NDTV Khabar

Ganesh Chaturthi 2018: भगवान गणेश की पूजा में नही चढ़ाई जाती तुलसी, जानिए आखिर क्या है वजह

Ganesh Chaturthi 2018: गणेश चतुर्थी (Ganesh Chaturthi) का मौका है और हर घर में गणपति की स्थापना की जा रही है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Ganesh Chaturthi 2018: भगवान गणेश की पूजा में नही चढ़ाई जाती तुलसी, जानिए आखिर क्या है वजह

गणेश जी को तुलसी क्यों नहीं पसंद

खास बातें

  1. माता तुलसी ने की तपस्या भंग
  2. गणेश जी ने दिया श्राप
  3. विष्णु के शालिग्राम रूप से होती है शादी
नई दिल्ली:

गणेश चतुर्थी (Ganesh Chaturthi) का मौका है और हर घर में गणपति की स्थापना की जा रही है. इस दौरान घरों में भगवान गणेश की मूर्ति का स्वागत बड़ी ही धूमधाम से होता है. पूजा की थाल और उसमें लड्डुओं के साथ बाकी सामग्री रखी जाती है. लेकिन सिर्फ एक चीज़ भगवान गणेश की पूजा थाली में कभी नहीं रखी जाती और वो है तुलसी. विनायक चतुर्थी (Vinayak Chaturthi) के मौके पर जानिए कि आखिर क्यों गणेश जी को तुलसी नहीं चढ़ाई जाती है.  

एक प्रचलित पौराणिक कथा के अनुसार एक बार गणेश जी गंगा किनारे तप कर रहे थे. वहीं, माता तुलसी अपने विवाह की इच्छा को पूरा करने के लिए तीर्थ यात्रा पर थीं. सभी तीर्थस्थलों का भ्रमण करते हुए वह एक दिन गंगा के तट पर आ पहुंची. इस तट पर भगवान गणेश को तप करते देख वह उनपर मोहित हो गई. 

Ganesh Chaturthi 2018: गणेश चतुर्थी आज, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, जन्‍म कथा और महत्‍व


तप के दौरान भगवान गणेश रत्न से जड़े सिंहासन पर विराजमान थे. उनके समस्त अंगों पर चंदन लगा हुआ था. गले में उनके स्वर्ण-मणि रत्न पड़े हुए थे और कमर पर रेशम का पीताम्बर लिपटा हुआ था. उनके इस रूप को देख माता तुलसी ने गणेश जी से विवाह का मन बना लिया. 

Ganesh Chaturthi के इन 10 खास मैसेजेस को भेजकर गणपति भक्तों को दें शुभकामनाएं, और फिर कहें गणपति बप्पा मोरया

उन्होंने गणेश जी की तपस्या भंग कर उनके सामने विवाह का प्रस्ताव रखा. तपस्या भंग करने पर गुस्साए भगवान गणेश ने विवाह प्रस्ताव ठुकरा दिया और कहा कि वह ब्रह्माचारी हैं. इस बात से गुस्साई माता तुलसी ने गणेश जी को श्राप दिया और कहा कि उनके दो विवाह होंगे. इस पर गणेश जी ने भी उन्हें श्राप दिया और कहा कि उनका विवाह एक असुर शंखचूर्ण से होगा. राक्षक की पत्नी होने का श्राप सुनकर तुलसी जी ने गणेश जी से माफी मांगी. 

तब भगवान गणेश ने उन्हें कहा कि वह भगवान विष्णु और कृष्ण जी की प्रिय होने के साथ कलयुग में जगत को जीवन और मोक्ष देने वाली होंगी. लेकिन मेरी पूजा में तुलसी चढ़ाना अशुभ माना जाएगा. उसी दिन से भगवान गणेश जी की पूजा में कभी भी तुलसी नहीं चढ़ाई जाती.  

टिप्पणियां

बता दें, तुलसी भगवान विष्णु को बुहत प्रिय है. इनके एक रूप शालिग्राम से विवाह होता है. हर साल कार्तिक शुक्ल पक्ष की एकादशी के दिन माता तुलसी और भगवान विष्णु का विवाह होता है. यह विवाह हर साल दिवाली के 11 दिन बाद आने वाली एकादशी वाले दिन किया जाता है. ऐसी मान्यता है कि इस दिन भगवान विष्णु चार महीने बाद नींद से जागते हैं. इस दिन को देवउठनी के नाम से भी जाना जाता है. लेकिन तुलसी भगवान गणेश को बिल्कुल पसंद नहीं.
 

गणेश चतुर्थी की सभी खबरें पढ़ें यहां 

Vinayak Chaturthi 2018: कैसे भगवान गणेश की सवारी बना एक छोटा-सा चूहा? पढ़ें पूरी कहानी

Ganesh Chaturthi के इन 10 खास मैसेजेस को भेजकर गणपति भक्तों को दें शुभकामनाएं, और फिर कहें गणपति बप्पा मोरया

Ganesh Chaturthi 2018: गणेश चतुर्थी आज, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, जन्‍म कथा और महत्‍व

गणेश चतुर्थी 2018: जानिए Ganesh Ji को क्यों चढ़ाया जाता है Modak, क्या है महत्व?

Ganesh Chaturthi 2018: 85 साल से यहां बैठते हैं गणपति बप्पा, आशीर्वाद लेने आता है अंबानी परिवार

Happy Ganesh Chaturthi: गणेश चतुर्थी के दिन ऐसा होना चाहिए आपके Facebook और WhatsApp का स्‍टेटस

Ganesh Chaturthi 2018: गणेश चतुर्थी आज, ऐसे करें अपने घर में गणपति की स्थापना

Ganesh Chaturthi 2018: इस बार भगवान गणेश को अपने हाथों से बना चढ़ाएं भोग, यूं झटपट बनाएं मोदक

गणेश चतुर्थी 2018: घर पर ही बनाएं 10 तरह के लड्डू, यहां है विधि

Ganesh Chaturthi 2018: 'गणपति बप्पा मोरया' की हर ओर गूंज, गणेश चतुर्थी पर सुनें बॉलीवुड के जबरदस्त सॉन्ग

सुई-धागा से अनुष्का शर्मा और वरुण धवन ने बनाया 'भगवान गणेश', Video में देखें गणपति का अनोखा रूप

Ganesh Chaturthi 2018: शिल्पा शेट्टी के घर गणपति आगमन की यूं मनीं खुशियां; संजय दत्त के घर भी विराजे गणेश- देखें Video


 देखें वीडियो - श्रीकृष्ण हैं भगवान विष्णु के पूर्ण अवतार​



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement