ट ने आदेश दिया है. मुख्य न्यायाधीश डॉ. रवि रंजन, न्यायाधीश सुजीत नारायण प्रसाद की अदालत में शुक्रवार को मामले पर सुनवाई हुई. अदालत ने सभी पक्षों को सुनने के उपरांत सरकार के पक्ष को देखते हुए यह माना कि इस स्थिति इतने बड़े मेले के आयोजन का नहीं किया जा सकता है. 

उन्होंने याचिकाकर्ता के आग्रह को देखते हुए मंदिर में वर्चुअल जिसे ऑनलाइन दर्शन कहते हैं, वैष्णो देवी और बालाजी की तर्ज पर शुरू करने का आदेश दिया है. अदालत ने सरकार को कहा कि इसमें तो कोई कठिनाई नहीं होनी चाहिए. उन्होंने श्रद्धालुओं की भावना को देखते हुए उनके धर्म के प्रति आस्था को देखते हुए ऑनलाइन दर्शन सावन के पूरे महीने कराने का आदेश दिया है.

गौरतलब है कि इससे पूर्व शुक्रवार को झारखंड उच्च न्यायालय ने श्रावण मास में देवघर में भगवान वैद्यनाथ धाम एवं वासुकीनाथ के मंदिर को भक्तों के दर्शनार्थ खोले जाने के संबंध में दायर इस जनहित याचिका पर सुनवाई के दौरान राज्य सरकार से पूछा था कि वह स्पष्ट करें कि श्रावण में इस पवित्र मंदिर को भक्तों के लिए खोलने की उसकी योजना है या नहीं? श्रावण माह में देवघर के वैद्यनाथ और वासुकीनाथ मंदिर खोलने और कांवड़ यात्रा शुरू करने के मामले पर उच्च न्यायालय ने झारखंड सरकार और बिहार सरकार से जवाब मांगा था.

(इनपुट भाषा से भी)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com