Good Friday 2020: गुड फ्राइडे पर पीएम मोदी ने किया प्रभु यीशु का स्‍मरण, कहा- "दूसरों की सेवा में लगा दिया अपना जीवन"

Good Friday: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुड फ्राइडे के अवसर पर ईसा मसीह को याद करते हुए ट्वीट किया है.

Good Friday 2020: गुड फ्राइडे पर पीएम मोदी ने किया प्रभु यीशु का स्‍मरण, कहा-

Good Friday: पीएम मोदी ने गुड फ्राइडे पर ईसा मसीह को याद किया

नई दिल्ली:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुड फ्राइडे (Good Friday) के अवसर पर प्रभु यीशु को याद करते हु कहा कि उन्‍होंने अपनी पूरी जिंदगी दूसरों की सेवा में लगा दी. आपको बता दें कि गुड फ्राइडे ईसाई धर्म के प्रमुख त्‍योहारों में से एक है. ऐसी मान्‍यता है कि इसी दिन पापियों और अत्‍यचारियों ने प्रभु यीशु को सूली से लटका दिया था. 

प्रधानमंत्री मोदी ने गुड फ्राइडे पर ईसा मसीह को याद करते हुए अंग्रेजी में ट्वीट किया है. ट्वीट के मुताबिक, "प्रभु यीशु ने दूसरों की सेवा में अपने प्राण त्‍याग दिए. उनकी बहादुरी, उनका साहस और सत्यता हमेशा अडिग रही और ऐसी ही रही उनकी न्याय के प्रति समझ. गुड फ्राइडे पर हम उन्हें और सत्य के प्रति उनके समर्पण, सेवा और न्याय को याद करते हैं."

Newsbeep

जब प्रभु यीशु को चढ़ाया गया सूली पर
ईसाई धर्म ग्रंथों के अनुसार यीशु का कोई दोष नहीं था फिर भी उन्‍हें क्रॉस पर लटका कर मारने का दंड दिया गया. अपने हत्‍यारों की उपेक्षा करने के बजाए यीशु ने उनके लिए प्रार्थना करते हुए कहा था, 'हे ईश्‍वर! इन्‍हें क्षमा कर क्‍योंकि ये नहीं जानते कि ये क्‍या कर रहे हैं.' जिस दिन ईसा मसीह को क्रॉस पर लटकाया गया था उस दिन फ्राइडे यानी कि शुक्रवार था. तब से उस दिन को गुड फ्राइडे कहा जाता है. क्रॉस पर लटकाए जाने के तीन दिन बाद यानी कि रविवार को ईसा मसीह फिर से जीव‍ित हो उठे थे. इस दिन को ईस्‍टर संडे कहा जाता है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


ईसा मसीह को क्रॉस पर क्‍यों लटकाया गया?
ईसाई धर्म के अनुसार ईसा मसीह परमेश्वर के पुत्र थे. उन्‍हें मृत्‍यु दंड इसलिए दिया गया था क्‍योंकि वो अज्ञानता के अंधकार को दूर करने के लिए लोगों को श‍िक्षित और जागरुक कर रहे थे. उस वक्‍त यहूदियों के कट्टरपंथी रब्‍बियों यानी कि धर्मगुरुओं ने यीशु का पुरजोर विरोध किया. कट्टरपंथ‍ियों ने उस समय के रोमन गवर्नर पिलातुस से यीशु की श‍िकायत कर दी. रोमन हमेशा इस बात से डरते थे कि कहीं यहूदी क्रांति न कर दें. ऐसे में कट्टरपंथ‍ियों को खुश करने के लिए पिलातुस ने यीशु को क्रॉस पर लटकाकर जान से मारने का आदेश दे दिया.