धनतेरस 2018: सोने की शुद्धता और कीमत पहचानने का आसान फॉर्मूला, साथ ही जानिए असली-नकली में फर्क भी

Monday, 5 November, Dhanteras 2018 in India: सरकार बेशक हॉलमार्क के विज्ञापनों के जरिए लोगों को जागरुक करने की कोशिश करे, लेकिन बावजूद कई लोग सुनारों के झांसे में आ जाते हैं.

धनतेरस 2018: सोने की शुद्धता और कीमत पहचानने का आसान फॉर्मूला, साथ ही जानिए असली-नकली में फर्क भी

सोने की शुद्धता और कीमत जानने का आसान फॉर्मूला

नई दिल्ली:

Dhanteras 2018: धनतेरस के मौके पर हज़ारों लोग सोना खरीदते हैं. मान्यता है कि इस दिन सोना खरीदना शुभ माना जाता है. इसी वजह से दिवाली और देवुत्थान एकादशी (देव उठनी) के बाद होने वाली शादियों के लिए इसी दिन सोने-चांदी के गहनों की खरीददारी कर ली जाती है. इसी कारण सोने से जुड़े काफी हेरा-फेरी के मामले भी सामने आते हैं. सरकार बेशक हॉलमार्क के विज्ञापनों के जरिए लोगों को जागरुक करने की कोशिश करे, लेकिन बावजूद कई लोग सुनारों के झांसे में आ जाते हैं. इस धनतेरस आपके साथ ऐसा ना हो इसीलिए यहां जानिए असली और नकली सोना पहचानने की ट्रिक्स के साथ इसकी शुद्धता पहचाने के कुछ आसान तरीके भी. 

ये है धनतेरस की तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और कथा, जानिए इस दिन क्‍या खरीदें और क्‍या नहीं?

सोने की शुद्धता ऐसे पहचानें
सबसे प्योर सोना 24 कैरेट (99.9 प्रतिशत शुद्ध) होता है. लेकिन इससे कभी भी जूलरी नहीं बनती. क्योंकि यह बहुत मुलायम होता है. सोने को अलग-अलग शेप में लाने के लिए सोने में मेटल मिक्स किया जाता है. इसीलिए बाज़ारों में 23, 22 और 18 जैसे कैरेट की जूलरी मिलती हैं. आप जूलरी पर लिखे हॉलमार्क से सोने के कैरेट को पहचान सकते हैं :

24 कैरेट- 99.9 फीसदी सोना
23 कैरेट- 95.8 फीसदी सोना
22 कैरेट- 91.6 फीसदी सोना (हमारी स्किन के लिए सबसे बेहतर 22 कैरेट का सोना होता है)
21 कैरेट- 87.5 फीसदी सोना 
18 कैरेट- 75.0 फीसदी सोना
17 कैरेट- 70.8 फीसदी सोना
14 कैरेट- 58.5 फीसदी सोना 
9 कैरेट-  37.5 फीसदी सोना

इसकी जानकारी आप भारतीय मानक ब्यूरो (Bureau of Indian Standards) की वेबसाइट http://www.bis.org.in/cert/hallbiscert.htm पर जाकर भी देख सकते हैं. 

धनतेरस के दिन घर के बाहर क्‍यों जलाया जाता है यम के नाम का दीपक, जानिए यहां

सोने की शुद्धता समझने के लिए हमेशा अपनाएं ये फॉर्मूला :

कैरेट ÷ 24 × 100

मान लें आपकी जूलरी 22 कैरेट की है तो (22 ÷ 24 × 100) हुए 91.6, तो आपकी सोने की शुद्धता है 91.6 प्रतिशत बाकी 8.34 फीसदी उसमें धातु मिली हुई है. जो कि जूलरी को शेप में लाने के लिए जरूरी है. 

ऐसे समझें सोने की कीमत 

10 ग्राम 24 कैरेट सोने की कीमत 32,885 है और आप 22 कैरेट की जूलरी खरीद रहे हैं तो इसकी कीमत निकालने के लिए इस फॉर्मूला को देखें. 

(जूलरी की कीमत × ग्राम में उसका वज़न + मेकिंग चार्जेज़ + 3 प्रतिशत GST) आप इस फॉर्मूल से जूलरी की सही कीमत निकाल सकते हैं.  

10 ग्राम सोने की कीमत - 32,885 (इसे 10 से भाग देने पर 1 ग्राम की कीमत होगी 3,288 रुपये)
22 कैरेट यानी (9.16 सोने) की कीमत होगी = 3,288 × 9.16 = 30,118 रुपये
अब इसमें सुनार के मेकिंग चार्जेज़, 3 प्रतिशत GST को जोड़ें - मान लें मेकिंग चार्जेज़ है 10 प्रतिशत, तो 30,118 का दसवां हिस्सा हुआ 3,011 (30,118 + 3,011 = 33,129) अब इस कुल राशि का 3 प्रतिशत हुआ 993 रुपये. तो टोटल हुआ 34,122 रुपये.

आपको 22 कैरेट की 10 ग्राम की जूलरी 34,122 रुपये में मिलेगी. यही फॉर्मूला सभी कैरेट की जूलरी पर लागू होता है. आप किसी भी कैरेट का सोना खरीदें, कीमत निकालने के लिए यही फॉर्मूला लगेगा. 

इसीलिए हमेशा ध्यान रखें कि आप किस दाम में कौन-से कैरेट का सोना खरीद रहे हैं. क्योंकि कई बार 18 कैरेट की जूलरी 23 कैरेट के दामों में बेच कर आपके साथ धोखा किया जाता है. इसीलिए हॉलमार्क से जूलरी की गुणवत्ता पहचानें और पक्का बिल जरूर लें.

असली और नकली सोने में ऐसे जानें फर्क :

1. पानी टेस्ट
एक गहरे बर्तन में दो गिलास पानी डालकर उसके सोने के जेवर (जिन्हें चेक करना हो) डालें. अगर इस थाली पर काले निशान पड़ें तो आपका सोना नकली है. वहीं, हल्के सुनहरे रंग के निशान पड़ें तो सोना असली है. 

2. चुंबक टेस्ट
सोना कोई धातु नहीं है इसीलिए यह कभी भी चुंबक पर नहीं चिपकता. वहीं, अगर यह चिपके तो आपका सोना नकली है. 

3. सिरामिक प्लेट टेस्ट
एक सफेट सिरामिक प्लेट लें. इस प्लेट को अपनी जूलरी से रगड़े. ठीक पानी की ही तरह अगर थाली पर काले निखान पड़ें तो आपका सोना नकली है. अगर सुनहरे रंग के निशान पड़े तो आपका सोना नकली है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

4. पसीना टेस्ट
लोहे या किसी भी धातु से अगर पसीना चिपके तो उसके गंध आने लग जाती है. लेकिन सोना कितना भी पसीने में रहे, कभी उसमें से बहदू नहीं आएगी.

5. दांतों का टेस्ट
सोने की जूलरी को कुछ देर दांतों के बीच दबाकर रखें. अगर आपका सोना असली है तो उसपर दांतों के निशान दिखाई देंगे. क्योंकि सोना एक बहुत ही नाजुक धातु है. ध्यान रखें कि इस टेस्ट को आराम से करें, वरना आपकी जूलरी टूट सकती है.