NDTV Khabar

1666 में आज ही के दिन जन्में थे गुरु गोविंद सिंह, खालसा पंथ के थे संस्थापक

गुरु गोविन्द सिंह ने सिखों की पवित्र ग्रन्थ गुरु ग्रंथ साहिब को पूरा किया और उन्हें गुरु रूप में सुशोभित किया. बिचित्र नाटक को उनकी आत्मकथा माना जाता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
1666 में आज ही के दिन जन्में थे गुरु गोविंद सिंह, खालसा पंथ के थे संस्थापक

गुरु गोविंद सिंह

खालसा पंथ की स्थापना करने वाले गुरु गोविंद सिंह का जन्म 22 दिसंबर को 1666 को पटना साहिब में हुआ था. गुरु गोविंद सिंह सिखों के 10वें गुरु के रूप में जाने जाते हैं. सिख धर्म में गुरु गोविंद सिंह को शौर्य और अध्यात्मिक ज्ञान के प्रतीक के तौर पर माना जाता है. अपने जीवन में गुरु गोविंद सिंह शौर्य और बलिदान के लिए जाने जाते हैं. जिसको लेकर हर साल प्रकाश पर्व भी मनाया जाता है.

अपने पिता गुरु तेग बहादुर की मृत्यु के उपरान्त 11 नवम्बर सन 1675 को वे गुरु बने थे. गुरु गोविंद सिंह एक महान योद्धा और कवि भी थे. 1699 में गुरु गोविंद सिंह ने बैसाखी के दिन अपने 5 शिष्यों को लेकर खालसा पंथ की स्थापना की थी. जीवन में आगे बढ़ने के लिए गुरु गोविंद सिंह ने लोगों को शिक्षा देते हुए कई सीख भी दी.

दसम ग्रन्थ
गुरु गोविन्द सिंह ने सिखों की पवित्र ग्रन्थ गुरु ग्रंथ साहिब को पूरा किया और उन्हें गुरु रूप में सुशोभित किया. बिचित्र नाटक को उनकी आत्मकथा माना जाता है. यही उनके जीवन के विषय में जानकारी का सबसे महत्वपूर्ण स्रोत है. यह दसम ग्रन्थ का एक भाग है. दसम ग्रन्थ, गुरु गोविन्द सिंह की कृतियों के संकलन का नाम है.
 
सर्वस्वदानी
शौर्य के लिए पहचाने जाने वाले गुरु गोविंद सिंह ने मुगलों या उनके सहयोगियों (शिवालिक पहाडियों के राजा) के साथ 14 युद्ध लड़े. धर्म के लिए समस्त परिवार का बलिदान उन्होंने किया, जिसके लिए उन्हें 'सर्वस्वदानी' भी कहा जाता है. इसके अतिरिक्त जनसाधारण में वे कलगीधर, दशमेश, बाजांवाले आदि कई नाम, उपनाम और उपाधियों से भी जाने जाते हैं.

टिप्पणियां


संत सिपाही
कवि तौर पर अपनी पहचान रखने वाले गुरु गोविंद सिंह विद्वानों के संरक्षक थे. उनके दरबार में 52 कवियों और लेखकों की मौजूदगी रहती थी, इसीलिए उन्हें 'संत सिपाही' भी कहा जाता था. वे भक्ति और शक्ति के अद्वितीय संगम थे. गुरु गोविंद सिंह हमेशा प्रेम, एकता और भाईचारे के पक्षधर थे.
 
आस्था से जुड़ी अन्य खबरों के लिए क्लिक करें.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement