NDTV Khabar

रावण की मूर्ति को देखकर यहां की औरतें करती हैं परदा, जानिए क्यों

मध्यप्रदेश के मंदसौर में, जहां रावण की पूजा की जाती है. जहां रावण की मूर्ती को देखकर आज भी महिलाएं पर्दा कर लेती हैं. यहां रावण वध या दहन को लेकर कई मान्यताएं हैं.

306 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
रावण की मूर्ति को देखकर यहां की औरतें करती हैं परदा, जानिए क्यों

मध्यप्रदेश के एक गांव का दामाद है रावण.

खास बातें

  1. मध्यप्रदेश के इस गांव में रावण को देख पर्दा करती हैं महिलाए.
  2. यहां रावण का वध करने के लिए खुद रावण आज्ञा देते हैं.
  3. रावण को दामाद मानता है ये गांव.
नई दिल्ली: दशहरा में रावण जलाने की परंपरा देश में कई जगह निभाई जाती है. इनमें कुछ शहर ऐसे भी हैं जहां रावण के पुतले को या तो अगले दिन जलाया जाता है या जलाने के बजाए उसका वध किया जाता है. ऐसे ही दो शहर एमपी के भी हैं. जहां रावण की पूजा होती है. ये हैं मंदसौर और विदिशा के पास रावणग्राम। यहां रावण वध या दहन को लेकर कई मान्यताएं हैं.

पढ़ें- भारत की 5 जगह जहां राम नहीं रावण की पूजा होती है

मंदसौर के बारे में ऐसा कहा जाता है कि प्राचीन समय में इसका नाम मन्दोत्तरी हुआ करता था. ऐसी मान्यता है कि रावण की पत्नी मंदोदरी मंदसौर की थी, इसी लिहाज से मंदसौर रावण की ससुराल है. मंदसौर में नामदेव समाज की महिलाएं आज भी रावण की मूर्ति के सामने घूंघट करती हैं और रावण के पैरों पर लच्छा (धागा) बांधती हैं.

पढ़ें- ऑफिस में प्रमोशन चाहते हैं तो याद रखें रावण की 3 बातें, सफल होना तय है​
 
ravana

ऐसा माना जाता है कि धागा बांधने से बीमारियां दूर होती हैं. यहां दशहरे के दिन रावण की पूजा की जाती है. हर साल दशहरे पर रावण के पूजन का आयोजन मंदसौर के नामदेव समाज द्वारा किया जाता है. हर साल दशहरे पर नामदेव समाज दशपुर नगरी के दामाद रावण की पूजन करती हैं. सुबह पूजा के बाद शाम को ये रावण का प्रतीकात्मक वध करते हैं. मौसम और प्राकृतिक आपदाओं के कारण रावण की प्राचीन प्रतिमा टूट गई थी जिसकी 2003 में स्थानीय प्रशासन ने मरम्मत की थी.

पढ़ें- ये हैं रावण के वो 7 सपने जो रह गए अधूरे​

ऐसे होता है दामाद का वध
- दशहरे के दिन सब लोग खानपुरा के एक मंदिर में इकट्ठे होते हैं.
- मंदिर से रामजी की सेना के रूप में लोग रावण प्रतिमा स्थल पर पहुंचते हैं। प्रतिमा का पूजन कर सुख-समृद्धि की कामना की जाती है. 
- इसके बाद समाज के लोग रावण से प्रार्थना करते हैं कि आप हमारे दामाद हैं लेकिन आपने सीता हरण का अपराध किया इसलिए राम सेना आपका वध करने आई है. कृपया इसकी अनुमति दें. 
- गोधुली बेला होते ही प्रतिमा स्थल पर कुछ देर के लिए अंधेरा कर दिया जाता है. इसके बाद रोशनी कर रावण के वध की घोषणा की जाती है और फिर रामजी की जीत का जश्न मनाते हुए लोग अपने घर लौट जाते हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement