NDTV Khabar

गीता जयंती 2017: इन 8 बिंदुओं में जनिए संपूर्ण गीता सार

ऐसा माना जाता है कि इस दुनिया के सभी सवालों के जवाब भागवत गीता में छिपे हैं. जब भी कोई व्यक्ति अपने मार्ग से भटके या फिर उसे कोई रास्ता दिखाने वाला न मिले तो गीता के उपदेश अवश्‍य ही उसे रास्‍ता दिखाएंगे.

141 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
गीता जयंती 2017: इन 8 बिंदुओं में जनिए संपूर्ण गीता सार

गीता जयंती के दिन 8 बिंदुओं से जानें गीता सार

खास बातें

  1. गीता में कुल 18 अध्‍याय और लगभग 720 श्‍लोक हैं
  2. आठ बिंदुओं में समझें संपूर्ण गीता सार
  3. दुनिया के सभी सवालों के जवाब गीता में छिपे हैं
नई दिल्ली: आज से पांच हजार साल पहले द्वापर युग में भगवान श्रीकृष्ण ने मोक्षदा शुक्‍ल एकादशी के दिन महान धनुर्धारी पांडु पुत्र अर्जुन को कुरुक्षेत्र के मैदान में जो उपदेश दिया था वह भगवत गीता है. इस दिन को आज संपूर्ण विश्‍व में गीता जयंती के नाम से मनाया जाता है. सबसे बड़े धर्मयुद्ध महाभारत में श्रीकृष्ण ने अर्जुन से जो बातें कहीं थीं उनका महत्‍व आज भी है. भगवत गीता के उपदेश आज भी मनुष्‍य जाति के लिए उतने ही प्रासंगि‍क हैं जितने कुरुक्षेत्र के मैदान में अर्जुन के लिए थे.

ऐसा माना जाता है कि इस दुनिया के सभी सवालों के जवाब भगवत गीता में छिपे हैं. जब भी कोई व्यक्ति अपने मार्ग से भटके या फिर उसे कोई रास्ता दिखाने वाला न मिले तो गीता के उपदेश अवश्‍य ही उसे रास्‍ता दिखाएंगे. श्रीमद्भगवद्गीता दुनिया के वैसे श्रेष्ठ ग्रंथों में है, जो न केवल सबसे ज्यादा पढ़ी जाती है, बल्कि कही और सुनी भी जाती है. कहते हैं जीवन के हर पहलू को भगवत गीता से जोड़कर व्याख्या की जा सकती है.
 
ये भी पढ़ें - गीता जयंती 2017: श्रीमद्भगवद् गीता का जन्‍म, महत्‍व और पूजा व‍िध‍ि

इसे दुर्भाग्‍य ही कहा जाएगा कि कई लोगों के लिए श्रीमद्भगवद्गीता एक मोटी किताब बनकर रह गई है. खासकर युवा वर्ग तो इसके महात्‍म्‍य से पूरी तरह अंजान है. हालांकि कई लोग ऐसे भी हैं जो इसे पढ़ना तो चाहते हैं लेकिन किताब के पन्ने देखकर दूर भागते हैं. यूं तो भागवत गीता में कुल 18 अध्‍याय और 720 श्‍लोक हैं, लेकिन यहां पर हम आपको गीता जयंती के अवसर पर आठ बिंदुओं में संपूर्ण गीता सार बता रहे हैं:

ये भी पढ़ें - जानिए भगवान विष्‍णु से जुड़ी ऐसी 5 बातें जो उन्‍हें बनाती हैं संसार का पालनहार​

1. क्यों व्यर्थ की चिंता करते हो? किससे व्यर्थ डरते हो? कौन तुम्हें मार सकता है? आत्मा ना पैदा होती है, न मरती है.

2. जो हुआ, वह अच्छा हुआ, जो हो रहा है, वह अच्छा हो रहा है, जो होगा, वह भी अच्छा ही होगा. तुम भूत का पश्चाताप न करो. भविष्य की चिन्ता न करो. वर्तमान चल रहा है.

3. तुम्हारा क्या गया, जो तुम रोते हो? तुम क्या लाए थे, जो तुमने खो दिया? तुमने क्या पैदा किया था, जो नाश हो गया? न तुम कुछ लेकर आए, जो लिया यहीं से लिया. जो दिया, यहीं पर दिया. जो लिया, इसी (भगवान) से लिया. जो दिया, इसी को दिया.

4. खाली हाथ आए और खाली हाथ चले. जो आज तुम्हारा है, कल और किसी का था, परसों किसी और का होगा. तुम इसे अपना समझ कर मग्न हो रहे हो. बस यही प्रसन्नता तुम्हारे दु:खों का कारण है.

5. परिवर्तन संसार का नियम है. जिसे तुम मृत्यु समझते हो, वही तो जीवन है. एक क्षण में तुम करोड़ों के स्वामी बन जाते हो, दूसरे ही क्षण में तुम दरिद्र हो जाते हो. मेरा-तेरा, छोटा-बड़ा, अपना-पराया, मन से मिटा दो, फिर सब तुम्हारा है, तुम सबके हो.

6. न यह शरीर तुम्हारा है, न तुम शरीर के हो. यह अग्नि, जल, वायु, पृथ्वी, आकाश से बना है और इसी में मिल जाएगा. परन्तु आत्मा स्थिर है – फिर तुम क्या हो?

7. तुम अपने आपको भगवान को अर्पित करो. यही सबसे उत्तम सहारा है. जो इसके सहारे को जानता है वह भय, चिन्ता, शोक से सर्वदा मुक्त है.

8. जो कुछ भी तू करता है, उसे भगवान को अर्पण करता चल. ऐसा करने से सदा जीवन-मुक्त का आनंन्द अनुभव करेगा.

देखें वीडियो - श्रीकृष्ण हैं भगवान विष्णु के पूर्ण अवतार
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement